इस दिवाली ध्यान में रखें पर्यावरण को भी

मेरठ

 14-11-2020 03:28 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

दिवाली उत्साह का समय होता है, यह वह समय होता है जब हम अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से मिलते हैं। इस पर्व पर चारों ओर मनोरंजन और प्रेम का माहौल छाया हुआ देखा जा सकता है। लेकिन इन खुशियों के बीच एक बहुत ही महत्वपूर्ण बात हम भूल जाते हैं कि दिवाली पर हमारे द्वारा अत्यधिक रूप से जलाए जाने वाले पटाखे प्रकृति के लिए कई गंभीर समस्याएं उत्पन्न करते हैं। यही कारण है कि दिवाली के दौरान और इसके पश्चात हमारे देश में प्रदूषण का स्तर कई गुना बढ़ जाता है। पटाखे न केवल प्रदूषण के स्तर को बढ़ाते हैं, बल्कि ये घातक कैंसर (Cancer) पैदा करने वाले पदार्थों को भी प्रभावित करते हैं। पटाखों को बंद करवाने का नीतिगत अभियान केवल चीनी पटाखों को बाज़ार से बाहर करने के लिए किया जा रहा है, लेकिन यहाँ बात स्वदेशी और बाहरी की नहीं है, सभी पटाखे ज़हरीले और हानिकारक प्रभावों से फेफड़ों, हृदय, दिमाग और अन्य शारीरिक हिस्सों में प्रभाव डालते हैं। भारत में कई जगहों की वायु काफी प्रदूषित है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, लगभग 41 शहरों में, ज्यादातर उत्तर और मध्य भारत में, 8 नवंबर, 2018 को दिवाली के एक दिन बाद हवा की गुणवत्ता काफी खराब पाई गई थी। दिवाली में पटाखों का संपूर्ण रूप से त्याग न करने पर लोगों के सामान्य बहाने होते हैं कि ‘यह केवल एक दिन की ही तो बात है’ और ‘हम अपने बच्चों को मनोरंजन करने से कैसे मना कर सकते हैं?’। लेकिन क्या कभी किसी ने यह सोचा है कि जिन पटाखों से आपके बच्चे आज मनोरंजन करेंगे उन्हीं पटाखों के चलते वे कल कई गंभीर बीमारियों की चपेट में आ सकते है। बच्चे सबसे ज़्यादा पटाखे के प्रदूषण के संपर्क में आते हैं क्योंकि उनका रक्षा तंत्र काफी कमज़ोर होता है। शारीरिक गतिविधियों के उनके उच्च स्तर को देखते हुए, वे वयस्कों की तुलना में हवा में अधिक सांस लेते हैं और इसलिए अधिक प्रदूषण की चपेट में आते हैं। संभवतः इन पटाखों के धुएं वायु से कुछ घंटों के भीतर गायब हो जाते हैं, लेकिन प्रदूषक हमारे चारों ओर मिट्टी, वनस्पति, फसल और पानी में अदृश्य रूप से बस जाते हैं। केवल इतना ही नहीं ये हानिकारक तत्व हमारी खाद्य श्रृंखला के माध्यम से हमारे पास वापस आ जाते हैं।
पटाखों को जलने के लिए कार्बन (Carbon) और सल्फर (Sulfur) की ज़रूरत होती है जो गैसों की एक श्रृंखला का उत्पादन करते हैं। इसमें स्टेबलाइज़र (Stabilizer), ऑक्सीडाइज़र (Oxidizer) और बाइंडर (Binder) के रूप में कार्य करने के लिए बड़ी संख्या में रसायनों को जोड़ा जाता है। ये घातक रसायन हैं – आर्सेनिक (Arsenic), मैंगनीज़ (Manganese), सोडियम ऑक्सालेट (Sodium Oxalate), एल्युमिनियम (Aluminium), पोटेशियम परक्लोरेट (Potassium Percolate), स्ट्रोंशियम (Strontium), बेरियम नाइट्रेट (Barium Nitrate) आदि। दिवाली में आसमान में दिखाई देने वाले ये रंग बिरंगे पटाखों के रंगों का रासायनिक नाम भी होता है - लाल रंग के लिए स्ट्रोंशियम, हरे रंग के लिए बेरियम, नीले रंग के लिए तांबा, बैंगनी रंग के लिए तांबे और स्ट्रोंशियम का मिश्रण। इन रंग बिरंगे पटाखों की चमक के लिए सल्फाइड (Sulfide) का उपयोग किया जाता है, जो फेफड़ों के कैंसर और त्वचा संबंधित विकारों का कारण बनते हैं। हरे रंग के लिए इस्तेमाल किए जाने वाला बेरियम नाइट्रेट ज़हरीला होता है, जिससे सांस और जठरांत्र संबंधी समस्याएं और मांसपेशियों में कमज़ोरी आती है। नीला रंग त्वचा विकारों, कैंसर और हार्मोनल (Hormonal) असंतुलन को उत्पन्न करता है। परक्लोरेट फेफड़ों के कैंसर और थायरॉयड (Thyroid) जटिलताओं के लिए ज़िम्मेदार होता है। लेड (Lead) और क्लोराइड शिशुओं और अजन्मे बच्चों में शारीरिक और मानसिक विकास के लिए हानिकारक साबित होता है।
दिल्ली के अस्पतालों में घरघराहट, सांस की बीमारी, दमा, ब्रोंकाइटिस (Bronchitis) आदि के बिगड़ने में कम से कम 30-40% वृद्धि का विवरण है। इंडिया चेस्ट सोसाइटी (India Chest Society) द्वारा पालतू जानवरों पर सुनने में कमी, रक्तचाप, दिल की बीमारियों और मतली के प्रभावों के बारे में बताया गया है। यही कारण है कि कोविड-19 महामारी से ग्रसित इस वर्ष में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (National Green Tribunal) ने दिल्ली के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में नवंबर में वायु की खराब गुणवत्ता को देखते हुए दीपावली के दौरान और शहरी केंद्रों में पटाखों की बिक्री और उपयोग पर रोक लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व में जारी किए गए निर्देशों के अनुसार मध्यम या बेहतर वायु गुणवत्ता वाले शहरों और कस्बों में निर्दिष्ट घंटों के लिए "हरे पटाखे" जलाने की अनुमति है।
पारंपरिक पटाखों के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद ही हरे पटाखों के बारे में जानकारी सामने आई है। वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद और राष्ट्रीय पर्यावरण अभियांत्रिकी संस्थान ने एक ऐसे पटाखे को डिज़ाइन (Design) किया है जिसमें बेरियम नाइट्रेट की मात्रा को कम करने और इसे किसी अन्य रसायन के साथ बदलने के लिए कहा गया है ताकि प्रदूषकों का उत्सर्जन लगभग 30% कम हो जाए और शोर का स्तर 160 डेसिबल (Decibel) से 125 डेसिबल तक गिर जाए। यदि निर्माताओं तथा उपभोक्ताओं तक इसके बारे में प्रभावी संचार किया जाए तो हालात सुधर सकते हैं। तो यह प्रत्येक नागरिक की ज़िम्मेदारी है कि वह पर्यावरण को स्वच्छ रखने में अपना संपूर्ण सहयोग करें ताकि आने वाली पीढ़ी इस सुंदर पर्यावरण का मज़ा उठा सके। वहीं सरकार को इन सभी चीजों को मद्देनज़र रखते हुए पटाखों पर प्रतिबंध लगाने जैसे मामलों में देश के 135 करोड़ से अधिक लोगों के स्वास्थ्य के अधिकार और पटाखा निर्माताओं के आजीविका के अधिकार सहित कई बातों पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

