विकलांग बच्चों को समाज में बराबर दर्जा दिया जाना चाहिए

मेरठ

 03-12-2020 02:26 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

बच्चे का प्रारंभिक विकास उसके शुरुआती वर्षों के दौरान सुनिश्चित किया जाना चाहिए, प्रारंभिक प्रसवकालीन, आनुवांशिक, चयापचय और पर्यावरणीय जोखिम वाले कारकों से जितना संभव हो सके बचना चाहिए। विश्व स्तर पर, लगभग 200 मिलियन बच्चे गरीबी, खराब स्वास्थ्य, पोषण और शुरुआती उत्तेजना की कमी के कारण पहले पांच वर्षों में अपनी विकासात्मक क्षमता तक नहीं पहुंच पाते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन का अनुमान है कि विश्व भर में 15-20% बच्चों में विकलांगता पाई जाती है है; जिनमें से 85% विकासशील देशों में हैं। वहीं भारत की 2011 की जनगणना के अनुसार, 19 वर्ष से कम आयु वर्ग में विकलांगता वाले 7,862,921 बच्चे विकलांग हैं, जिनमें 1,410,158 दृष्टि क्षीणता 1,594,249 सुनने की दुर्बलता, 683,702 बोलने की दुर्बलता, 1,045,656 संचलन विकार, 595,089 बौद्धिक विकलांगता, 678,441 एकाधिक विकलांगता और 1,719,845 अन्य विकलांगता से ग्रसित हैं। बचपन में विकलांगता किसी व्यक्ति के शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य के साथ-साथ उनकी सामाजिक स्थिति पर भी आजीवन प्रभाव डाल सकती है। इसलिए विकलांग बच्चों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है और उन्हें शुरुआती हस्तक्षेप और यथासंभव समर्थन प्रदान किया जाना चाहिए। विकलांगता वाले बच्चों को विशेष रूप से स्वास्थ्य और शिक्षा के संबंध में विशेष आवश्यकता हो सकती है और रोजमर्रा की जिंदगी में पूरी तरह से भाग लेने के लिए महत्वपूर्ण सामाजिक और पर्यावरणीय बाधाओं से निबटने की आवश्यकता भी होती है।
जन्मजात विकार :- जन्मजात विकार एक ऐसी स्थिति है जो जन्म से ही मौजूद होती है। यह पर्यावरणीय कारकों या वंशागत के कारण हो सकता है। सामान्य जन्मजात विकारों में शामिल हैं:
• बौद्धिक विकलांगता - जहाँ एक बच्चा कम सोचने और नए कौशल विकसित करने में सक्षम होता है।
• डाउन सिंड्रोम (Down syndrome) - एक सामान्य आनुवंशिक स्थिति जो बौद्धिक विकलांगता का कारण बनती है।
• मस्तिष्क पक्षाघात - एक शारीरिक विकलांगता जो एक बच्चे को उसके शरीर को नियंत्रित करने के में अक्षम बनाता है।
• फ्रैगाइल एक्स सिंड्रोम (Fragile X syndrome) - एक आनुवंशिक स्थिति जो बौद्धिक विकलांगता और सीखने और व्यवहार की समस्याओं का कारण बनती है।
जन्म के बाद विकसित :- कुछ विकलांगता जन्म के बाद विकसित होती हैं। इनमें सुनने की समस्याएं, हृदय की स्थिति और रक्त, चयापचय और हार्मोन (hormone) संबंधी विकार शामिल हैं। जन्म के तुरंत बाद इन समस्याओं का पता लगाने से उन्हें अधिक गंभीर (शारीरिक, बौद्धिक, दृश्य या श्रवण अक्षमता बनने से) होने से रोका जा सकता है।
आत्मकेंद्रित (ऑटिज़्म - Autism) :- आत्मकेंद्रित विकलांगता को 'ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (Autism spectrum disorder)' शब्द से जाना जाता है, जिसमें एस्परजर सिंड्रोम (Asperger’s syndrome) भी शामिल है। आमतौर पर आत्मकेंद्रित विकलांगता से पीड़ित बच्चों का पता उनके 2 साल के होने से पहले नहीं चलता है। आत्मकेंद्रित विकलांगता 150 बच्चों में से 1 को प्रभावित करती है। यद्यपि इसके कारणों को पूरी तरह से समझा नहीं गया है, लेकिन आत्मकेंद्रित विकलांगता को आनुवंशिक कारकों से जोड़ा गया है।
चोट के कारण :- कई बार आघात लगने या चोट (जैसे ऊंचाई से गिरना) से शारीरिक, मानसिक और व्यवहारिक अक्षमता हो सकती है। अधिग्रहित मस्तिष्क की चोट के अन्य कारणों में ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी (उदाहरण के लिए, अस्थमा या लगभग पानी में डूबने के बाद), संक्रमण (जैसे कि मस्तिष्कावरण शोथ) और आघात शामिल हैं। गंभीर शारीरिक चोटें, जैसे रीढ़ की हड्डी में चोट या किसी दुर्घटना में हाथ या पैर खोने से शारीरिक विकलांगता हो सकती है।
बचपन की विकलांगता की संभवतः के बारे में अधिकांश जानकारी छोटे पैमाने पर अध्ययन से निकाली जाती है। आईएपी केरल (IAP Kerala) के साथ साझेदारी में एक राज्य-व्यापी आंगनवाड़ी-आधारित व्यवस्थित नमूना सर्वेक्षण में, जांच उपकरण का उपयोग करके 2.5-3.4% बच्चों में विभिन्न प्रकार की विकासात्मक समस्याओं का निदान किया गया था। वहीं हम सभी यह जानते हैं कि देश के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग अध्ययनों से प्राप्त विवरण नीतिगत बदलाव के लिए पर्याप्त नहीं है, और हमें सर्वोत्तम उपलब्ध शोध विधियों का उपयोग करते हुए राष्ट्रीय स्तर पर विश्वसनीय विवरण की आवश्यकता है। हाल ही में, इंटरनेशनल क्लिनिकल एपिडेमियोलॉजी नेटवर्क (INCLEN) ने भारत में शहरी, ग्रामीण, पहाड़ी क्षेत्रों और आदिवासी समुदायों के बीच 2-9 वर्ष की आयु के बच्चों में न्यूरोडेवेलपमेंटल डिसऑर्डर (Neurodevelopmental Disorders) की व्यापकता का अनुमान लगाने के लिए अध्ययन किया। जिसमें भारत के 6 क्षेत्रों के 4000 परिवारों के विवरण से पता चला है कि ग्रामीण / शहरी / पहाड़ी क्षेत्रों से 2-9 वर्ष की आयु के 10-18% बच्चों में एक या अधिक न्यूरोडेवेलपमेंटल डिसऑर्डर से ग्रस्त थे। आदिवासियों में व्यापकता कम (5%) थी, जो शायद कम शिशु दर को दर्शाती है।
विकलांग बच्चे और उनके परिवार बुनियादी मानव अधिकारों के आनंद और समाज में उनके समावेश के लिए कई बाधाओं का अनुभव करते हैं। समाज द्वारा उनकी क्षमताओं को नजरअंदाज और कम आंका जाता है साथ ही उनकी जरूरतों को कम प्राथमिकता दी जाती है। उनके सामने आने वाली बाधायें उनकी अक्षमता से भी अधिक होती है। हालांकि वर्तमान समय में इन बच्चों के वातावरण की स्थिति काफी बेहतर हो रही है, लेकिन अभी भी काफी फासला है। यदि देखा जाएं तो पिछले दो दशकों में नागरिक समाज और सरकारों के समर्थन से वैश्विक स्थर में विकलांग लोगों को कई समुदायों के पूर्ण सदस्य के रूप में शामिल किया गया है।

