मेरठ में इंसान एवं जानवर

मेरठ

 24-05-2017 12:00 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति
इंसानों और जानवरों का एक बेहद गहरा आपसी रिश्ता प्राचीन काल से चला आ रहा है| इसका सबसे बड़ा उदहारण यह है की प्राचीन काल से ही मानव और जानवर एक ही वातावरण में रहें तथा आपसी ज़रूरतों को पूर्ण किया| आज के समाज में प्रत्येक इंसान किसी न किसी तरह से जानवरों तथा पशुओ पर निर्भर है| अगर राज्य की सुक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग की विज्ञप्ति को आधार मानें तो मेरठ जिले मे करीब डेढ़ लाख गायें तथा करीब साढ़े छः लाख भैंसे हैं| इसके अलावा करीब 45 हज़ार बकरियां 19 हज़ार सुअर व करीब 1.5 लाख मुर्गियाँ हैं| प्रति एक लाख पशुधन पर मेरठ जिले मे 4 जानवरों के अस्पताल कार्यरत हैं| यहाँ पर रहने वाले प्रत्येक 12 इंसान पर एक दुधारू जानवर है| यहाँ डेयरी का रोजगार और साथ ही साथ मुर्गी पालन का व्यवसाय आम जनता को रोजगार दिला सकता है| सुक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग की रिपोर्ट के अनुसार आने वाले समय में पोल्ट्री-खाद्य, पशु का चारा – दोनों उद्योग, व्यवसायवृद्धि की काफी क्षमता रखते हैं|

RECENT POST

  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM