घातक वायरस को समाप्‍त करने में सहायक अच्‍छे वायरस

मेरठ

 10-05-2022 09:00 AM
कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

वर्तमान में कोविड-19 (Covid-19) के जनक सार्स-कोव-2 (SARS-CoV-2) वायरस (virus)ने दुनिया में लाखों लोगों की जान ले ली है, क्‍या आप ऐसे किसी वायरस की कल्‍पना कर सकते हैं जो लाखों जीवों की जान बचा सकता है?माइक्रोबियल (microbial) दुनिया का शीर्ष शिकारी एक प्रकार का वायरस है, जिसे बैक्टीरियोफेज (bacteriophages) कहा जाता है। यह सूक्ष्मजीवों के प्रजनन तंत्र को अपहृत करके और इसे अलग करके बैक्टीरिया (bacteria) का शिकार करता है और उन्हें मारता है। इस वजह से, वैज्ञानिकों ने इन सूक्ष्म हत्यारों को बढ़ते खतरे (एंटीबायोटिक प्रतिरोध (antibiotic resistance), या जब बैक्टीरिया उन्हें रोकने के लिए दवाओं पर काबू पाने के तरीके खोजते हैं)की सीमा पर लड़ने वालों की श्रेणी पर रखा है। 2019 के वैश्विक सर्वेक्षण में पाया गया कि एचआईवी/एड्स (HIV / AIDS) या मलेरिया की तुलना में एंटीबायोटिक प्रतिरोध से अधिक लोगों की मृत्यु हुई।
हाल के वर्षों में कई अन्य बीमारियों के बीच दवा प्रतिरोधी गोनोरिया (gonorrhea), साल्मोनेला (salmonella), की तीव्र वृद्धि भी देखी गयी है। समान रूप से चिंताजनक माइकोबैक्टीरियम चेलोने (mycobacterium chelonae) एक बैक्टीरिया है जो तपेदिक और कुष्ठ जैसी बीमारियों के लिएजिम्मेदार है, जो प्रतिरक्षाविज्ञानी लोगों के लिए खतरा है, और सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एकप्रमुख चिंता का विषय है।माइकोबैक्टीरिया बैक्टीरिया आमतौर पर पानी और मिट्टी में पाए जाते हैं। कुल मिलाकर, वे काफी हानिरहित हैं, जब तक कि ये सूक्ष्मजीव दूषित पेयजल या त्वचा में दरार के माध्यम से मानव शरीर में प्रवेश नहीं कर लेते। एनवाईयू लैंगोन हेल्थ (NYU Langone Health) के अनुसार, यह गंदी रोगज़नक़ त्वचा, कोमल ऊतकों (जैसे उपास्थि, वसा, मांसपेशियों और टेंडन) और यहां तक ​​​​कि फेफड़ों में गंभीर संक्रमण का कारण बनता है। यह सभी को प्रभावित नहीं करता है, लेकिन यदि आपके पास कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली जैसी अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थिति है, तो यह आपको बहुत अधिक जोखिम में डाल सकता है। उन रोगियों के लिए, पारंपरिक एंटीबायोटिक्स बहुत मददगार नहीं हैं क्योंकि माइकोबैक्टीरिया इनके प्रतिरोधी हैं, आधुनिक चिकित्सा को नष्ट करने के लिए तेजी से विकासशील तरीके खोज रहे हैं। इसके उपचार हेतु बैक्टीरियोफेज एक बेहतर विकल्‍प है जिसका उपयोग काफी पहले से किया जा रहा है.सही फेज से लैस, शोधकर्ताओं ने इसका भरपूर विकास किया और इसे मरीजों को IV ड्रिप के माध्यम से दिया जाता है। एम. चेलोने के कारण हुए संक्रमित त्वचा के घावों को हटाने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं और सर्जरी के बाद भी मरीज में सुधार नहीं हो रहा था। लेकिन मड्डी (Muddy ) (एक फेज) को उनकी नसों में डालने के कुछ महीनों के भीतर, आदमी की दर्दनाक त्वचा के घाव सिकुड़ गए, बिना किसी नकारात्मक दुष्प्रभाव के बैक्टीरिया का सफाया हो गया।
वैज्ञानिकों के पास इस बात का पूरा खाका नहीं है कि बैक्टीरियोफेज थेरेपी प्रतिरक्षा-प्रणाली के स्तर और संभावित जोखिम पर कैसे काम करती है। अब तक, मानव रोगियों के साथ नैदानिक ​​परीक्षण समग्र रूप से सुरक्षित रहे हैं, जिनमें कोई नकारात्मक दुष्प्रभाव नहीं बताए गए हैं। लेकिन सही बीमारी के लिए सही फेज का पता लगाना आसान नहीं है। बड़े व्यावसायिक स्तर पर थेरेपी का निर्माण करना भी चुनौतीपूर्ण है। हालांकि, डॉ जैसिका लिटिल का मानना ​​​​है कि यह महत्वपूर्ण है कि शोधकर्ता सबसे कमजोर रोगियों के उपचार में सुधार करने में मदद करने के लिए अनुसंधान का निर्माण करें।"एंटीमाइक्रोबियल (Antimicrobial) प्रतिरोध विश्व स्तर पर एक गंभीर और बढ़ता हुआ खतरा है और इन संक्रमणों के उपचार के लिए फेज थेरेपी एक आशाजनक नया चिकित्सीय विकल्प है," लिटिल ने कहा। "विभिन्न चरणों की एक अविश्वसनीय संख्या है जो अद्वितीय बैक्टीरिया का इलाज कर सकती है - यह सटीक दवा है और यह जटिल है." ए‍क समाचार एजेंसी एएफपी ने बताया कि बेल्जियम (Belgium ) की एक महिला पर फेज थेरेपी (Phage therapy) का इस्तेमाल किया गया, यह महिला 2016 के ब्रसेल्स (Brussels) हवाई अड्डे पर बमबारी में घायल हो गयी थी जिसके बाद इसके शरीर में एक जानलेवा बीमारी विकसित हो गयी थी। जिसके उपचार हेतु फेज थेरेपी (phagotherapy),रोगजनक जीवाणु संक्रमण के उपचार के लिए बैक्टीरियोफेज का चिकित्सीय उपयोग किया गया। एएफपी (AFP) की एक रिपोर्ट के मुताबिक जॉर्जिया की राजधानी त्बिलिसी (Tbilisi) की एक प्रयोगशाला में पेट्री डिश (Petri dish) में एंटीबायोटिक प्रतिरोधी बैक्टीरिया और अच्‍छे वायरस के बीच संघर्ष चल रहा है। यह देश बैक्टीरिया के एंटीबायोटिक-प्रतिरोधी बनने के खतरे से निपटने के लिए एक अभूतपूर्व तरीके से अनुसंधान कर रहा है। त्बिलिसी से भेजे गए बैक्टीरियोफेज ने कथित तौर पर बेल्जियम की महिला के संक्रमण को तीन महीने में ठीक कर दिया, जो दो साल से असफल एंटीबायोटिक उपचार से गुजर रही थी।