मेरठ घंटाघर

मेरठ

 01-02-2018 10:54 AM
सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

घंटाघर प्रत्येक महत्वपूर्ण शहरों में पाया जाता है यह प्रदर्शित करता है कि अंग्रेजों के शासनकाल में वह शहर कितना महत्वपूर्ण था। मेरठ से लेकर लखनऊ, मुम्बई, कोटा आदि स्थानों पर घंटाघरों की प्राप्ति होती है। घंटाघर उद्योगों के समीप ही मुख्य रूप से बनाया जाता है जिसका प्रमुख कारण होता था यहाँ पर काय करने वालों को समय से अवगत कराना। मेरठ का घंटाघर अत्यन्त खूबसूरती से बनाया गया है तथा यह मुख्य बाज़ार में स्थित है। जैसा की मेरठ एक औद्योगिक शहर था तो यहाँ पर घंटाघर का होना लाज़मी है। ब्रिटिश राज में मेरठ के भीड़भाड़ वाले इलाके में 1913 में घंटाघर का निर्माण हुआ तथा इसमें इंग्लैंड से वेस्टन एंड वॉच कंपनी की घड़ी 1914 में लगार्इ गर्इ। मेरठ के घंटाघर के पास ही टाउन हॉल है। मेरठ का यह घंटाघर भारतीय आजादी के लिये हुये कई सभाओं का गवाह रह चुका है। मेरठ के इस घंटाघर की खासियत यह थी कि हर घंटे बाद इसके पेंडुलम की आवाज दस किलोमीटर की परिधि तक पहुंचती थी। 30 के दशक में नेताजी सुभाष चंद बोस ने टाउन हाल की जनसभा में लोगों में जोश भरा था। इसमें दूर-दूर से लोग उन्हें सुनने आए थे। सुभाषचन्द्र बोस ने घंटाघर की तारीफ भी की थी। यहां महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू समेत कर्इ नेताओं ने देश की आजादी के लिए जनसभाएं की थी। आजादी के बाद घंटाघर की इस बिल्डिंग का नाम भी नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वार रखा गया। 1. https://goo.gl/grvfn1 2.https://goo.gl/i2RRHy



RECENT POST

  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM