मेरठ में कचरा नामक भस्मासुर

मेरठ

 23-02-2018 12:47 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

कचरा प्रमुखता से दो प्रकार का होता है; जैवनिम्नीकरण और अजैवनिम्नीकरण जो उसके अपघटन के तरीके के अनुसार विभाजित किया है।

अजैवनिम्नीकरण कचरा: यह वो कचरा होता है जो प्राकृतिक रीती और तरीकों से सडनशील हो। इसमें सूरज की किरणे, पानी, प्राणवायु और सूक्ष्म जीव-जंतु कचरे को नष्ट कर सकते हैं। इनमे फल, फूल,पत्ते तथा उनके छिलके, मानव, प्राणी, पक्षी के कलेवर और अपशिष्ट ऐसी प्राकृतिक चीज़े होती हैं।

अजैवनिम्नीकरण कचरा: यह वो कचरा होता है जिसका प्रकृति भी विघटन नहीं कर सकती जैसे प्लास्टिक, रबर, केमिकल आदि। अजैवनिम्नीकरण कचरा यह मानव ने पृथ्वी को शहरीकरण तथा अपने विकास के साथ दी हुई खैरात है।

भारत में आज हर दिन तक़रीबन 0.14 मिलियन कचरा रोज़ बनता है। नगरपालिका के अंतर्गत तैयार होने वाले कुल कचरे में से सिर्फ 83% जमा किया जाता है और उसमें से भी सिर्फ 29% ही उपचारित किया जाता है।

भारत में कचरा और उसके निपटान की समस्या नियंत्रण से निकलते जा रही है। शहरीकरण के साथ-साथ बेतरतीब बढती आबादी, नागरिकों और अधिकारीयों की उदासीनता, कचरा निपटान और उपचार के कम साधन यह भारत के हर शहर का सरदर्द बन चूका है।

मेरठ में भी यह समस्या काफी हद तक बढ़ चुकी है। नगर निगम के शिकायत मंच पर नज़र डालें तो हमे अंदाज़ा आ जाता है की मेरठ में कचरे की समस्या कितनी कठिनाईयां ला रही है। वक़्त पर ना उठाने पर कचरा सड़ने लगता है तथा उससे बीमारियाँ, श्वसन विकार बढ़ते हैं। 2016 में राष्ट्रीय हरित अधिकरण ने मेरठ और उत्तर प्रदेश सरकार की मेरठ के कचरे की समस्या को लेकर आलोचना करते हुए नोटिस जारी की थी।

यह बात सही है की कचरे की समस्या का प्रबंधन नगर निगम/ नगर पालिका का यह कर्त्तव्य और काम है मात्र एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते यह हमारा भी कर्त्तव्य है। अगर हम आवासीय सुखा कचरा, गिला कचरा अलग रखें तथा औद्योगिक कचरा प्रबंधन करके आगे भेजे तो यह समस्या के समाधान का आधा हल होगा।

प्रस्तुत चित्र मेरठ की इस समस्या का प्रतिनिधिक चित्रण है।

1.http://meerutnagarnigam.com/health-department.aspx
2.https://timesofindia.indiatimes.com/city/meerut/meerut-roads-fixed-garbage-cleared-overnight-for-cms-visit-residents-stumped/articleshow/58581305.cms
3.http://meerutnagarnigam.com/meerut-municipal-corporation.aspx
4.https://www.complaintboard.in/complaints-reviews/nagar-nigam-meerut-l240884.html
5.http://www.business-standard.com/article/pti-stories/ngt-notice-to-up-govt-over-poor-waste-management-in-meerut-116011300616_1.html
6.http://www.swachhbharaturban.in/sbm/home/
7.https://www.hindustantimes.com/india/india-s-cities-are-faced-with-a-severe-waste-management-crisis/story-vk1Qs9PJT8l1bPLCJKsOTP.html
8.http://cpcb.nic.in/c-d-waste-rules/
9.http://cpcb.nic.in/uploads/hwmd/Salient_features_SWM_Rules.pdf



RECENT POST

  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM