Post Viewership from Post Date to 12-Nov-2021 (30th Day)
City Subscribers (FB+App) Website (Direct+Google) Email Instagram Total
3093 156 3249

***Scroll down to the bottom of the page for above post viewership metric definitions

भारत में कम होते संरक्षित वन यहां की जैव विविधता को बनाये रखने के लिए अपर्याप्त हो चुके है

मेरठ

 13-10-2021 05:54 PM
निवास स्थान

एक नए अध्ययन में पाया गया है कि अधिकांश जंगली प्रजातियों की पर्यावरणीय परिवर्तनों के अनुकूल होने की क्षमता उनके आवास के नुकसान के कारण खतरे में है। वैज्ञानिक यह जानने की कोशिश कर रहे हैं किकैसेSARS-CoV-2 रोगज़नक़(जो कोविड -19 रोग का कारण बनता है),चमगादड़ से मनुष्यों में फैल सकता है।नवीनतम शोध के अनुसार चमगादड़ों को विषाणु का सबसे संभावित वाहक मानाजाता है। कई वैज्ञानिकों ने जूनोटिक (Zoonotic - जानवरों के साथ मानव संपर्क से उत्पन्न होने वाली बीमारियां) के प्रकोप के पीछे जंगली प्रजातियों के निवास स्थान के नुकसान को मुख्य कारण बताया है।
इस तरह के खतरनाक आवास नुकसान का कारण यह है कि अंतरराष्ट्रीय संरक्षण नीतियों ने संरक्षित क्षेत्रों के विस्तार के लिए लक्ष्य निर्धारित करते समय प्रजातियों के विशिष्ट आवासों पर विचार नहीं किया गया है।वैश्विक संरक्षित क्षेत्र नेटवर्क, जिसका अर्थ है कि कानून के तहत संरक्षित वन या अन्य पारिस्थितिक तंत्र, 19,937 कशेरुक प्रजातियों के बहुमत के लिए आवश्यक पर्यावरणीय या जलवायु परिस्थितियों को आवृत नहीं करते हैं।उदाहरण के लिए, विश्व स्तर पर संरक्षित क्षेत्रों में 93.1%उभयचरों; 89.5% पक्षियों और90.9% स्थलीय स्तनपायी प्रजातियों का शरण आवास का प्रतिनिधित्व करना अपर्याप्त है।
एक पारिस्थितिक आवास एक भूमिका है जो एक निश्चित प्रजाति अपने पर्यावरण में निभाती है। साथ ही उस स्थान की जलवायु परिस्थितियाँ यह निर्धारित करती हैं कि प्रजातियाँ कितनी अच्छी तरह जीवित रह सकती हैं लेकिन जब वे अपने आवास से नहीं जुड़ी होती हैं तो उनकी अनुकूलन करने की क्षमता कम हो जाती है। हिमालय एक ऐसा क्षेत्र है जो शक्तिशाली चोटियों, शुद्ध झीलों, समृद्ध जंगलों और व्यापक मैदानों को समेटे हुए है, लेकिन यह एक नाजुक परिदृश्य है जो तेजी से जनसंख्या वृद्धि के कारण नष्ट हो रही है।निवास स्थान का नुकसान इस क्षेत्र में व्यापक है, मूल हिमालयी आवास का 75% से अधिक नष्ट या अवक्रमित हो गया है। ईंधन की लकड़ी और चारा संग्रह ने जंगलों और घास के मैदानों को नुकसान पहुंचाया है। व्यापक पशुधन चराई ने आवास संरचनाओं को नष्ट कर दिया है, और तेजी से विकास प्रजातियों के आवास और विखंडन आबादी को नष्ट कर रहा है। यदि देखा जाएं तो पूर्वी हिमालय की आबादी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा गरीबी रेखा से काफी नीचे है और जीवित रहने के लिए फसल कृषि, पशुधन पालन और गैर-लकड़ी वन उत्पादों के उपयोग पर निर्भर है। नकदी फसलों की बड़े पैमाने पर खेती की जाती है और जंगलों से जलाऊ लकड़ी, चारा और छप्पर घास निकाली जाती है। जिसका सभी ने क्षेत्र के प्राकृतिक आवासों पर काफी गहरा प्रभाव डाला है।इसके अलावा ईंधन की लकड़ी और चारा संग्रह पूर्वी हिमालय में निवास स्थान के क्षरण के 2 प्रमुख कारण हैं, जिससे निवास स्थान की संरचना और प्रजातियों के नुकसान में परिवर्तन होता है। यह भारत और नेपाल (Nepal) के निचले इलाकों में विशेष रूप से गंभीर है जहां जनसंख्या का दबाव सबसे अधिक है।
समय के साथ जहां क्षेत्र की जनसंख्या का विस्तार हो रहा है और जंगलों और घास के मैदानों को कृषि भूमि और बस्तियों में परिवर्तित किया जा रहा है। जिसके परिणामस्वरूप जैव विविधता समृद्ध आवास के विशाल क्षेत्रों और महत्वपूर्ण वन्यजीव गलियारों को नष्ट किया जा रहा है। यह नेपाल के घनी आबादी वाले क्षेत्रों और सिक्किम (Sikkim) और असम (Assam) के भारतीय राज्यों में सबसे अधिक तीव्र है।
विकास के लिए अक्सरआवास का विनाश किया जाता है। संपूर्ण भारत में, खनन, बांध, जलविद्युत परियोजनाओं, राजमार्गों, इंजीनियरिंग कॉलेजों, आश्रमों और अन्य उद्देश्यों के लिए संरक्षित क्षेत्रों में और उसके आसपास हर साल सैकड़ों परियोजनाओं को मंजूरी दी जाती है।वहीं जब एक आवास को नष्ट कर दिया जाता है, तो स्वदेशी पौधों, जानवरों और अन्य जीवों की वहन क्षमता कम हो जाती है जिससे कि उनकी आबादी में गिरावट आने लगती है, जो कभी-कभी विलुप्त होने के स्तर तक पहुँच जाती है।पर्यावास का नुकसान शायद जीवों और जैव विविधता के लिए सबसे बड़ा खतरा है।टेंपल (Temple 1986) ने पाया कि 82% लुप्तप्राय पक्षी प्रजातियों को निवास स्थान के नुकसान से काफी खतरा था। अधिकांश उभयचरप्रजातियों को भी मूल निवास स्थान के नुकसान से खतरा है, और कुछ प्रजातियां अब केवल संशोधित आवास में प्रजनन कर रही हैं।
