Post Viewership from Post Date to 04-Mar-2022
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
363 363

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

हमको हमारे स्मार्टफोन पर फिल्में क्यों नहीं देखनी चाहिए?

मेरठ

 02-02-2022 09:52 AM
संचार एवं संचार यन्त्र

वर्तमान समय पर कई लोग स्मार्टफोन पर फिल्म देखना पसंद करते हैं, लेकिन इसकी अपनी सीमाएं हैं, जो अनुभव हम थियेटर में प्राप्त करते हैं, वो हम स्मार्टफोन से नहीं प्राप्त कर सकते हैं, इसलिए कई लोग स्ट्रीमिंग (Streaming) सेवाओं को अनदेखाकर देते हैं। एक स्ट्रीमिंग सेवा का पूरा उद्देश्य यह है कि ये बड़ी स्क्रीन (Screen) वाले डिस्प्ले (Display) से लेकर टैबलेट (Tablet) या नुक (Nook) या किंडल (Kindle) या गैलेक्सी (Galaxy) या आईफोन (iPhone) तक, बहुत सारे उपकरणों पर देखने के लिए प्रकरण को उपलब्ध कराना।भारत में कम दाम में स्मार्टफोन और डेटा मिलने के साथ भारतीय घरों में स्मार्टफोन की संख्या में बढ़ोतरी हुई है, तथा इसने मोबाइल फोन पर नियमित प्रीमियम वीडियो स्ट्रीमिंग में वृद्धिके मार्ग को प्रशस्त किया है। मोबाइल वीडियो और मीडिया फर्म वुक्लिप (Mobile Video And Media Firm Vuclip) के एक अध्ययन से पता चलता है कि अधिकांश भारतीयों, विशेष रूप से युवाओं ने कहा कि वे लागत और प्रतिरोधक चिंताओं के बावजूद अपने मोबाइल पर फिल्मों जैसे लंबे वीडियो का उपभोग करना पसंद करेंगे।वुक्लिप की तीसरी तिमाही के ग्लोबल वीडियो इनसाइट्स 2013 (Global Video Insights 2013) के सर्वेक्षण के अनुसार, आवृत किए गए उत्तरदाताओं में से आधे से अधिक ने कहा कि वे अपने फोन पर लघु फिल्म क्लिप के बजाय फिल्में या टीवी धारावाहिक देखेंगे। सर्वेक्षण में कहा गया है कि "सभी उत्तरदाताओं में से अस्सी प्रतिशत का कहना है कि वे अपनी पसंदीदा फिल्म अपने मोबाइल पर देखेंगे यदि यह उपलब्ध हो जाती है"।इसमें कहा गया है कि अगर लिंग से और विभाजित किया जाए, तो भारत के 90 प्रतिशत पुरुष उत्तरदाताओं और 84 प्रतिशत महिला उत्तरदाताओं का कहना है कि वे मोबाइल के माध्यम से अपनी पसंदीदा फिल्म देखेंगे। मोबाइल फिल्म देखने वाले कुल उत्तरदाताओं में से 97 प्रतिशत 18 और उससे कम आयु वर्ग के हैं। 24 सितंबर से 1 अक्टूबर 2013 के बीच भारत के करीब 8,000 लोगों को इस सर्वेक्षण में शामिल किया गया। विश्व स्तर पर इसने 50,000 से अधिक लोगों को आवृत किया।फिल्मों के अलावा, 81 प्रतिशत उत्तरदाताओं के बीच टीवी धारावाहिक पसंदीदा के रूप में उभरे,साथ ही यदि स्ट्रीमिंग के लिए उपलब्ध हो तो वे मोबाइल पर अपना पसंदीदा टीवी धारावाहिकदेखना पसंद करते हैं। यह वरीयता विशेष रूप से 18 वर्ष और 95 प्रतिशत से कम आयु वर्ग के बीच गहन है।ये निष्कर्ष आगे बताते हैं कि कैसे भारत में युवा मोबाइल के माध्यम से लंबे समय तक प्रकरण की खपत की बढ़ती प्रवृत्ति को चला रहे हैं।मोबाइल के उपयोग में वृद्धि इन स्ट्रीमिंग ऐप्स (Apps) और सेवाओं में से कुछ द्वारा प्रदान की जाने वाली विविधता और चयन से भी प्रभावित हो सकती है। कुछ 53% उपभोक्ताओं जो नेटफ्लिक्स (Netflix) का उपयोग करते हैं का सर्वेक्षण किया गया, जिसमें उन्होंने बताया कि वे प्रकरण की विविधता को उत्कृष्ट मानते हैं। निस्संदेह, इस भावना का एक हिस्सा नेटफ्लिक्स की मूल प्रकरण की कथित गुणवत्ता के कारण है।वहीं डिज़नी + (Disney+) द्वारा नेटफ्लिक्स को अच्छी टक्कर दी जा रही है, क्योंकि इस अपेक्षाकृत नए सब्सक्रिप्शन-आधारित वीडियो-ऑन-डिमांड (Subscription-based video-on-demand) के उपयोगकर्ताओं के समान प्रतिशत (53%) ने विविधता और प्रकरण के चयन के मामले में इसे उत्कृष्ट माना है।वहीं 2019 में नेटफ्लिक्स ने भारत के लिए एक खास प्लेन लॉन्च किया, जिसमें वे 199 रुपये के नए मोबाइल-ओनली प्लान (Mobile-only plan) के लॉन्च के साथ हॉटस्टार (Hotstar) और अमेज़न प्राइमवीडियो (Amazon Prime Video) को मात देने की कोशिश की। यह पहली बार था जब नेटफ्लिक्स ने अपने किसी भी बाजार में मोबाइल-ओनली प्लान पेश किया। सस्ता मोबाइल-ओनली प्लान कंपनी के मौजूदा मूल मासिक प्लेन 499 रुपये की कीमत का आधा है।199 रुपये प्रति माह के लिए योजना आपको नेटफ्लिक्स के सभी प्रकरण को देखने की अनुमति प्रदान करती है, जिसमें सैकड़ों टीवी शो और फिल्में शामिल हैं, लेकिन एक नुकसान है। यह प्लान 480p पर केवल मानक परिभाषा (एसडी (SD) के रूप में जाना जाता है) देखने की पेशकश करता है, और यह केवल स्मार्टफोन और टैबलेट के लिए उपलब्ध है।प्लेन को सस्ते करने के पीछे का एक मूल कारण भारत में अपने ग्राहकों की संख्या को बढ़ाना है।
