मेरठ में बैलगाड़ी

मेरठ

 11-02-2018 09:22 AM
कोशिका के आधार पर

मेरठ एक औद्योगिक शहर है यहाँ पर यातायात एक प्रमुख कारक रहा है विकास व प्रसार में। यह शहर अंग्रेजों द्वारा बसाया गया था तथा यहाँ पर शुरूआती दौर से ही कई यातायात का प्रबन्ध किया गया था, उस समय गाड़ीयों का प्रबन्ध ना होने के कारण बैल का प्रयोग किया जाता था। वह परम्परा आज भी मेरठ में जीवित है तथा यहाँ पर कहीं कहीं बैलगाड़ी दिखाई दे जाती है। यहाँ पर बैलगाड़ी खींचनें में लाये जाने वाले बैल नागौरी नश्ल के बैल हैं। नागौरी नश्ल के बैलों के विषय में यदि देखा जाये तो ये राजस्थान के नागौर जिले में उत्पन्न माने जाते हैं। नागौरी बैल प्रायः सफेद रंग के होते हैं। इनका सीना मजबूत होता है। आँखों में एक विशेष प्रकार की चमक होती है। इनकी गर्दन चुस्त, मुतान कसा हुआ, पूंछ अपेक्षाकृत छोटी, सींग छोटे व सुडौल, टांगें पतली, मुँह छोटा तथा त्वचा मुलायम होती है। ये बैल, एक दिन में पाँच एकड़ तक भूमि जोत सकते हैं। कच्चे मार्ग पर 6 से 8 क्विंटल तथा पक्के मार्ग पर 8 से 10 क्विंटल माल की ढ़ुलाई कर सकते हैं। नागोरी नस्ल के बैल रेगिस्थान के गरम मौसम के लिए बहोत ही उपयुक्त होते है। तेजी से चलने के कारण बैलगाड़ियों में इसका व्यापक इस्तेमाल किया जाता है। नागोरी नस्ल मुख्यतः कृषि उद्द्येशों की पूर्ती के लिए पाली जाती हैं। ये पशु सूखे के लिए बहोत उपयोगी होती हैं। दिये गये चित्र में नागौरी नश्ल के ही बैल को दिखाया गया है जो की मेरठ के नेता हकीमुद्दीन मार्ग (जो संगीत के वाद्य यंत्रो के लिये जाना जाता है) पर खड़ा है। यह प्रदर्शित करता है कि कैसे आज भी बैलों का प्रयोग यातायात व मालवाहक के रूप में किया जाता है। 1. नागौरी बैल, प्रेम कुमार, आई.जी.एन.सी.ए



RECENT POST

  • लिडियन नाधास्वरम (Lydian Nadhaswaram) के हुनर को सलाम
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     21-04-2019 07:00 AM


  • अपरिचित है मेरठ की भोला बियर की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM


  • शहीद-ए-आज़म उद्धम सिंह का बदला
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:00 AM