भारतीय अजगर

मेरठ

 21-12-2017 04:19 PM
रेंगने वाले जीव
मानव के सम्पूर्ण इतिहास में सापों से इसका रिश्ता अत्यन्त दिलचस्प तो है पर साथ-साथ डरावना भी है। कई संस्कृतियों में सापों को दानव के साथी के रूप में प्रदर्शित किया गया है। बाइबल से लेकर कालिया नाग तक हम इसके साक्ष्य पाते हैं। साँप सम्पूर्ण विश्व में पाए जाते हैं बस बर्फीले इलाकों को छोड़कर। साँप भी कई रूपों के होते हैं। किंग कोबरा से लेकर विश्व के सबसे छोटे साँप –वेस्टइंडीज़ थ्रेड स्नेक तक। भारत में एकतरफ साँप को यदि कालिया नाग के रूप में प्रदर्शित किया गया है तो वहीं भगवान शंकर से भी जोड़ कर दिखाया गया है जिसके कारण नागपंचमी पर साँपों की पूजा अर्चना की जाती है। मेरठ में भी कई नस्लों के साँप पाए जाते हैं जैसे करैत, कोबरा, गेहुअन आदि। उल्लखित नामों के अलावा मेरठ व भारत में कई स्थानों पर एक और साँप पाया जाता है जो एकदम से जहरीला नही होता और आकार में किंग कोबरा से भी बड़ा होता है। यह है अजगर। अजगर (पाइथॉन) मुख्यरूप से गर्म स्थानों पर पाया जाता है। अजगर एनीमेलिया जगत से सम्बन्धित होते हैं तथा इनका संघ कार्डेटे, वर्ग सरीसृप, गण स्कूमाटा, उपगण सर्प है। अजगर का निवास स्थान पेड़ पर या फिर पानी के किनारों पर होता है। जैसा की यह जहरीला नही होता इसलिये यह साँप शिकार को जकड़ कर मारते हैं। मारने के उपरांत यह अपने शिकार को निगल कर खाते हैं। आकार के अनुसार भारतीय अजगर 25 फुट तक लम्बाई का हो सकता है तथा 18 फुट के ऊपर के अजगर दुर्लभ श्रेणी में आते हैं। अजगर के सपोलों का आकार करीब 40 से 45 सें.मी. होता है। भारतीय अजगर के शारीरिक संरचना में तीन बाते प्रमुख हैं- पृष्ठीय भाग, उदर भाग व सर। यदि भारतीय अजगर की बात की जाये तो इनकी पृष्ठीय संरचना पर अनियमित प्रकार के धब्बे पड़े रहते हैं जो देखने में गहरे भूरे, काले, सफेद व पीले रंग के होते हैं। इनका उदर भाग अन्य सापों से ज्यादा सिकुड़ा हुआ होता है तथा रंग सफेद व हल्के पीले रंग के मिश्रण का बना होता है। अजगरों में मादा या नर दोनों में गुदा के पास उभार होता है। अजगर का सर त्रिकोणात्मक होता है जो कि साफ तौर पर गले से ज्यादा बड़ा होता है। अक्सर लोग अजगर को मार देते हैं तथा कई इनका शिकार भी करते हैं जिस वजह इनकी संख्या अत्यन्त कम होने लगी है। मेरठ के आसपास के क्षेत्र में अजगर बड़ी संख्या में पाए जाते थे पर अब इनकी संख्या अत्यन्त कम हो गया है। 1. इंडियन स्नेक: ओ.आर.जी. इंडियन रॉक पाइथॉन 2. इनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ लाइफ, पाइथॉन मोल्युरस, इंडियन पाइथॉन 3. http://www.bagheera.com/inthewild/van_anim_python.htm

RECENT POST

  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM


  • अफ्रीका की जंगली भैंसे
    स्तनधारी

     02-12-2018 11:50 AM