जैसा कि हम जान चुके हैं कि भारत में प्रकरण को स्ट्रीमिंग एप्प के जरिए देखना काफी आरामदायक और सुविधाजनक है, लेकिन इसकी कुछ हानियाँ भी मौजूद हैं। 2020 में आई निर्देशक सूरी की फिल्म पॉपकॉर्न मंकी टाइगर(Popcorn Monkey Tiger)के बारे में एक स्पष्ट बातचीत के दौरान उन्होंने जिक्र किया कि लोगों को मोबाइल के बजाए बड़े पर्दे पर फिल्म का अनुभव करना चाहिए। उन्होंने बताया कि “फिलहाल मेरे लिए चुनौती यह है कि मैं उन्हें मोबाइल पर फिल्म देखने औरसिनेमाघरों में इसका अनुभव न करने दूं। मैंने मोबाइल पर फिल्में देखकर फिल्म बनाना नहीं सीखा। किसी फिल्म का निर्देशन करने से पहले मैं सिनेमाघरों में गया और कुछ महान फिल्म निर्माताओं के साउंड डिजाइनिंग (Sound designing), दृश्यों और कार्यों का अनुभव किया। मैं चाहता हूं कि लोग थिएटर में हमारे प्रयास का अनुभव करें।”तो चलिए जानते हैं हमें अपने स्मार्टफोन पर फिल्में क्यों नहीं देखनी चाहिए?ऐसे अनगिनत कारण हैं जिनकी वजह से आपको कभी भी अपने स्मार्टफोन पर फिल्में नहीं देखनी चाहिए।
 अपने स्मार्टफोन पर फिल्में देखना असभ्य माना जाता है:स्मार्टफोन पर फिल्में देखने का मतलब यह है कि हम कहीं भी फिल्मों को देख सकते हैं। लेकिन ये ही एक समस्या का कारण है। एक किताब पढ़ने की शांत, गैर-दखल गतिविधि के विपरीत, एक फिल्म देखना, कभी-कभी अनजाने में, एक सांप्रदायिक अनुभव होता है। क्या आपने कभी हवाई जहाज में सफर के दौरान कुछ नींद लेने की कोशिश की है, लेकिन इसके बजाय आपका ध्यान उस फिल्म की ओर खींच जाता है जो आपके सामने बैठा व्यक्ति देख रहा था, भले ही आपको आवाज नहीं सुनाई दें?यही सिद्धांत कहीं और भी लागू होता है जब आप सार्वजनिक (मेट्रो, ट्रेन, बस, या डॉक्टर का प्रतीक्षालय) रूप से अपने फोन पर फिल्म देखने के बारे में सोचेंगे। इससे आपके आस पास के लोग आपके द्वारा देखी जाने वाली फिल्म के प्रति बिना इच्छा के आकर्षित होंगे।
 अपने स्मार्टफ़ोन पर फिल्म देखना आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है:श्रम-दक्षता की दृष्टि से, आपके फोन पर फिल्म देखने का कोई सहज तरीका नहीं है, क्योंकि यदि आप एक कुर्सी पर बैठे हैं तो फिल्म देखने के लिए आपकी गर्दन पर अधिक जोर पड़ेगा। और अगर आप इसे अपनी आंखों के स्तर तक लाने की कोशिश करते हैं तब आपकी बाहें थकेगी।
 अपने स्मार्टफ़ोन पर फिल्म देखने से अनुभव कम होता है:यदि अब आप यह सोच रहे हैं कि क्यों न मैं फ़ोन की स्क्रीन को अपनी आँखों तक पूरी तरह से पकड़ कर रख सकता हूँ तो क्या आप संपूर्ण 90 मिनट तक पकड़ के रख सकते हो। इसके अतिरिक्त, आपको स्वयं भी पूरी तरह से स्थिर रहना होगा, ताकि आप किसी भी तरह से हंस या प्रतिक्रिया न कर सकें।भले ही आप सबसे अच्छी स्मार्टफोन स्क्रीन में निवेश करें, वे फिर भी एक बड़े बजट ब्लॉकबस्टर (Budget Blockbuster) के दृश्यों की सराहना करने के लिए एक स्मार्टफोन स्क्रीन बस आपके लिए पर्याप्त नहीं है।
 अपने स्मार्टफ़ोन पर फिल्म देखना कला का अवमूल्यन करता है:लगभग किसी भी फिल्म को, कभी भी, कहीं भी देखने की क्षमता का मतलब है कि फिल्में हमारे जीवन में अत्यंत महत्व नहीं रख पा रही है, हमेशा पृष्ठभूमि में मौजूद रहने की वजह से इसकी सराहना कम होती जाती है।यह फिल्म उद्योग के लिए खराब है, क्योंकि औसत-लेकिन-सुलभ फिल्में बड़े बजट की ब्लॉकबस्टर के मुकाबले ही अच्छा प्रदर्शन करती हैं। लेकिन यह हमारे लिए भी बुरा है,क्योंकि इससे फिल्म उद्योग बजट कम होने के साथ ही गुणवत्ता मेंभी गिरावटकर देंगें।
 अपने स्मार्टफ़ोन पर फिल्म देखना फिल्म निर्माताओं को निराश करता है:कोई भी फिल्म निर्माता अपने आजीवन के सपने को छोटे पर्दे पर दिखाने के लिए नहीं बनाता है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि नेटफ्लिक्स और अमेज़ॅन प्राइम जैसे वितरक आपको क्या लाभ दे रहे हैं, हमें उनकी पसंद का ध्यान भी रखना चाहिए जो हमारे लिए फिल्मों को बना रहे हैं। अगली बार जब आप अपने फोन पर फिल्म देखने की इच्छा महसूस करें, तो इसके बजाय अपने स्थानीय थिएटर में जाएं।यदि आप ऐसा करते हैं, तो आप स्थानीय अर्थव्यवस्था और समग्र रूप से कला का समर्थन करते हैं। लेकिन इसे परोपकार का कार्य न समझें। एक नज़र डालें कि कैसे फिल्म थिएटर आपको एक अनूठा अनुभव प्रदान करके अपने अस्तित्व को सुनिश्चित कर सकते हैं; कुछ ऐसा जो आपका स्मार्टफोन प्रदान नहीं कर सकता।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3gcwwMY
https://bit.ly/35GNi4Z
https://bit.ly/3KVkiqa
https://bit.ly/3raiTUO
https://bit.ly/3ujcdWx

चित्र संदर्भ   
1. मोबाइल में फिल्म देखती महिला को दर्शाता एक चित्रण (stock)
2. tv पर फिल्म देखते भारतीय परिवार को दर्शाता एक चित्रण (stock)
3. विभिन्न ott माध्यमों को दर्शाता एक चित्रण (Khaleej Times)
4. परिवार सहित फिल्म देखने को संदर्भित करता एक चित्रण (WBUR)

***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • विदेशी फलों से किसानों को मिल रही है मीठी सफलता
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:11 AM


  • प्रागैतिहासिक काल का एक मात्र भूमिगतमंदिर माना जाता है,अल सफ़्लिएनी हाइपोगियम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 10:58 AM


  • तनावग्रस्त लोगों के लिए संजीवनी बूटी साबित हो रही है, संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:02 AM


  • जगन्नाथ रथ यात्रा विशेष: दुनिया के सबसे बड़े रथ उत्सव से जुडी शानदार किवदंतियाँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:22 AM


  • भारत के सबसे बड़े आदिवासी समूहों में से एक, गोंड जनजाति की संस्कृति व् परम्परा, उनके सरल व् गूढ़ रहस्य
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:35 AM


  • सिंथेटिक कोशिकाओं में छिपी हैं, क्रांतिकारी संभावनाएं
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:19 AM


  • मेरठ का 300 साल पुराना शानदार अबू का मकबरा आज बकरियों का तबेला बनकर रह गया है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:15 AM


  • ब्लास्ट फिशिंग से होता न सिर्फ मछुआरे की जान को जोखिम, बल्कि जल जीवों को भी भारी नुकसान
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:25 AM


  • एक पौराणिक जानवर के रूप में प्रसिद्ध थे जिराफ
    शारीरिक

     26-06-2022 10:08 AM


  • अन्य शिकारी जानवरों पर भारी पड़ रही हैं, बाघ केंद्रित संरक्षण नीतियां
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:49 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id