भोजन का स्थायी, प्रोटीन युक्त व् किफायती स्रोत हैं कीड़े, कम कार्बन पदचिह्न, भविष्य का है यह भोजन?

मेरठ

 14-05-2022 10:11 AM
तितलियाँ व कीड़े

एक अध्ययन के अनुसार प्रोटीन (Protein) के लिए पशु चारे में सोयाबीन के विकल्प के रूप में कीट प्रोटीन का उपभोग करना पर्यावरण के लिए अधिक टिकाऊ समाधान बताया गया है; यह खाद्य उद्योग पर उपभोक्ताओं के लिए भोजन के रूप में कीड़ों को एक अधिक स्वादिष्ट विकल्प बनाने पर प्रकाश डालता है।शोधकर्ताओं द्वारा कम पानी और जमीन का उपयोग करके ग्रह पर सकरात्मक प्रभाव डालने के साथ-साथ प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों से भरपूर भोजन प्रदान करने के उद्देश्य से गैर-पारंपरिक खाद्य पदार्थों का एक भोजनदायी विकसित किया जा रहा है।साथ ही सीधे भोजन के रूप में खाए जाने वाले कीड़ों में 'यूरोपीय उपभोक्ताओं के कार्बन पदचिह्न को कम करने की सबसे बड़ी क्षमता' है।फिनलैंड (Finland) में हेलसिंकी विश्वविद्यालय (University of Helsinki) और एलयूटी विश्वविद्यालय (LUT University) के शोधकर्ताओं ने पता लगाया कि यूरोप (Europe) में खाद्य खपत से जुड़ी ग्लोबल वार्मिंग (Global Warming) क्षमता को कम करने में कीट प्रोटीन किस हद तक मदद कर सकता है। कीड़े, वास्तव में, संपूर्ण भारत में उप-क्षेत्रीय व्यंजनों का अभिन्न अंग हैं,ये उन समुदायों (जिनके पास पर्याप्त पोषण वाले अन्य भोजन उपलब्ध नहीं होते हैं।) के लिए पोषण का एक स्रोत प्रदान करते हैं,चाहे वह नागालैंड से भुना हुआ मधुमक्खी का कीटडिंभ हो, असम में पानी के भृंग या ओडिशा में ताड़ के कीड़े हों।ऐसा लगता है कि भारत में किसी भी प्रसिद्ध रसोइये ने अब तक कीड़ों को भोजन के रूप में नहीं अपनाया है और भोजन के रूप में कीड़ों की अवधारणा को अभी लोकप्रियता हासिल करने के लिए एक बहुत लंबा सफर तय करने की आवश्यकता है, लेकिन इस बारे में लोगों का दृष्टिकोण बदलना शुरू हो गया है।वहीं संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन ने खाद्य कीड़े: खाद्य और फ़ीड सुरक्षा के लिए भविष्य की संभावनाएं की एक रिपोर्ट प्रकाशित की, जिसमें उन्होंने बताया कि 2050 तक दुनिया में 9 अरब लोगों की जनसंख्या मौजूद रहेगी। इस संख्या को समायोजित करने के लिए, वर्तमान खाद्य उत्पादन को लगभग दोगुना करने की आवश्यकता होगी। भूमि दुर्लभ हो जाएगी और खेती के लिए समर्पित क्षेत्र का विस्तार शायद ही कभी एक व्यवहार्य या टिकाऊ विकल्प होगा।
महासागरों की अधिकता और जलवायु परिवर्तन और पानी की कमी का खाद्य उत्पादन पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है।आज की खाद्य और पोषण चुनौतियों का सामना करने के लिए,दुनिया भर में लगभग 1 अरब लोग लंबे समय से भूख का सामना कर रहे हैं, तो भविष्य में हम क्या खाएंगे और हम उसका उत्पादन कैसे करते हैं, पुनर्मूल्यांकन करने की आवश्यकता है।इसके बाद उसमें खाद्य सुरक्षा को बढ़ाने के लिए "प्रकृति और मानव जीवन को बनाए रखने" में कीड़ों की भूमिका के बारे में बताया गया है। कीड़े भोजन का एक स्थायी, प्रोटीन युक्त और किफायती स्रोत हैं। यह अभ्यास (कीट-भक्षण का) पोषण का एक बड़ा वैकल्पिक स्रोत के साथ एक पर्यावरण-अनुकूल तरीका हो सकता है, जो स्थिरता को बनाए रखने में सहायक सिद्ध हो सकता है।जैसा कि हम प्रोटीन के वैकल्पिक स्रोतों की तलाश करते हैं जो हमें पर्याप्त पोषण दे सकते हैं और साथ ही साथ जीवित रहने में मदद कर सकें, कीड़े कुछ मामलों में भोजन का भविष्य प्रतीत होते हैं।
