पारिस्थितिक तंत्रों के लिए जैविक आधार बनाते हैं कीड़े

मेरठ

 05-10-2021 03:16 PM
तितलियाँ व कीड़े

जब हम अपने आसपास रेंगते किसी की​डे़ को देखते हैं। हमारा मन घृणा से भर जाता है। हमारा पहला ही प्रयास उसे जान से मार देने का होता है। लेकिन क्या हम जानते हैं कि य कीट-पतंगे हमारे जीवन में कितना महत्वपूर्ण योगदान देते हैं?कीड़े सभी स्थलीय पारिस्थितिक तंत्रों के लिए जैविक आधार बनाते हैं। वे पोषक तत्वों को चक्रित करते हैं, पौधों को परागित करते हैं, बीजों को फैलाते हैं, मिट्टी की संरचना और उर्वरता बनाए रखते हैं, अन्य जीवों की आबादी को नियंत्रित करते हैं और एक प्रमुख खाद्य स्रोत प्रदान करते हैं।कीट मानव जाति और पर्यावरण को कई तरह से उपयोगी सेवाएं प्रदान करते हैं। वे कीटों को नियंत्रण में रखते हैं, उन फसलों को परागित करते हैं जिन पर हम भोजन के रूप में भरोसा करते हैं, और स्वच्छता विशेषज्ञों के रूप में कार्य करते हैं, कचरे को साफ करते हैं ताकि विश्वविष्ठा से न भर जाए।
अधिकांश प्रवासी पक्षी प्रजातियों के आहार का एक अनिवार्य हिस्सा कीड़े बनने के साथ, कीटों की संख्या में खतरनाक गिरावट ने पक्षियों के प्रवास के बारे में चिंता को बढ़ा दिया है।जंगली जानवरों की प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण पर कन्वेंशन (Convention on the Conservation of Migratory Species) में एक चर्चा पत्र से पता चला है कि सभी कीट प्रजातियों में से आधी आबादी तेजी से घट रही हैं, और कई के विलुप्त होने का खतरा है। पत्रिका में कहा गया है कि अगर स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया तो अगले कुछ दशकों में दुनिया में कीड़ों की 40% प्रजातियां विलुप्त हो जाएंगी।
खाद्य शृंखला में उनकी भूमिका के लिए कीड़ों को कम महत्व दिया जाता है। वे कई उभयचरों, सरीसृपों, पक्षियों और स्तनधारियों के लिए एकमात्र भोजन स्रोत हैं। कुछ संस्कृतियों में लोगों द्वारा कीड़ों को खाया जाता हैं।वे प्रोटीन (Protein), विटामिन (Vitamin) और खनिजोंका एक समृद्ध स्रोत हैं, और कई देशों में व्यंजनों के रूप में बेशकीमती हैं। सबसे लोकप्रिय में सिकाडा, टिड्डियां, मंटिस, ग्रब, कैटरपिलर, क्रिकेट, चींटियां और ततैया हैं।और कीड़े हमारी दुनिया को और भी दिलचस्प बनाते हैं। चींटियों को काम करते हुए, मधुमक्खियों को परागण करते हुए, या ड्रैगनफली को गश्त करते हुए देखकर प्रकृतिवादियों को बहुत संतुष्टि मिलती है। क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि एक परिदृश्य में रुचि जोड़ने के लिए तितलियों या बिजली के भृंगों के बिना जीवन कितना नीरस हो जाएगा?
अपने सभी सकारात्मक गुणों के बावजूद, कुछ कीड़े समस्या उत्पन्न कर सकते हैं।वहीं जहां कुछ पौधे पराग को स्थानांतरित करने के लिए हवा पर निर्भर होते हैं, कई फसलें मधुमक्खियों और अन्य परागण करने वाले कीड़ों, जैसे बीटल, पतंगे और मक्खियों के काम पर काफी हद तक या पूरी तरह से निर्भर होती हैं।
दुर्भाग्य से, अधिकांश लोग उन कुछ कीड़ों के बारे में अधिक जानते हैं जो समस्याएँ पैदा करते हैं, बल्कि वे कई लाभकारी कीड़ों के बारे में बहुत कम जानते हैं, जिस कारण वे सोचते हैं कि सभी कीटों को नियंत्रित करने की आवश्यकता है।कीट जैव विविधता कार्य करने वाले पारिस्थितिक तंत्र के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, विशेष रूप से कीटभक्षी प्रवासी प्रजातियों की प्रजातियों जैसे पक्षियों और चमगादड़ों के लिए।सबसे अधिक चिंता की बात यह है कि ये कीट आबादी की गिरावट न केवल संकीर्ण पारिस्थितिक आवश्यकताओं या प्रतिबंधित आवासों वाली दुर्लभ प्रजातियों में से हैं, बल्कि उन प्रजातियों में भी हैं जो कभी आम और व्यापक हुआ करती थीं।

संदर्भ :-
https://bit.ly/3mnWX54
https://bit.ly/3laH42h
https://bit.ly/3DaCEi1
https://bit.ly/301JE2N

चित्र संदर्भ
1. गोबर बीटल (स्काराबियस लैटिकोलिस "Scarabius laticolis) का एक चित्रण (wikimedia)
2. वभिन्न प्रकार के कीड़ों का एक चित्रण (flickr)
3. धरती के इतिहास में रोचक कीड़ों का चित्रण (flickr)

RECENT POST

  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM


  • हरियाली की कमी और बढ़ते कांक्रीटीकरण से एकदम बढ़ जाता है, शहरों का तापमान
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:45 AM


  • खेती से भी पुराना है, मिट्टी के बर्तनों का इतिहास, कलात्मक अभिव्यक्ति का भी रहा यह साधन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:46 AM


  • भगवान गौतम बुद्ध के जन्म से सम्बंधित जातक कथाएं सिखाती हैं बौद्ध साहित्य के सिद्धांत
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:49 AM


  • हमारे बहुभाषी, बहुसांस्कृतिक देश में शैक्षिक जगत से विलुप्‍त होता भाषा अध्‍ययन के प्रति रूझान
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:06 AM


  • अपघटन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, दीमक
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:31 PM


  • भोजन का स्थायी, प्रोटीन युक्त व् किफायती स्रोत हैं कीड़े, कम कार्बन पदचिह्न, भविष्य का है यह भोजन?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:11 AM


  • मेरठ में सबसे पुराने से लेकर आधुनिक स्विमिंग पूलों का सफर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:38 AM


  • भारत में बढ़ रहा तापमान पानी की आपूर्ति को कर रहा है गंभीर रूप से प्रभावित
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:07 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id