मेरठ में यातायात एक समस्या

मेरठ

 15-02-2018 09:50 AM
य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

मेरठ पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े शहरों में से एक है। यह एक जिला मुख्यालय है तथा यह मंडल मुख्यालय है। यह एक महत्वपूर्ण प्रमुख वाणिज्यिक, औद्योगिक, शैक्षिक और पुरातात्विक शहर है। दिल्ली के बाद एनसीआर क्षेत्र में इसे सबसे बड़ा शहर होने का गौरव प्राप्त हुआ है। मेरठ में यातायात एक अत्यन्त महत्वपूर्ण विषय है जिसका कारण है इसका पुरानी शहर होना। भारत में मेट्रो शहरों विशेष रूप से पुराने लोगों को तीव्र यातायात और परिवहन की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है और प्रयासों और निवेश के बावजूद, शहर इस विशाल समस्या से सामना नहीं कर पाए हैं। कस्बों की आबादी नियमित रूप से बढ़ रही है, लेकिन विशेषकर शहरों और शहर के मौजूदा हिस्सों में सड़क क्षेत्र एक ही रहता है, जिससे केंद्र और शहरों के अन्य महत्वपूर्ण हिस्सों में भीड़ बढ़कर स्थिति गंभीर हो गई है। आम परिवहन सेवाओं को आम तौर पर उपेक्षित कर दिया जाता है या निजी वाहनों पर निर्भर लोगों द्वारा नियमित, पर्याप्त, सुरक्षित और विश्वसनीय सेवाओं की गुणवत्ता प्रदान नहीं करता है, जिससे अत्यधिक घाटे, प्रदूषण, दुर्घटनाओं में वृद्धि और जीवन की गुणवत्ता की सामान्य गिरावट में वृद्धि होती है। मेट्रो शहरों में लगभग 15% कार प्रयोगकर्ता हैं और जैसा कि परिवहन बजट का 75% उपयोग सड़कों को चौड़ा करने के लिए किया जाता है, मुख्यतः कार और दो पहिया वाहनों को लाभ मिलता है, न कि बड़े पैमाने पर परिवहन व्यवस्था। केन्द्रीय निर्मित क्षेत्रों में वाणिज्यिक और संस्थागत गतिविधियों की वृद्धि के अलावा, सड़कों पर अस्थायी और स्थायी अतिक्रमण, टेम्पो की अनधिकृत पार्किंग, रिक्शा, धीमी गति से चलती वाहनों, मध्यवर्ती परिवहन व्यवस्था और तेज गति वाले वाहनों के द्वारा उसी सड़क लेन का इस्तेमाल, खराब यातायात प्रबंधन समस्या के लिए मास्टर प्लान में विभिन्न भूमि उपयोगों को उपयुक्त प्लेसमेंट के साथ-साथ शहर के लिए एक व्यापक यातायात और परिवहन योजना तैयार करने से समस्या को हल किया जा सकता है। मेरठ शहर को जैविक पैटर्न में विकसित किया गया है, इस शहर के माध्यम से क्षेत्रीय राजमार्गों की संख्या पार करती है जैसे दिल्ली-रुड़की रोड, मेरठ-बागपत रोड, मेरठ-बिजनौर रोड, मेरठ-गढ़ रोड आदि इस शहर के मध्य से गुजरते हैं (बेगम पुल से)। मेरठ को वर्तमान काल में मेट्रो से जोड़ने की प्रक्रिया चालू की जा रही है जिससे यहाँ पर यातायात पर प्रभाव पड़ेगा तथा यहाँ पर महामार्ग का भी निर्माण किया जा रहा है जो मेरठ शहर के बाहर से निकलेगा जिससे भी यहाँ के यातायात पर प्रभाव पड़ेगा। वर्तमान समय में मेरठ में यातायात एक गम्भीर समस्या है जिस कारण यहाँ पर पर्यावरण प्रदूषण भी हो रहा है। प्रथम चित्र में बेगम पुल दिखाया गया है तथा द्वितीय चित्र अबू लेन के पास का है। 1. ट्रैफिक एण्ड ट्रान्सपोर्टेशन प्रॉब्लम्स ऑफ मेट्रो सिटीज़ः केस ऑफ मेरठ, उत्तर प्रदेश, विजय कुमार, डॉ. आर. के. पंडित



RECENT POST

  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM


  • शहीद-ए-आज़म उद्धम सिंह का बदला
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:00 AM


  • टेप का संक्षिप्‍त इतिहास
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     11-04-2019 07:05 AM


  • क्या तारेक्ष और ग्लोब एक समान हैं?
    पंछीयाँ

     10-04-2019 07:00 AM