मसकली मेरठ की

मेरठ

 12-02-2018 09:53 AM
शारीरिक

मसकली ये कबूतरों की एक प्रजाति है। इन्हें वलयदार पूंछ के कबूतर भी कहा जाता है। अंग्रेजी में इन्हें इस पूंछ की वजह से फैनटेल पिजन कहा जाता है। साधारण कबूतरों से यह काफी अलग होते हैं; देखने में भी और बर्ताव में भी। चार्ल्स डार्विन ने कबूतरों पर किये प्रयोगों से यह सिद्ध किया की बहुतायता से सारी कबूतर की प्रजातियाँ कोलंबिया लिविया (रॉक डोव) मतलब जंगली कबूतर से हैं तथा डार्विन के अनुसार कबूतर सबसे प्रथम पक्षी हैं जो मानव द्वारा पालतू बनाए गए। मेरठ में यह कबूतर बहुत संख्या में मिलते हैं तथा हरे कबूतर बहुत कम हैं। मान्यता है की मसकली कबूतर यह भारत, पाकिस्तान, चाइना अथवा स्पेन में पहली बार उत्पन्न हुई है। वलयदार पूंछ के ये कबूतर शायद कबूतरों में सबसे पुरानी पालतू नस्ल है जिनके साक्ष्य स्पेन से सन 1150 में और भारत में सन 1560 में मिलते हैं। कहा जाता है मुग़ल बादशाह अकबर के पास करीब 2000 से भी ज्यादा कबूतर थे और इनमे से मोहना यह मसकली क़िस्म का कबूतर उनका सबसे प्रिय कबूतर था। भारतीय मसकली नस्ल काफी सुन्दर होती है और इस प्रकार के अन्य देशों में मिलने वाली प्रजातियों से अलग भी। अंग्रेजी मसकली से यह बड़े होते हैं तथा इनकी पूंछ ज्यादा वलयदार और विशिष्ट होती है। भारतीय मसकली को कलगी होती है, वे ज्यादा बड़े होते हैं और उनके पैर परयुक्त होते हैं। बाहरी प्रजातियों की तुलना में यह ज्यादा शांत और विनीत होते हैं। यह सहज रूप में पालतू होते हैं तथा उन्हें सिखाना बहुत आसान होता है। यह ज्यादा ऊंचाई पर नहीं उड सकते। इनका जीवनकाल 10 से 12 साल का होता है। प्रस्तुत चित्र मेरठ के श्री रोबिनसन के पालतू मसकली कबूतर के हैं। 1. इंडियन फैनटेल https://en.wikipedia.org/wiki/Indian_Fantail 2. इंडियन फैनटेल पिजन http://www.roysfarm.com/indian-fantail-pigeon/ 3. फैनटेल्स http://www.feathersite.com/Poultry/Pigeons/BRKFans.html 4. चार्ल्स डार्विन- विनोद कुमार मिश्रा https://goo.gl/ydg81w 5. नेचर्स फैंसी: चार्ल्स डार्विन एंड द ब्रीडिंग ऑफ़ पिजन्स-जेम्स सेकोर्ड http://www.blc.arizona.edu/courses/schaffer/449/Pigeons/Secord%20-%20Darwin%20and%20Pigeons.pdf



RECENT POST

  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM