मेरठ की मशहूर पहेली

मेरठ

 27-01-2018 10:28 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

लोक कथायें, पहेलियाँ, लोकोक्तियाँ आदि समाज के अभिन्न अंग हैं, इनसे समाज के विभिन्न पहलुओं को देखा व समझा जा सकता है। पहेलियों का स्थान भारतीय समाज में अत्यन्त महत्वपूर्ण है तथा इनसे कई कहानियाँ भी उद्धृत हुई हैं, पंचतंत्र में भी पहेलियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है। ऐसी ही एक पहेली और उससे सम्बन्धित एक कहानी मेरठ में कई सदियों से चली आ रही है, वर्तमान काल में पहेलियों का रंग मेरठ से हटते जा रहा है पर कहीं-कहीं कोनो में आज भी ये पहेलियाँ जिन्दा हैं। देवर को खाना परोसकर देने के बाद भाभी घड़े से पानी लेने गयी तो पाया कि घड़े में पानी नहीं है। इसे अनुचित समझकर और देवर के कुपित होने की आशंका से भयभीत भाभी ने उसे बातों में लगाना चाहा। भाभी ने कहा: देवर: खाना खाने से पहले मेरी बात बताओ- वही नाम पेड़ का, वही नाम फल का, फल का है कुछ और मेरी बात बताकर देवर, टुकड़ा खाओ तोर। देवर इस पहेली का उत्तर सोचने लगा और भाभी घड़ा लेकर पानी लाने हेतु जाने लगी तभी देवर ने भी अपनी पहेली दाग दी और कहा- आकाश है बाकी झोंपड़ी, पाताल धरे हैं अण्डे। मेरी बात बताकर भाभी, तभी उठाना हण्डे। अब भाभी भी वचनबद्ध हो गयी और दोनों एक-दूसरे की पहेली का उत्तर खोजने लगे। तनिक देर बाद घर में माँ और बेटी भी आ गयीं और दोनों देवर-भाभी के इस असमंजस को आश्चर्य से देखने लगीं। माँ के पूछने पर बेटे ने सारी कथा कह सुनायी। सारी बात सुनकर माँ ने कहा- वाके खाये से हाथी झूमे, तेली पेलै घानी। तू तो भैया रोटी खा लें, ये भर लावे पानी।। इतना सुनकर बेटी से भी चुप न रहा गया और उसने भी कह दिया- एक अचंभा मैंने देखा, सुनले मेरे बीरा। उसी पेड़ पर मैंने देखे, गुड़, बैंगन और जीरा।। चारों व्यक्तियों ने एक दूसरे से जो पूछा उसका उत्तर समान ही है। उत्तर है महुआ। इसी प्रकार से समय व्यतीत करने के लिये व हसीं ठिठोली के लिये पहेलियों का एक बड़ा योगदान हुआ करता था समाज व परिवार में आधुनिकता की आँधी व व्यस्तता में पहेली परम्परा का पूर्ण रूप से लोप हो गया। 1. राजभाषा पत्रिका, मेरठ जनपद की एक कथामूलक पहेली, डॉ रामानन्द शर्मा, रज़ा पुस्तकालय, रामपुर



RECENT POST

  • स्थिर विद्युत(Static Electricity) के पीछे का विज्ञान
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     22-02-2019 11:13 AM


  • ओलावृष्टि क्‍यों बन रही है विश्‍व के लिए एक चिंता का विषय?
    जलवायु व ऋतु

     21-02-2019 11:55 AM


  • हिन्दी भाषा के विवध रूपों कि व्याख्या
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-02-2019 11:05 AM


  • उच्च रक्तचाप के लिये लाभकारी है योग
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     19-02-2019 10:59 AM


  • रॉबर्ट टाइटलर द्वारा खींची गई अबू के मकबरे की एक अद्‌भुत तस्वीर
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     18-02-2019 11:11 AM


  • बदबूदार कीड़े कैसे उत्पन्न करते है बदबूदार रसायन
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     17-02-2019 10:00 AM


  • सफल व्यक्ति की पहचान
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-02-2019 11:55 AM


  • क्या होते हैं वीगन (Vegan) समाज के आहार?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-02-2019 10:24 AM


  • क्‍या है प्रेम के पीछे रसायनिक कारण ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     14-02-2019 12:47 PM


  • स्‍वच्‍छ शहर बनने के लिए इंदौर से सीख सकता है मेरठ
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     13-02-2019 02:26 PM