सम्राट अशोक: मेरठ से दिल्ली से लंदन तक

मेरठ

 27-02-2018 12:11 PM
मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

मेरठ की प्राचीनता के बारे में कोई दुमत नहीं हो सकता।

आज तक जो पुरातात्विक अन्वेषण और उत्खनन हुए हैं तथा हो रहे हैं उनसे और मेरठ के गली कूंचे में खड़े इतिहास के साक्ष्य इस शहर की भारत के इतिहास में जो बेहद महत्वपूर्ण जगह हैं उसे उजागर करते हैं।

हड़प्पा काल, महाभारत काल, इस्लामी शासन, भारत के दोनों स्वातंत्र्य संग्राम का समय इन सभी के साथ यहाँ पर मिले सम्राट अशोक के शिलालेखों की वजह से मेरठ का इतिहास और भी महत्वपूर्ण हो जाता है।

मेरठ में अशोक का एक शिलालेख स्तंभ था जो अब दिल्ली एवं लंदन पहुँच गया है। अशोक का शिलालेख स्तंभ 6, फिरोजशाह तुग़लक़ मेरठ से दिल्ली ले आये थे। यह बलुआ पत्थर का बना स्तंभ फिरोजशाह ने दिल्ली के उत्तरी टीले के नजदीक उनके शिकार के स्थान के पास चौबुर्जी मस्जिद और बड़ा हिन्दू राव अस्पताल के यहाँ रखवाया। कहा जाता है की इस स्तंभ के परिवहन के लिए 42 पहियों की गाड़ी से उसे पहले यमुना के किनारे लाया गया फिर नौकाओं के जरिये दिल्ली में। इस स्तंभ की ऊँचाई 33 फीट थी लेकिन फ़र्रुख़सियर के राज्यकाल में एक विस्फोट में इसके टुकड़े हो गए थे। इन टुकड़ों को पहले एशियाटिक सोसाइटी, बंगाल में लाया गया था मात्र 1886 में इसे दिल्ली वापस लाया गया और 1887 में इसे फिरसे खड़ा किया गया। सम्राट अशोक के इस 6वे शिलालेख का एक हिस्सा लंदन के ब्रिटिश म्यूजियम में है। यह इंडियन म्यूजियम, लंदन में सन 1880 तक रखा गया था जो फिर ब्रिटिश म्यूजियम में हस्तांतरित किया गया।

प्रस्तुत चित्र में दिल्ली में रखे गए इस अशोक स्तंभ के हैं जिसमे दुसरे चित्र में आप इस स्तंभ के टुकड़े के जोड़ आसानी से देख सकते हैं तथा प्रथम चित्र में इस स्तंभ का इतिहास लिखा गया है।

1.https://en.wikipedia.org/wiki/Ashokan_Edicts_in_Delhi#Delhi-Meerut_pillar 2.https://www.cs.colostate.edu/~malaiya/ashoka.html 3.http://asi.nic.in/asi_books/5282.pdf 4.https://archive.org/stream/InscriptionsOfAsoka.NewEditionByE.Hultzsch/HultzschCorpusAsokaSearchable_djvu.txt 5.http://www.learn.columbia.edu/indianart/pdf/asoka_thapar.pdf 6.https://archive.org/stream/inscriptionsaso00hultgoog/inscriptionsaso00hultgoog_djvu.txt



RECENT POST

  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM