भारतीय अजगर

मेरठ

 21-12-2017 04:19 PM
रेंगने वाले जीव
मानव के सम्पूर्ण इतिहास में सापों से इसका रिश्ता अत्यन्त दिलचस्प तो है पर साथ-साथ डरावना भी है। कई संस्कृतियों में सापों को दानव के साथी के रूप में प्रदर्शित किया गया है। बाइबल से लेकर कालिया नाग तक हम इसके साक्ष्य पाते हैं। साँप सम्पूर्ण विश्व में पाए जाते हैं बस बर्फीले इलाकों को छोड़कर। साँप भी कई रूपों के होते हैं। किंग कोबरा से लेकर विश्व के सबसे छोटे साँप –वेस्टइंडीज़ थ्रेड स्नेक तक। भारत में एकतरफ साँप को यदि कालिया नाग के रूप में प्रदर्शित किया गया है तो वहीं भगवान शंकर से भी जोड़ कर दिखाया गया है जिसके कारण नागपंचमी पर साँपों की पूजा अर्चना की जाती है। मेरठ में भी कई नस्लों के साँप पाए जाते हैं जैसे करैत, कोबरा, गेहुअन आदि। उल्लखित नामों के अलावा मेरठ व भारत में कई स्थानों पर एक और साँप पाया जाता है जो एकदम से जहरीला नही होता और आकार में किंग कोबरा से भी बड़ा होता है। यह है अजगर। अजगर (पाइथॉन) मुख्यरूप से गर्म स्थानों पर पाया जाता है। अजगर एनीमेलिया जगत से सम्बन्धित होते हैं तथा इनका संघ कार्डेटे, वर्ग सरीसृप, गण स्कूमाटा, उपगण सर्प है। अजगर का निवास स्थान पेड़ पर या फिर पानी के किनारों पर होता है। जैसा की यह जहरीला नही होता इसलिये यह साँप शिकार को जकड़ कर मारते हैं। मारने के उपरांत यह अपने शिकार को निगल कर खाते हैं। आकार के अनुसार भारतीय अजगर 25 फुट तक लम्बाई का हो सकता है तथा 18 फुट के ऊपर के अजगर दुर्लभ श्रेणी में आते हैं। अजगर के सपोलों का आकार करीब 40 से 45 सें.मी. होता है। भारतीय अजगर के शारीरिक संरचना में तीन बाते प्रमुख हैं- पृष्ठीय भाग, उदर भाग व सर। यदि भारतीय अजगर की बात की जाये तो इनकी पृष्ठीय संरचना पर अनियमित प्रकार के धब्बे पड़े रहते हैं जो देखने में गहरे भूरे, काले, सफेद व पीले रंग के होते हैं। इनका उदर भाग अन्य सापों से ज्यादा सिकुड़ा हुआ होता है तथा रंग सफेद व हल्के पीले रंग के मिश्रण का बना होता है। अजगरों में मादा या नर दोनों में गुदा के पास उभार होता है। अजगर का सर त्रिकोणात्मक होता है जो कि साफ तौर पर गले से ज्यादा बड़ा होता है। अक्सर लोग अजगर को मार देते हैं तथा कई इनका शिकार भी करते हैं जिस वजह इनकी संख्या अत्यन्त कम होने लगी है। मेरठ के आसपास के क्षेत्र में अजगर बड़ी संख्या में पाए जाते थे पर अब इनकी संख्या अत्यन्त कम हो गया है। 1. इंडियन स्नेक: ओ.आर.जी. इंडियन रॉक पाइथॉन 2. इनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ लाइफ, पाइथॉन मोल्युरस, इंडियन पाइथॉन 3. http://www.bagheera.com/inthewild/van_anim_python.htm

RECENT POST

  • स्थिर विद्युत(Static Electricity) के पीछे का विज्ञान
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     22-02-2019 11:13 AM


  • ओलावृष्टि क्‍यों बन रही है विश्‍व के लिए एक चिंता का विषय?
    जलवायु व ऋतु

     21-02-2019 11:55 AM


  • हिन्दी भाषा के विवध रूपों कि व्याख्या
    ध्वनि 2- भाषायें

     20-02-2019 11:05 AM


  • उच्च रक्तचाप के लिये लाभकारी है योग
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     19-02-2019 10:59 AM


  • रॉबर्ट टाइटलर द्वारा खींची गई अबू के मकबरे की एक अद्‌भुत तस्वीर
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     18-02-2019 11:11 AM


  • बदबूदार कीड़े कैसे उत्पन्न करते है बदबूदार रसायन
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     17-02-2019 10:00 AM


  • सफल व्यक्ति की पहचान
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-02-2019 11:55 AM


  • क्या होते हैं वीगन (Vegan) समाज के आहार?
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     15-02-2019 10:24 AM


  • क्‍या है प्रेम के पीछे रसायनिक कारण ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     14-02-2019 12:47 PM


  • स्‍वच्‍छ शहर बनने के लिए इंदौर से सीख सकता है मेरठ
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     13-02-2019 02:26 PM