शुभ महाशिवरात्रि

मेरठ

 13-02-2018 02:30 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

शिव की लोकप्रियता एशिया के सभी हिस्सों में गहराई तक समाई हुयी थी, विशेषरूप से 7वीं और 15 वीं सदी के बीच। कंबोडिया में शिव को समर्पित पत्थर के मंदिर, अत्यंत शानदार हैं। यहाँ के सबसे सुंदर मंदिरों में से एक त्रिभुवन माहेश्वर का मंदिर है, (इस मंदिर का शाब्दिक अर्थ है तीनों लोकों के स्वामी), इस मंदिर को वर्ष 967 ईश्वी में बनाया गया था। मंदिर में (संस्कृत भाषा और पाली लिपि) में एक शिलालेख है जो यह पुष्टि करता है कि दो ब्राह्मण भाई, यज्ञरावाराह और विष्णुकुमार ने कंबोडियन प्रकार के राजा जयवरमन 5 वीं के शासनकाल में मंदिर का निर्माण किये थे। इस त्रिभुवनमाहेश्वर मंदिर का निर्माण ईश्वरपुरा नामक एक शहर में हुआ था ("शिव के शहर" के नाम से अनुवाद किया गया है)। यद्यपि पाली लिपि आज भी कंबोडिया और थाईलैंड के लोगों द्वारा व्यापक रूप से पढ़ी जाती है, समय के साथ-साथ, इस मंदिर और शहर के नाम बदल गए हैं। मंदिर को अब "बन्तेय सरई" के रूप में जाना जाता है और शहर को मुख्य "अंगकोर वाट / अंगकोर थॉम" क्षेत्र के हिस्से के रूप में देखा जाता है। "अंगकोर" शब्द बेशक, स्वयं संस्कृत शब्द "नागारा" या शहर से लिया गया है। आज, हम पर प्रारंग के कुछ सुंदर चित्रों को साझा करना चाहते हैं, जो हमने इस सुंदर 10 वीं ईस्वी मंदिर और एक संपूर्ण शहर का खींचा है, तथा जो शिव को समर्पित है। यज्ञवाराह और विष्णुकुमार के बारे में अधिक कुछ ज्ञात नहीं है- वे कंबोडिया भारत में कहाँ से गए थे। विभिन्न विद्वान उड़ीसा तो कुछ आंध्र और तमिल तटीय क्षेत्र का सुझाव देते हैं। प्रथम चित्र- ईश्वरपुर मंदिर का प्रवेश द्वार द्वितीय चित्र- शिव और पार्वती नंदी पर बैठे हुए तृतीय चित्र- मंदिर और तालाब चतुर्थ चित्र- रावण द्वारा कैलाश मंदिर का उठाया जाना और शिव पार्वती का अंकन



RECENT POST

  • कम्बोह वंश के गाथा को दर्शाता मेरठ का कम्बोह दरवाज़ा
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     22-04-2019 09:00 AM


  • लिडियन नाधास्वरम (Lydian Nadhaswaram) के हुनर को सलाम
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     21-04-2019 07:00 AM


  • अपरिचित है मेरठ की भोला बियर की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM