110 साल पुराने दिल्ली क्षेत्रों को जीवंत रूप प्रदान करते हैं, कुछ दुर्लभ वीडियो

मेरठ

 18-07-2021 01:59 PM
आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक
वर्तमान समय में दिल्ली बड़ी-बड़ी इमारतों और गाड़ियों से भरी अत्यधिक व्यस्त सड़कों का शहर बन गया है। लेकिन यदि आज से 110 साल पुराने समय में जाएं तो परिदृश्य कुछ और ही नजर आता है। इस बात की पुष्टि कुछ ऐसे वीडियो के माध्यम से की जा सकती है, जिनमें दिल्ली के विभिन्न क्षेत्रों के लगभग 110 साल पुराने समय के जीवंत दृश्य दिखाई देते हैं। एक वीडियो पुरानी दिल्ली और चांदनी चौक क्षेत्र का है, जिसमें एक मुस्लिम उत्सव के दौरान 20वीं सदी की शुरुआत की दिल्ली की कुछ छवियां दिखाई गयी हैं। पाथे (Pathe's) की उस समय की कैटालॉग द्वारा प्रस्तुत इस फिल्म में उस समय को दिखाया गया है, जब दिल्ली में अनेकों महान मुस्लिम धार्मिक उत्सव बड़े पैमाने पर मनाए जाते थे। वीडियो में कौन सा त्यौहार मनाया जा रहा है, इस बात की जानकारी नहीं है, लेकिन सड़कों पर लोगों की अत्यधिक भीड़ दिखाई देती है। सड़क पर प्रदर्शन करने वाले अनेकों कलाकार मनोरंजन के लिए तथा लाभ के लिए अपना करतब दिखा रहे हैं। वहां से, कैमरा शानदार जामा मस्जिद की ओर बढ़ता है, जहाँ सभी नमाज़ के लिए इकट्ठा होने से पहले आंगन के पानी से खुद को साफ करते हैं। यह उन बड़ी फिल्मों में से एक है, जिन्हें विदेशी स्थानों में बनाया गया है ताकि इसके सुंदर स्टैंसिल-रंग प्रसंस्करण को दर्शाया जा सके। हालांकि यहां की छवियां ज्यादातर अच्छी तरह से संरक्षित हैं, लेकिन वे उतने उज्ज्वल नहीं हैं जितना कि वे बहुत पहले हुआ करते थे। लेकिन फिर भी यहाँ कुछ वास्तविक आकर्षण है। इस प्रति में जर्मन इंटरटाइटल (German intertitles) ऐसी फिल्मों की भारी अंतरराष्ट्रीय मांग की गवाही देते हैं। कुछ वीडियो में दक्षिणी दिल्ली और महरौली क्षेत्र को भी दर्शाया गया है, जिसमें 1940 के दशक में भारत की इस्लामी विरासत की झलक देखने को मिलती है। शौकिया रूप से खींचे गए दृश्यों का यह संग्रह भारत में इस्लामी शक्ति के कुछ सबसे महत्वपूर्ण स्थलों को दिखाता है। इस फिल्म को 1946 या 1947 की शुरुआत में, उपमहाद्वीप से ब्रिटेन की वापसी की पूर्व संध्या पर तथा सिकंदर के भारत छोड़ने से ठीक पहले बनाया गया था। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान सिकंदर ने भारतीय सेना के इंजीनियर कोर में सेवा की। कुओं और पानी के छिद्रों को काफी फुटेज दी गयी है, जो मुगल वाटर इंजीनियरिंग की परिष्कृत प्रकृति को दर्शाता है। शायद फिल्म ने भारत के कुछ सबसे महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्मारकों का अंतिम दौरा रिकॉर्ड किया है, लेकिन इसे धार्मिक आधार पर भारत के विभाजन से ठीक पहले बनाया गया है। यह अविभाजित भारत की मुस्लिम विरासत का एक मार्मिक रिकॉर्ड भी है।
संदर्भ:
https://bit.ly/2ThLKs5
https://bit.ly/2VUsMZC
https://bit.ly/3B9Uyl7
https://bit.ly/3il0JtN

RECENT POST

  • भारत में हमें इलेक्ट्रिक ट्रक कब दिखाई देंगे?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:23 AM


  • हिन्द महासागर के हरे-भरे मॉरीशस द्वीप में हुआ भारतीय व्यंजनों का महत्वपूर्ण प्रभाव
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:28 AM


  • देखते ही देखते विलुप्त हो गए हैं, मेरठ शहर के जल निकाय
    नदियाँ

     25-05-2022 08:12 AM


  • कवक बुद्धि व जागरूकता के साक्ष्य, अल्पकालिक स्मृति, सीखने, निर्णय लेने में हैं सक्षम
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:35 AM


  • मेरे देश की धरती है दुर्लभ पृथ्वी खनिजों का पांचवां सबसे बड़ा भंडार, फिर भी इनका आयात क्यों?
    खनिज

     23-05-2022 08:43 AM


  • जमीन पर सबसे तेजी से दौड़ने वाला जानवर है चीता
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:34 PM


  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM


  • हरियाली की कमी और बढ़ते कांक्रीटीकरण से एकदम बढ़ जाता है, शहरों का तापमान
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:45 AM


  • खेती से भी पुराना है, मिट्टी के बर्तनों का इतिहास, कलात्मक अभिव्यक्ति का भी रहा यह साधन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:46 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id