शुभ महाशिवरात्रि

मेरठ

 13-02-2018 02:30 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

शिव की लोकप्रियता एशिया के सभी हिस्सों में गहराई तक समाई हुयी थी, विशेषरूप से 7वीं और 15 वीं सदी के बीच। कंबोडिया में शिव को समर्पित पत्थर के मंदिर, अत्यंत शानदार हैं। यहाँ के सबसे सुंदर मंदिरों में से एक त्रिभुवन माहेश्वर का मंदिर है, (इस मंदिर का शाब्दिक अर्थ है तीनों लोकों के स्वामी), इस मंदिर को वर्ष 967 ईश्वी में बनाया गया था। मंदिर में (संस्कृत भाषा और पाली लिपि) में एक शिलालेख है जो यह पुष्टि करता है कि दो ब्राह्मण भाई, यज्ञरावाराह और विष्णुकुमार ने कंबोडियन प्रकार के राजा जयवरमन 5 वीं के शासनकाल में मंदिर का निर्माण किये थे। इस त्रिभुवनमाहेश्वर मंदिर का निर्माण ईश्वरपुरा नामक एक शहर में हुआ था ("शिव के शहर" के नाम से अनुवाद किया गया है)। यद्यपि पाली लिपि आज भी कंबोडिया और थाईलैंड के लोगों द्वारा व्यापक रूप से पढ़ी जाती है, समय के साथ-साथ, इस मंदिर और शहर के नाम बदल गए हैं। मंदिर को अब "बन्तेय सरई" के रूप में जाना जाता है और शहर को मुख्य "अंगकोर वाट / अंगकोर थॉम" क्षेत्र के हिस्से के रूप में देखा जाता है। "अंगकोर" शब्द बेशक, स्वयं संस्कृत शब्द "नागारा" या शहर से लिया गया है। आज, हम पर प्रारंग के कुछ सुंदर चित्रों को साझा करना चाहते हैं, जो हमने इस सुंदर 10 वीं ईस्वी मंदिर और एक संपूर्ण शहर का खींचा है, तथा जो शिव को समर्पित है। यज्ञवाराह और विष्णुकुमार के बारे में अधिक कुछ ज्ञात नहीं है- वे कंबोडिया भारत में कहाँ से गए थे। विभिन्न विद्वान उड़ीसा तो कुछ आंध्र और तमिल तटीय क्षेत्र का सुझाव देते हैं। प्रथम चित्र- ईश्वरपुर मंदिर का प्रवेश द्वार द्वितीय चित्र- शिव और पार्वती नंदी पर बैठे हुए तृतीय चित्र- मंदिर और तालाब चतुर्थ चित्र- रावण द्वारा कैलाश मंदिर का उठाया जाना और शिव पार्वती का अंकन



RECENT POST

  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM


  • अफ्रीका की जंगली भैंसे
    स्तनधारी

     02-12-2018 11:50 AM