सीमित सीमा वाले स्थानिक जीव निवास स्थान के विनाश से सबसे अधिक प्रभावित होते हैं, मुख्यतः क्योंकि ये जीव दुनिया के भीतर कहीं और नहीं पाए जाते हैं, और इस प्रकार उनकी आबादी के फिर से बढ़ने की संभावना कम होती है। कई स्थानिक जीवों को अपने अस्तित्व के लिए बहुत विशिष्ट आवश्यकताएं होती हैं जो केवल एक निश्चित पारिस्थितिकी तंत्र के भीतर पाई जा सकती हैं, जिसके अभाव में वे विलुप्ति के कगार में पहुँच जाते हैं।पर्यावास विखंडन मौजूद अधिकांश संरक्षण समस्याओं का मुख्य कारण है। यह देखने के लिए कई प्रयोग किए गए हैं कि क्या निवास स्थान के विखंडन का कई प्रजातियों के आवास के नुकसान से किस प्रकार का संबंध है।उन्होंने एक सर्वेक्षण चलाया जिसमें पता चला कि दुनिया भर में लगभग 20 प्रयोग हुए और इन प्रयोगों का मुख्य उद्देश्य पारिस्थितिकी में सामान्य मुद्दों को दिखाना या समझाना था।पर्यावास का नुकसान, आवास विखंडन से प्रभावित सबसे बड़ी चीजों में से एक रहा है, लेकिन जब उस क्षेत्र की जैव विविधता की बात आती है तो प्रजातियों के भीतर बहुत कुछ नहीं होता है। विखंडन का प्रजातियों पर इतना अधिक प्रभाव रहा है कि वह प्रजातियों को उनके स्वाभाविक रूप से कार्य करने में बाधा डालता है।यह प्रजातियों को अलग-थलग रहने में विवश कर देता है, उस क्षेत्र को कम करता है जहां वे रह सकते हैं, और कई पारिस्थितिक सीमाओं को भी उत्पन्न कर देता है।
सेंटर फॉरसाइंस एंड एनवायरनमेंट (Centre for Science and Environment) की नई रिपोर्ट 'स्टेट ऑफ इंडियाज एनवायरनमेंट इन फिगर्स 2021 (State of India’s Environment in Figures 2021)' के अनुसार, भारत में चार जैव विविधता वाले हॉटस्पॉट हैं और इस क्षेत्र का 90% नष्ट हो चुका है।रिपोर्ट में संकलित आंकड़ों के अनुसार, इंडो-बर्मा (Indo-Burma)हॉटस्पॉट सबसे बुरी तरह प्रभावित है और इसने अपना 95% वनस्पति क्षेत्र खो दिया है, जो 23.73 लाख वर्ग किमी से बढ़कर 1.18 लाख वर्ग किमी हो गया है। एक और चिंताजनक पहलू यह है कि इन चार हॉटस्पॉट में 25 प्रजातियां भी विलुप्त हो चुकी हैं।भारत में, 1,212 जानवरों की प्रजातियों की निगरानी इंटरनेशनल यूनियन फॉरकंजर्वेशन ऑफ नेचर (International Union for Conservation of Nature) द्वारा अपनी लाल सूची में की जाती है, और इनमें से 12% से अधिक प्रजातियाँ यानि 148 लुप्तप्राय हैं। लुप्तप्राय प्रजातियों में 69 स्तनधारी, 23 सरीसृप और 56 उभयचर हैं।
वहीं रिपोर्ट में बताया गया है कि एक प्रमुख मुद्दा जिसने आग को खतरे में डाल दिया है, वह है जंगल की आग, जो साल की शुरुआत से काफी अधिक है। ओडिशा, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड और मध्य प्रदेश उन 16 राज्यों में शामिल हैं, जिन्होंने इस पहलू में वृद्धि देखी है। इस वर्ष 1 मई तक, 4.33 लाख जंगल की आग दर्ज की गई थी, हालांकि जंगल की आग के मौसम को उस समय आने में एक और महीना बाकी था। चिंता की बात यह है कि इस साल मौसम असामान्य रूप से गर्म रहा है, और पिछले मानसून में 8.7% अतिरिक्त बारिश हुई थी, जिससे जंगल की आग फैलने के लिए मौसम पर्याप्त रूप से आर्द्र हो गया था।इतना ही नहीं बल्कि देश के 14 राज्यों या केंद्र शासित प्रदेशों ने भी कार्बन (Carbon)प्रतिधारण सेवाओं या कार्बन अधिग्रहण में गिरावट दर्ज की है। कार्बन अधिग्रहण से तात्पर्य ग्लोबलवार्मिंग (Globalwarming) को नियंत्रित करने या कम करने के लिए वातावरण से कार्बन को लंबे समय तक हटाने या अधिकृत करने से है, और यह स्वाभाविक रूप से जैविक, भौतिक और रासायनिक प्रक्रियाओं का उपयोग करके किया जाता है। इन सेवाओं में गिरावट का अर्थ है वातावरण से कार्बन डाइऑक्साइड (Carbon Dioxide) के अवशोषण में गिरावट। साथ ही पर्यावरण पर मानवीय गतिविधियों के प्रभाव को कम करने के लिए मानवीय हस्तक्षेप को कम करने की आवश्यकता है।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3Dty3b5
https://bit.ly/3v2syNu
https://bit.ly/3v6SyXZ
https://bit.ly/3FDGNNt
https://bit.ly/3mJvPgV