एलीवा इंस्टीट्यूट ऑफ बैक्टीरियोफेज (Aliva Institute of Bacteriophages) के मजिया कुटाटेलडेज (MaziyaKutteldze) के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि संस्थान उन फेज का उपयोग करता है जो एंटीबायोटिक्स के विफल होने पर मरीजों को ठीक करने के लिए हानिकारक बैक्टीरिया को मारते हैं। उसने कहा कि एक साधारण संक्रमण (साधारण या सामान्य संक्रमण) भी "एक रोगी को मार सकता है क्योंकि रोगज़नक़ ने एंटीबायोटिक दवाओं के लिए प्रतिरोध विकसित किया है।" उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में फागोथेरेपी "सर्वोत्तम विकल्पों में से एक है"। 1930 के दशक में, एंटीबायोटिक दवाओं ने दवा में क्रांति ला दी, जिसके बाद फेज, जिसे लगभग एक सदी से जाना जाता था, को काफी हद तक भुला दिया गया।
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अब रोगाणुरोधी प्रतिरोध को वैश्विक स्वास्थ्य संकट घोषित किया है। चूंकि मानव कोशिकाओं को बरकरार रखते हुए फेज बैक्टीरिया को लक्षित कर सकते हैं, वे वापसी कर रहे हैं।हाल के एक अध्ययन के अनुसार, जब एंटीबायोटिक दवाओं के अति प्रयोग के कारण रोगाणुरोधी प्रतिरोध एक चरम बिंदु पर पहुंच जाता है, तो सुपरबग (superbugs) एक वर्ष में लगभग 10 मिलियन लोगों को मार सकते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि यह तीन दशकों के भीतर हकीकत बन सकता है।
जॉर्जियाई (Georgian) वैज्ञानिक जियोर्गी एलियावा (Giorgi Eliava) वह व्यक्ति थे जिन्होंने फेज विकसित करने के लिए सबसे अधिक प्रयास किए थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्हें 1937 में एक अन्य जॉर्जियाई, लावेरेंटी बेरिया (Lavrentiy Beria) के आदेश पर मार डाला गया था। फेलिक्स डी'हेरेले (Felix d'Herelle ) उन दो लोगों में से एक थे जिन्हें फेज की खोज का श्रेय दिया जाता है। एलियावा, ने इनके साथ काम किया था।शोधकर्ताओं के अनुसार, फेज-आधारित दवाएं फायदेमंद होती हैं क्योंकि वे सस्ती होती हैं, उनके दुष्प्रभाव नहीं होते हैं, और अंगों या आंतों को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। यह एक सस्ता और आसानी से उपलब्ध होने वाला इलाज है।
फेज दवा से परे कई लाभ प्रदान करते हैं। उदाहरण के लिए, फसलों और जानवरों को हानिकारक बैक्टीरिया से बचाने के लिए कृषि में फेज का उपयोग किया जा सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि एलियावा संस्थान पहले ही कपास और चावल को लक्षित करने वाले बैक्टीरिया पर शोध कर चुका है। 2017 में, कनाडाई (Canadian) शोधकर्ताओं ने भीड़-भाड़ वाली जगहों पर एंथ्रेक्स (anthrax) के हमले का मुकाबला करने के लिए बैक्टीरियोफेज का उपयोग करने पर एक अध्ययन प्रकाशित किया था। इसका तात्पर्य यह है कि बैक्टीरियोफेज में जैविक हथियारों का मुकाबला करने और जैव आतंकवाद का मुकाबला करने की क्षमता है। फेज काफी दुर्लभ स्थितियों में पाए जाते हैं, जैसे अस्पताल अपशिष्ट जल प्रणाली, जिसमें एंटीबायोटिक प्रतिरोधी बैक्टीरिया के लिए इष्टतम स्थितियां होती हैं। वर्तमान शोध लक्ष्यों में से एक सभी पहचाने गए चरणों की "लाइब्रेरी" बनाना है, जिसे सुपरबग के अनुसार व्यवस्थित किया जा सकता है जिसे वे मार सकते हैं। एक और लक्ष्य सबसे आम सुपरबग के खिलाफ फेज कॉकटेल (phage cocktails) बनाना है जिसका व्यापक रूप से आबादी में उपयोग किया जा सकता है।
सुपरबग्स (superbugs) एंटीबायोटिक दुरुपयोग का प्रत्यक्ष परिणाम हैं। किसी भी प्रकार के संक्रमण के रोकथाम के लिए अंधाधुंध उपयोग या मवेशियों को मोटा करने के कारण कई बैक्टीरिया कई या सभी ज्ञात एंटीबायोटिक दवाओं के खिलाफ प्रतिरक्षा विकसित कर चुके हैं। लक्ष्य अब उसी चीज़ को चरणों के साथ होने से रोकना है। यही कारण है कि "लाइटिक" वायरस - जो बैक्टीरिया में प्रवेश करते हैं और इसे नष्ट कर देते हैं,की मांग बढ़ रही है। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि वायरस अपने जीनोम को बैक्टीरिया के डीएनए के कुछ हिस्सों के साथ एकीकृत नहीं करते हों। यदि ऐसा होता है, तो वे संचरण के लिए एक वाहन बन सकते हैं ।

