क्यों अलग है नाभिकीय ऊर्जा और हथियार?

मेरठ

 28-09-2020 08:47 AM
हथियार व खिलौने

मेरठ शहर नरोरा परमाणु ऊर्जा संयंत्र के काफी नजदीक स्थित है। नाभिकीय ऊर्जा और नाभिकीय हथियारों के आपसी भेद पर हमेशा चर्चा होती रहती है। भारत के विविध नाभिकीय ऊर्जा कार्यक्रम यहां की ऊर्जा की आपूर्ति में मदद करते हैं। भारत अमेरिकी नाभिकीय ऊर्जा सौदा (India-US Nuclear Energy Deal) ने भारत को विश्व स्तर पर अलग पहचान दिलाई। इससे भारत नाभिकीय शस्त्र रखने वाला एकमात्र देश बनकर सामने आया, जो परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी (Treaty on the Non-Proliferation of Nuclear Weapons (NPT))) का सदस्य भी नहीं है। फिर भी उसे बाकी विश्व से नाभिकीय व्यापार की अनुमति दे दी गई। न्यूक मैप (Nuke Map) वेबसाइट नाभिकीय कारणों से होने वाले नुकसान का शहरवार विवरण देती है।
नरौरा परमाणु ऊर्जा संयंत्र नरौरा शहर, उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में स्थित है। इसमें दो रिएक्टर (Reactor) हैं, दोनों भारी पानी (Heavy Water) रिएक्टर हैं। इनसे 220 मेगावाट बिजली पैदा होती है। एनएपीएस-1 ((Narora Atomic Power Station-1) (NAPS-1)) का व्यावसायिक प्रयोग 1 जनवरी 1991 और NAPS-2 1 जुलाई 1992 में शुरू हुआ था। क्योंकि भारत ने परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं, इसलिए रिएक्टर रक्षा व्यवस्था के अंतर्गत नहीं है। नाभिकीय हथियार बना नाभिकीय ऊर्जा नाभिकीय हथियारों और नाभिकीय ऊर्जा के आपसी संबंध को लेकर ज्यादातर लोग एकमत नहीं होते। दोनों तकनीक में परमाणु प्रतिक्रिया से ऊर्जा पैदा होती है और नाभिकीय ऊर्जा का विकास यूएस नेवी (US Navy) ने बिजली के एक स्रोत के रूप में किया था, जिससे पनडुब्बियों और हवाई जहाज वाहको को बिजली मिलती थी। पर इससे भी भ्रम की स्थिति पैदा होती है। ना तो भौतिकी और ना ही तकनीकी दृष्टि से दोनों में कोई साम्य है। नाभिकीय हथियारों में आजकल दो परमाणुओं को एक साथ मिलाते हैं, जिससे अनियंत्रित विस्फोट होता है। नाभिकीय ऊर्जा प्राकृतिक तौर पर रेडियोएक्टिव (Radioactive) तत्व के धीमी गति और नियंत्रित प्रतिक्रिया के साथ विघटन द्वारा ऊर्जा पैदा करती है, जो बाद में पानी को भाप में बदलने के काम आती है, जिससे टरबाइन (Turbine) चलाई जाती है।
भारत यूनाइटेड स्टेट्स परमाणु समझौता 18 जुलाई 2005 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्लू बुश (George W Bush) ने एक परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर किया। इसमें भारत ने घोषणा की कि नागरिक और सेना की नाभिकीय सुविधाएं अलग-अलग होंगी और सारी नागरिक नाभिकीय ऊर्जा को अंतरराष्ट्रीय परमाणु एजेंसी की सुरक्षा मिलेगी और बदले में अमेरिका इस बात पर सहमत हुआ कि वह पूरी तरह नागरिक नाभिकीय सहयोग भारत को देगा। समझौते को लागू करने में 3 साल लगे। अमेरिका के हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स (House of Representatives) ने इस समझौते को 28 सितंबर 2008 में स्वीकृति प्रदान की। दो दिन बाद भारत और फ्रांस ने इसी प्रकार समझौते पर हस्ताक्षर किए। 1 अक्टूबर 2008 को अमेरिकी सांसदों ने भी इस पर मुहर लगा दी।

सन्दर्भ:
https://en.wikipedia.org/wiki/Narora_Atomic_Power_Station
https://en.wikipedia.org/wiki/India%27s_three-stage_nuclear_power_programme
https://thehill.com/blogs/pundits-blog/energy-environment/333329-time-to-stop-confusing-nuclear-weapons-with-nuclear
https://en.wikipedia.org/wiki/India%E2%80%93United_States_Civil_Nuclear_Agreement
https://nuclearsecrecy.com/nukemap/

चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में नरौरा परमाणु ऊर्जा संयंत्र का चित्र दिखाया गया है। (Prarang)
दूसरे चित्र में संयुक्त राज्य अमेरिका की सचिव कोंडोलीज़ा राइस (United States Secretary of State Condoleezza Rice) और भारतीय विदेश मंत्री प्रणब मुखर्जी ने 10 अक्टूबर 2008 को वाशिंगटन, डी.सी. (Washington, D.C.) में 123 समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद का चित्र है। (Wikimedia)
अंतिम चित्र में परमाणु ऊर्जा संयंत्र और परमाणु हथियार का कलात्मक चित्र दिखाया गया है। (Youtube)

RECENT POST

  • जगन्नाथ रथ यात्रा विशेष: दुनिया के सबसे बड़े रथ उत्सव से जुडी शानदार किवदंतियाँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:22 AM


  • भारत के सबसे बड़े आदिवासी समूहों में से एक, गोंड जनजाति की संस्कृति व् परम्परा, उनके सरल व् गूढ़ रहस्य
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:35 AM


  • सिंथेटिक कोशिकाओं में छिपी हैं, क्रांतिकारी संभावनाएं
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:19 AM


  • मेरठ का 300 साल पुराना शानदार अबू का मकबरा आज बकरियों का तबेला बनकर रह गया है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:15 AM


  • ब्लास्ट फिशिंग से होता न सिर्फ मछुआरे की जान को जोखिम, बल्कि जल जीवों को भी भारी नुकसान
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:25 AM


  • एक पौराणिक जानवर के रूप में प्रसिद्ध थे जिराफ
    शारीरिक

     26-06-2022 10:08 AM


  • अन्य शिकारी जानवरों पर भारी पड़ रही हैं, बाघ केंद्रित संरक्षण नीतियां
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:49 AM


  • हम में से कई लोगों को कड़वे व्यंजन पसंद आते हैं, जबकि उनकी कड़वाहट कई लोगों के लिए सहन नहीं होती
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:49 AM


  • भारत में पश्चिमी शास्त्रीय संगीत धीरे-धीरे से ही सही, लेकिन लोकप्रिय हो रहा है
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:30 AM


  • योग शरीर को लचीला ही नहीं बल्कि ताकतवर भी बनाता है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:23 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id