Machine Translator

मेरठ में स्वास्थ

मेरठ

 05-05-2017 12:00 PM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा
वर्तमान विश्व मे स्वास्थ्य एक बड़ा मुद्दा है| कई देश बड़ी-बड़ी बीमारियों की चपेट मे हैं तथा उन्हें बीमारियों से निजात पाना सम्भव नही हो पा रहा है| इसका कारण है वहाँ की स्वास्थ व्यवस्थायें जो लाचर हैं तथा कई नयी प्रकार की बीमारियाँ भी सग्यान मे आ रही हैं| मेरठ देश के विशिष्ट तथा धनाढ्य जिलों मे सम्मलित है| यहाँ की आबादी 34,44 लाख है जो की विश्व के कई देशो कि जनसंख्या से अधिक है उदाहरणत: भूटान, मंगोलिया, उरग्वे आदि| जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था पर नज़र डाली जाये तो जो आँकड़े सामने आते हैं वे चिंता का विषय हैं| यदि 2011 की जनगणना को आधार बना कर मुआयना किया जाये तो जिले मे मात्र 122 अंग्रेज़ी दवाखाने है जिसमे कुल 2825 बिस्तर है| मतलब 1 लाख लोगो के लिए मात्र 32 बिस्तर| अगर आयुर्वेदिक दवाखानो की बात करें तो एक लाख लोगों के लिए सिर्फ एक दवाखाना है, जिसमें प्रति एक लाख व्यक्ति पर 4 बिस्तर हैं| पूरे उत्तर प्रदेश मे एक लाख लोगों के लिए 2 अंग्रेजी दवाखाने हैं और 2 आयुर्वेदिक दवाखाने हैं|

RECENT POST

  • जापान में श्री कृष्ण के प्रभाव का महत्वपूर्ण उदाहरण है टोडायजी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-08-2019 12:13 PM


  • क्या है बियर का इतिहास और कैसे है मेरठ और बियर में पुराना सम्बंध
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     23-08-2019 01:06 PM


  • कौमी एकता की मिसाल है बाले मियां की दरगाह
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-08-2019 02:20 PM


  • मेरठ में बदलता उपभोक्‍तावाद का स्‍वरूप
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     21-08-2019 03:35 PM


  • मेरठ में मिलता है कत्थे का स्त्रोत – खैर का वृक्ष
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     20-08-2019 01:50 PM


  • आयुर्वेद का हमारे जीवन में महत्‍व
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     19-08-2019 02:00 PM


  • कैसे तय होती है, रुपये और डॉलर की कीमत?
    सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

     18-08-2019 10:30 AM


  • आखिर किसके पास है महासागरों का स्‍वामित्‍व?
    समुद्र

     17-08-2019 02:52 PM


  • विभाजन के बाद पाकिस्तान में विलय होने वाली रियासतें
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     16-08-2019 03:26 PM


  • महात्मा गांधी जी की गिरफ्तारी के बाद गोवालिया टैंक मैदान में हुई घटनाओं की अनदेखी तस्वीरें
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-08-2019 08:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.