संदर्भ:
https://bit.ly/3OVcHtL
https://bit.ly/3waaiTb
https://bit.ly/3vNVMBA

चित्र संदर्भ
1  बैक्टीरियोफेज (bacteriophages) को दर्शाता एक चित्रण (Pixabay)
2. बैक्टीरियोफेज (bacteriophages) और कोरोना वायरस को दर्शाता एक चित्रण (Innovative Genomics Institute)
3. अपने जीनोम को बैक्टीरिया में इंजेक्ट करते हुए बैक्टीरियोफेज को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)
4. माइक्रोस्कोप से बैक्टीरियोफेज को दर्शाता एक चित्रण (wikimedia)

RECENT POST

  • जगन्नाथ रथ यात्रा विशेष: दुनिया के सबसे बड़े रथ उत्सव से जुडी शानदार किवदंतियाँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:22 AM


  • भारत के सबसे बड़े आदिवासी समूहों में से एक, गोंड जनजाति की संस्कृति व् परम्परा, उनके सरल व् गूढ़ रहस्य
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:35 AM


  • सिंथेटिक कोशिकाओं में छिपी हैं, क्रांतिकारी संभावनाएं
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:19 AM


  • मेरठ का 300 साल पुराना शानदार अबू का मकबरा आज बकरियों का तबेला बनकर रह गया है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:15 AM


  • ब्लास्ट फिशिंग से होता न सिर्फ मछुआरे की जान को जोखिम, बल्कि जल जीवों को भी भारी नुकसान
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:25 AM


  • एक पौराणिक जानवर के रूप में प्रसिद्ध थे जिराफ
    शारीरिक

     26-06-2022 10:08 AM


  • अन्य शिकारी जानवरों पर भारी पड़ रही हैं, बाघ केंद्रित संरक्षण नीतियां
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:49 AM


  • हम में से कई लोगों को कड़वे व्यंजन पसंद आते हैं, जबकि उनकी कड़वाहट कई लोगों के लिए सहन नहीं होती
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:49 AM


  • भारत में पश्चिमी शास्त्रीय संगीत धीरे-धीरे से ही सही, लेकिन लोकप्रिय हो रहा है
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:30 AM


  • योग शरीर को लचीला ही नहीं बल्कि ताकतवर भी बनाता है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:23 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id