संदर्भ :-
https://www.thehindu.com/opinion/editorial/no-fireworks-on-ngt-ban-on-sale-and-use-of-firecrackers/article33061044.ece
https://www.downtoearth.org.in/blog/air/diwali-dark-underbelly-of-light-56158
https://www.indiaspend.com/day-after-diwali-toxic-smog-over-41-indian-cities/
https://bit.ly/31Ak5Rc
https://bit.ly/2yy3xO9
https://bit.ly/2o4RSED
चित्र सन्दर्भ:
पहली छवि पटाखे फोड़ने से होने वाले प्रदूषण को दिखाती है।(shuttershock)
दूसरी छवि में हरे पटाखों को दिखाया गया है।(amazon)
तीसरी छवि दिवाली पर पटाखे फोड़ने के बाद होने वाले वायु प्रदूषण को दिखाती है।(youtube)
चौथी छवि में पटाखों पर प्रतिबंध का स्केच दिखाया गया है।(getimages)

RECENT POST

  • विदेशी फलों से किसानों को मिल रही है मीठी सफलता
    साग-सब्जियाँ

     04-07-2022 10:11 AM


  • प्रागैतिहासिक काल का एक मात्र भूमिगतमंदिर माना जाता है,अल सफ़्लिएनी हाइपोगियम
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     03-07-2022 10:58 AM


  • तनावग्रस्त लोगों के लिए संजीवनी बूटी साबित हो रही है, संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     02-07-2022 10:02 AM


  • जगन्नाथ रथ यात्रा विशेष: दुनिया के सबसे बड़े रथ उत्सव से जुडी शानदार किवदंतियाँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:22 AM


  • भारत के सबसे बड़े आदिवासी समूहों में से एक, गोंड जनजाति की संस्कृति व् परम्परा, उनके सरल व् गूढ़ रहस्य
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:35 AM


  • सिंथेटिक कोशिकाओं में छिपी हैं, क्रांतिकारी संभावनाएं
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:19 AM


  • मेरठ का 300 साल पुराना शानदार अबू का मकबरा आज बकरियों का तबेला बनकर रह गया है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:15 AM


  • ब्लास्ट फिशिंग से होता न सिर्फ मछुआरे की जान को जोखिम, बल्कि जल जीवों को भी भारी नुकसान
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:25 AM


  • एक पौराणिक जानवर के रूप में प्रसिद्ध थे जिराफ
    शारीरिक

     26-06-2022 10:08 AM


  • अन्य शिकारी जानवरों पर भारी पड़ रही हैं, बाघ केंद्रित संरक्षण नीतियां
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:49 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id