वहीं वैज्ञानिकों का कहना है कि प्रयोगशाला में उत्पादित किए गए मांस या जमीन पर रहने वाले कीड़ों को खाने से कार्बन उत्सर्जन में कमी और पानी में बड़ी बचत की जा सकती है, साथ ही साथ इससे प्रकृति के लिए भूमि खाली हो सकती है। फ़िनलैंड (Finland) के वैज्ञानिकों ने इनमें से कुछ उत्पादों के पोषण संबंधी रूपरेखा का अध्ययन किया और पर्यावरणीय दबाव के तीन अपवर्तक (पानी, भूमि और संभावित कार्बन उत्सर्जन का उपयोग) को देखा। वे कहते हैं कि वैकल्पिक खाद्य पदार्थों के लिए मांस, दुग्धालय और अन्य पशु उत्पादों को बदलने से इन प्रभावों को 80% से अधिक कम किया जा सकता है, जबकि विशुद्ध शाकाहारी या शाकाहारी आहार की तुलना में आवश्यक पोषक तत्वों की अधिक संपूर्ण श्रृंखला प्रदान की जा सकती है।लेकिन उन्होंने यह भी पाया कि अपेक्षाकृत कम तकनीक वाले समाधान, जैसे कि मांस कम करना और अधिक सब्जियां खाना, ग्रह पर समान प्रभाव डालते हैं।पशु-स्रोत वाले खाद्य पदार्थों में महत्वपूर्ण कमी और नए या भविष्य के खाद्य पदार्थों और पौधों पर आधारित प्रोटीन विकल्पों के साथ प्रतिस्थापन के साथ, हम ग्लोबल वार्मिंग क्षमता, भूमि उपयोग और पानी के उपयोग के संदर्भ में पर्यावरणीय प्रभावों में महत्वपूर्ण कमी ला सकते हैं।नेचर फूड में प्रकाशित शोध ने नए खाद्य पदार्थों की जांच की, जो भविष्य के वर्षों में हमारे आहार का एक बड़ा हिस्सा बनने की उम्मीद कर रहे हैं, जिनमें से कई बायोरिएक्टरों (Bioreactor) में जानवरों और पौधों की कोशिकाओं को "विकसित" करने के लिए उच्च तकनीक वाले तरीकों पर भरोसा करते हैं।निम्न नए खाद्य पदार्थों का अध्ययन किया गया, जिनमें से कुछ अभी भी जांच पर हैं:
 जमीन पर रहने वाले मक्खियों और झींगुर
 प्रयोगशाला में विकसित चिकन कोशिकाओं से अंडे का सफेद भाग
 एक प्रकार का समुद्री शैवाल जिसे केल्प कहा जाता है
 मशरूम या रोगाणुओं से बने प्रोटीन पाउडर
 खाद्य शैवाल
 कोशिकाओं से उगाए गए दूध, मांस और जामुन।
उनके पोषण संबंधी रूपरेखा, विशेष रूप से उच्च प्रोटीन सामग्री के कारण, विभिन्न प्रकार के कीड़ों को औद्योगिक पशु उत्पादन और जलीय कृषि के लिए चारे के रूप में उपयोग किया जा सकता है।सूअर, मुर्गी और खाने योग्य मछलियों के लिए कीट-आधारित चारे की वैज्ञानिक रूप से जांच की गई है।
कीड़े सूअर और मुर्गी के लिए उतना ही प्रोटीन और आवश्यक अमीनो एसिड प्रदान कर सकते हैं जो संभावित रूप से चारे में सोयाबीन के विकल्प में दिए जा सकते हैं।मछली पालन के लिए आहार में ब्लेक सोल्जर फ्लाइ (Black soldier fly)के किटडिंभ को शामिल करने से गंध और बनावट में कोई अंतर नहीं होने के साथ सकारात्मक प्रभाव पड़ा।हालांकि इसका प्रदर्शन और विकास के मामले में कुछ चुनौतियां और नुकसान हैं। जैसे मोनोगैस्ट्रिक (Monogastric) खेत के जानवरों के लिए, जैसे कि सूअर और मुर्गी के पारंपरिक चारे को पूरी तरह से कीड़ों से बदलने से उनके प्रदर्शन और वृद्धि में कमी आ सकती है, क्योंकि कीट के आटे में उच्च स्तर में राख हो सकती है।हालांकि अन्य शोध बताते हैं कि जिन जानवरों को सोया या मछली के भोजन की तुलना में ब्लेक सोल्जर फ्लाइ से उपलब्ध कीट प्रोटीन खिलाया गया, उनमें तेजी से विकास दर और बेहतर गुणवत्ता वाला मांस प्राप्त हुआ।अन्य कृषि पद्धतियों के माध्यम से कीट प्रोटीन का उत्पादन करने के लिए पारंपरिक पशुधन की तुलना में काफी कम संसाधनों की आवश्यकता होती है।कीड़ों का उत्पादन भी पारंपरिक पशुधन प्रजातियों की तुलना में कम ग्रीनहाउस गैसों (Greenhouse gases) और अमोनिया (Ammonia) का उत्पादन करता है। कीड़े में जैविक अपशिष्ट उत्पादों जैसे सब्जी और जानवरों के कचरे का सेवन करने की क्षमता होती है, इसलिए मनुष्यों द्वारा उत्पादित अतिरिक्त भोजन की मात्रा को कम करने में भी यह काफी मदद कर सकते हैं।कीड़े चारे को प्रोटीन में परिवर्तित करने में बहुत निपुण होते हैं, साथ ही उन्हें पारंपरिक पशुओं की तुलना में कम चारे की आवश्यकता होती है।इसके अलावा, जल संरक्षण में भी काफी मदद करते हैं क्योंकि कीड़े ठंडे खून वाले होते हैं और अपने चारे के माध्यम से पानी की आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम होते हैं।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3yBlMCi
https://bbc.in/3yxcjM3
https://bit.ly/3wtYT0I
https://bit.ly/3Nhh7JP