संदर्भ :-
https://www.pregnancybirthbaby.org.au/what-is-a-childhood-disability
https://www.indianpediatrics.net/jan2015/jan-13-14.htm
https://www.un.org/esa/socdev/unyin/documents/children_disability_rights.pdf
चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में विकलांग बच्चों को स्कूल में पढ़ते हुए का सांकेतिक चित्रण है। (Publicdomainimages)
दूसरे चित्र में बच्चों को प्रतिस्पर्धा करते दिखाया गया है। (Prarang)

RECENT POST

  • विश्व कपड़ा व्यापार पर चीन की ढीली पकड़ ने भारत के लिए एक दरवाजा खोल दिया है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:14 AM


  • भारत में हमें इलेक्ट्रिक ट्रक कब दिखाई देंगे?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:23 AM


  • हिन्द महासागर के हरे-भरे मॉरीशस द्वीप में हुआ भारतीय व्यंजनों का महत्वपूर्ण प्रभाव
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:28 AM


  • देखते ही देखते विलुप्त हो गए हैं, मेरठ शहर के जल निकाय
    नदियाँ

     25-05-2022 08:12 AM


  • कवक बुद्धि व जागरूकता के साक्ष्य, अल्पकालिक स्मृति, सीखने, निर्णय लेने में हैं सक्षम
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:35 AM


  • मेरे देश की धरती है दुर्लभ पृथ्वी खनिजों का पांचवां सबसे बड़ा भंडार, फिर भी इनका आयात क्यों?
    खनिज

     23-05-2022 08:43 AM


  • जमीन पर सबसे तेजी से दौड़ने वाला जानवर है चीता
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:34 PM


  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM


  • हरियाली की कमी और बढ़ते कांक्रीटीकरण से एकदम बढ़ जाता है, शहरों का तापमान
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:45 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id