चित्र संदर्भ
1. खुले मैदान में भयभीत होकर दौड़ लगाते हिरणों का एक चित्रण (China Dialogue)
2. जीव-जंतुओं में विविधताओं को संदर्भित करता एक चित्रण (istockphoto)
4. जंगल की आग को दर्शाता का एक चित्रण (Inside Climate News)
5. जैव विविधता को संदर्भित करता एक चित्रण (Bloomberg)

***Definitions of the post viewership metrics on top of the page:
A. City Subscribers (FB + App) -This is the Total city-based unique subscribers from the Prarang Hindi FB page and the Prarang App who reached this specific post. Do note that any Prarang subscribers who visited this post from outside (Pin-Code range) the city OR did not login to their Facebook account during this time, are NOT included in this total.
B. Website (Google + Direct) -This is the Total viewership of readers who reached this post directly through their browsers and via Google search.
C. Total Viewership —This is the Sum of all Subscribers(FB+App), Website(Google+Direct), Email and Instagram who reached this Prarang post/page.
D. The Reach (Viewership) on the post is updated either on the 6th day from the day of posting or on the completion ( Day 31 or 32) of One Month from the day of posting. The numbers displayed are indicative of the cumulative count of each metric at the end of 5 DAYS or a FULL MONTH, from the day of Posting to respective hyper-local Prarang subscribers, in the city.

RECENT POST

  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM


  • हरियाली की कमी और बढ़ते कांक्रीटीकरण से एकदम बढ़ जाता है, शहरों का तापमान
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:45 AM


  • खेती से भी पुराना है, मिट्टी के बर्तनों का इतिहास, कलात्मक अभिव्यक्ति का भी रहा यह साधन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:46 AM


  • भगवान गौतम बुद्ध के जन्म से सम्बंधित जातक कथाएं सिखाती हैं बौद्ध साहित्य के सिद्धांत
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:49 AM


  • हमारे बहुभाषी, बहुसांस्कृतिक देश में शैक्षिक जगत से विलुप्‍त होता भाषा अध्‍ययन के प्रति रूझान
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:06 AM


  • अपघटन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, दीमक
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:31 PM


  • भोजन का स्थायी, प्रोटीन युक्त व् किफायती स्रोत हैं कीड़े, कम कार्बन पदचिह्न, भविष्य का है यह भोजन?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:11 AM


  • मेरठ में सबसे पुराने से लेकर आधुनिक स्विमिंग पूलों का सफर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:38 AM


  • भारत में बढ़ रहा तापमान पानी की आपूर्ति को कर रहा है गंभीर रूप से प्रभावित
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:07 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id