चित्र संदर्भ
1. उच्च स्टैक कीट खेती को दर्शाता एक चित्रण (Undark Magazine)
2. कीट फ़ूड स्टाल को दर्शाता एक चित्रण (Wikimedia)
3. मीलवर्म खाद्य कीटों को दर्शाता एक चित्रण (Pixabay)
4. ब्लेक सोल्जर फ्लाइ को दर्शाता एक चित्रण (Pixabay)

RECENT POST

  • विश्व कपड़ा व्यापार पर चीन की ढीली पकड़ ने भारत के लिए एक दरवाजा खोल दिया है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:14 AM


  • भारत में हमें इलेक्ट्रिक ट्रक कब दिखाई देंगे?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:23 AM


  • हिन्द महासागर के हरे-भरे मॉरीशस द्वीप में हुआ भारतीय व्यंजनों का महत्वपूर्ण प्रभाव
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:28 AM


  • देखते ही देखते विलुप्त हो गए हैं, मेरठ शहर के जल निकाय
    नदियाँ

     25-05-2022 08:12 AM


  • कवक बुद्धि व जागरूकता के साक्ष्य, अल्पकालिक स्मृति, सीखने, निर्णय लेने में हैं सक्षम
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:35 AM


  • मेरे देश की धरती है दुर्लभ पृथ्वी खनिजों का पांचवां सबसे बड़ा भंडार, फिर भी इनका आयात क्यों?
    खनिज

     23-05-2022 08:43 AM


  • जमीन पर सबसे तेजी से दौड़ने वाला जानवर है चीता
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:34 PM


  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM


  • हरियाली की कमी और बढ़ते कांक्रीटीकरण से एकदम बढ़ जाता है, शहरों का तापमान
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:45 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id