बात भूमिहीनों की

मेरठ

 12-08-2020 06:34 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

देश में कृषकों की एक बड़ी संख्या भूमिहीन होने की दिशा में अग्रसर है। साल 2001 की तुलना में भूमिहीनों की संख्या 10.67 करोड़ से बढ़कर 2011 की गणना के अनुसार 14.43 करोड़ तक पहुँच गयी थी। यानी कि 2011 की जातिगत जनगणना के अनुसार देश की 51% ग्रामीण आबादी भूमिहीन है। भूमिहीनता देश मे ग्रामीण गरीबी का एक मजबूत संकेतक है, वहीँ ठीक इसके विपरीत भूमि सबसे मूल्यवान, अविनाशी संपत्ति है, जिसके माध्यम से लोग अपनी आर्थिक और आजीविका को एक स्थायित्व प्रदान करते हैं। भूमि का होना कृषक को उसकी सामाजिक पहचान के साथ-साथ हालात और अवसर की नई दिशा भी प्रदान करती है। मगर भूमिहीनो के माध्यम से लगातार लिया जा रहा श्रम, उनमें एक निराशा का बोध दे रहा है। इतनी अपरिहार्यता के बावजूद वो चुपचाप पीड़ित रहते हैं और गरीबी में ही जीवन व्यतीत करते हैं। कृषि के व्यवसायीकरण ने आम और परती भूमि को भी खेती के अधीन ला दिया है, जिस कारण भूमिहीन मजदूरो को अपने पशु चराने और लकड़ी प्राप्त करने में भी दिक्कतें आ रही हैं।
उन्हें अपने पशुधन बेचने पर मजबूर किया जा रहा है,जो कि उनके लिए एक प्रमुख आय स्त्रोत है। कृषि क्षेत्र में आधुनिकरण से रोजगार में भारी कमी आई है, जिससे इस क्षेत्र का श्रम निरर्थक हो गया है और नतीजन भूमिहीनों की माली हालत खस्ता हुए जा रही है। एक सर्वे के अनुसार पंजाब में 2000 से 2010 के बीच आत्महत्या के कुल 6296 मामले थे, जिनमें 43℅ संख्या कृषकों की थी। ये आंकड़ा मात्र एक खेती बहुल क्षेत्र का है, यदि बिहार, बंगाल, उत्तरप्रदेश की संख्या के विषय में बात करें तो यह और भी भयावह है। इस विषय पर हालांकि सरकार ने भी अब भूमिहीनो की स्थिति को सुधारने के लिए कई प्रयत्न किये हैं तथा वह अलग अलग योजनाए और कार्यक्रम चला रही है। सरकार छोटे किसानो की ऋण माफी की योजनायें भी लाई है ताकि श्रम में लगे मजदूरों पर इसकी मार न पड़े। वही पंजाब राज्य सरकार ने एक दृष्टिकोण को रखते हुए, भूमिहीनो को लीज (Lease) पर सामूहिक खेती के लिए भूमि देने का कार्यक्रम प्रारंभ किया, जो कि अभी तक का सबसे सफल मॉडल रहा है। इस प्रकार से भूमिहीन किसानों के पास भी खेती के लिए जमीन की उपलब्धता हो जाती है। वर्तमान में श्रमिक वर्ग एक अभावग्रस्त व उदासीन समाज की मिसाल है। वे कमजोरी और असुरक्षा की शास्वत स्थिति में दुर्बल रहते हैं। अब जब जनसंवाद का मुख्य ध्यान 'सबका साथ सबका विकास' पर है, तो भूमिहीनों की परेशानियों को ध्यान में लेते हुए उन्हें बेरोजगारी से बचाना और उन्हें नाममात्र की दर से पट्टे पर भूमि देने की आवश्यता है ताकि उनके अंदर असुरक्षा की भावना खत्म हो, जो मात्र अपनी बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु सुबह से शाम पसीना बहाते हैं। किसान किसी भी देश की रीढ़ का कार्य करते हैं और भारत जैसे कृषि प्रधान देश में तो यहाँ के किसानों की मौलिक सुरक्षा का महत्व अन्य देशों से और भी अधिक हो जाता है।

सन्दर्भ :
https://economictimes.indiatimes.com/news/politics-and-nation/number-of-landless-agricultural-labourers-in-india-rises-to-14-43-crore/articleshow/52225793.cms?from=mdr
https://www.epw.in/system/files/pdf/1953_5/14/the__landless__labourer.pdf
https://bit.ly/3bP1w0X
https://www.tribuneindia.com/news/archive/comment/landless-labour-fighting-for-a-bare-minimum-427888

चित्र सन्दर्भ:
भूमिहीन मजदूर का चित्रण (reuters modified)
एक भूमिहीन मजदूर जो मृत शर्करा को हटा रहा है(youtube)


RECENT POST

  • मेरठ में 1899 की चर्चिल तस्वीर
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     24-09-2020 03:51 AM


  • पश्तून (पठान) - मुस्लिम धर्म की एक प्रमुख जनजाति का इतिहास
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     23-09-2020 03:27 AM


  • मेरठ का ऐतिहासिक स्थल सूरज कुंड
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-09-2020 11:14 AM


  • आभूषणों को सुंदर रूप प्रदान करता है कांच
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     21-09-2020 04:08 AM


  • अजंता और एलोरा
    खदान

     20-09-2020 09:26 AM


  • क्यों होते हैं आनुवंशिक रोग?
    डीएनए

     18-09-2020 07:48 PM


  • बैटरी - वर्षों से ऊर्जा का एक महत्वपूर्ण स्रोत
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-09-2020 04:49 AM


  • मानवता के लिए चुनौती हैं, लीथल ऑटोनॉमस वेपन्स सिस्टम (LAWS)
    हथियार व खिलौने

     17-09-2020 06:19 AM


  • मेरठ पीतल से निर्मित साज
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     16-09-2020 02:10 AM


  • हमारी आकाशगंगा का भाग्य
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     15-09-2020 02:04 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id