क्यों दी जाती है बकरीद पर कुर्बानी

मेरठ

 31-07-2020 06:09 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

विभिन्न संस्कृतियों और धर्मों में बलिदान संस्कारों की व्यवस्था निस्संदेह कई कारकों से प्रभावित हुई होगी। हालांकि बलिदान ऐसी घटना नहीं है, जिसे तर्कसंगत शब्दों में समझाया जा सकता है; यह मौलिक रूप से एक धार्मिक कार्य है, जो पूरे इतिहास में व्यक्तियों और सामाजिक समूहों के मध्य अत्यंत महत्व रखता है। यह एक प्रतीकात्मक कृत्य है, जो मनुष्य और पवित्र आदेश के बीच एक संबंध स्थापित करता है। विश्व भर में कई लोगों के लिए बलिदान उनके धार्मिक जीवन का अंतरंग है। ऐसे ही कुर्बानी का पर्व ईद-उल-अज़हा अर्थात बकरीद मुसलमानों का प्रमुख त्यौहार है।
यह दिन इब्राहिम द्वारा परमेश्वर की आज्ञा का पालन करते हुए, अपने बेटे इस्माइल का बलिदान करने की तत्परता को प्रावीण्य करने के लिए मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि जब इब्राहिम अपने बेटे की बलि देने जा रहे थे, तो परमेश्वर ने इस्माइल के बदले वहाँ एक मेमना(भेड़) रख दिया था। इस हस्तक्षेप की स्मृति में, एक जानवर (आमतौर पर एक भेड़) का औपचारिक रूप से बलिदान किया जाता है और तीन भागों में विभाजित किया जाता है। एक हिस्सा गरीबों और जरूरतमंदों को दिया जाता है, दूसरा घर के लिए रखा जाता है और तीसरा हिस्सा रिश्तेदारों को दिया जाता है।
ईद-उल-अज़हा में कुर्बानी या बलिदान का उद्देश्य केवल अल्लाह को संतुष्ट करने के लिए रक्त बहाना नहीं है। यह कुछ भक्तों द्वारा अल्लाह के प्रति अपनी भक्ति दिखाने के लिए अपनी पसंदीदा चीज का बलिदान करने के बारे में है। साथ ही इस उत्सव में भक्ति, दया और समानता का स्पष्ट संदेश मिलता है। यह कहा जाता है कि मांस अल्लाह तक नहीं पहुंचेगा, न ही रक्त, लेकिन जो उसके पास पहुंचता है वह भक्तों की भक्ति होती है।
पशु बलि एक धार्मिक अनुष्ठान के रूप में देवता को प्रसन्न करने या उनका अनुमोदन करने के लिए आमतौर पर एक जानवर की हत्या और भेंट होती है। पूर्व पुरातनता में ईसाई धर्म के प्रसार तक पूरे यूरोप में पशु बलि आम थी और आज भी कुछ संस्कृतियों या धर्मों में जारी है। बलिदान में बलि दिए गए जानवर के या तो सभी या कुछ हिस्सों की भेंट की जाती है, कुछ संस्कृतियों, प्राचीन और आधुनिक यूनानियों की तरह, एक दावत में बलिदान के अधिकांश खाद्य भागों को खाते हैं और बाकी को एक प्रसाद के रूप में जला दिया जाता है। कई अन्य धर्मों में संपूर्ण जानवर को जला दिया जाता है, जिसे प्रलय कहा जाता है। वहीं प्राचीन मिस्र के लोग पशु पालन के मामले में सबसे आगे थे और यहाँ पशु बलि के कुछ प्रारंभिक पुरातत्व प्रमाण मिलते हैं। 3000 ईसा पूर्व में तांबा युग के अंत तक, पशु बलि कई संस्कृतियों में काफी आम बन गई थी किन्तु घरेलू पशुधन के लिए आम तौर पर प्रतिबंधित कर दी गई थी। साथ में, पुरातात्विक साक्ष्य इंगित करते हैं कि यूनानी लोग बलि के लिए अपने स्वयं के पशुधन से चुनने के बजाय मिस्र से भेड़ और बकरियों का आयात करते थे। प्राचीन ग्रीक धर्म में पूजा में आमतौर पर घरेलू पशुओं को वेदी पर भजन और प्रार्थना के साथ शामिल किया जाता था।
बलि में उपयोग किये जाने वाले जानवर वरीयता के क्रम में होते हैं, जैसे- बैल, गाय, भेड़ (सबसे आम), बकरी, सुअर, और मुर्गी (शायद ही कोई अन्य पक्षी या मछली) आदि। ग्रीक लेखक हेरोडोटस(Herodotus) (484–425 ईसा पूर्व) के अनूठे वृत्तांत के अनुसार, सीथियनों (Scythian) ने विभिन्न प्रकार के पशुधन की बलि दी, हालांकि सबसे प्रतिष्ठित भेंट में घोड़े का उपयोग किया जाता था। दूसरी ओर, इनके द्वारा सुअर का कभी भी बलिदान नहीं किया गया था और जाहिर तौर पर सीथियन अपनी जमीन के भीतर सूअर रखना पसंद नहीं करते थे। जब प्राचीन समय में यहूदी द्वारा बलिदान चढ़ाया जाता था, तो उन्हें बाइबल की आज्ञाओं की पूर्ति के तौर पर पेश किया जाता था। वहीं आधुनिक धार्मिक यहूदी प्रार्थना करने के लिए या अपने पापों का प्रायश्चित करने के लिए तज़्क़ाहा देते हैं ताकि क़ुरबानी पूरी हो सके। हिंदू पशु बलि की आधुनिक प्रथा ज्यादातर शक्तिवाद से जुड़ी है और हिंदू धर्म की धाराओं में स्थानीय लोकप्रिय या जनजातीय परंपराओं की दृढ़ता से निहित है। पशु बलि भारत में प्राचीन वैदिक धर्म का हिस्सा रहा था और यजुर्वेद जैसे धर्मग्रंथों में भी इसका उल्लेख मिलता है। हालाँकि हिंदू धर्म के गठन के दौरान वे काफी हद तक समाप्त हो गए थे और बहुत से हिंदू अब उन्हें दृढ़ता से अस्वीकार करते हैं। कुछ पुराणों में पशु बलि की मनाही है। हालांकि, कुछ स्थानीय संदर्भों में जानवरों की बलि देने की प्रथा शुरू हो गई है। वहीं कई अलग-अलग संदर्भों में प्रारंभिक ईसाई समुदायों में बलिदान की धारणा उभरी थी। बलिदान और विशेष रूप से यूचरिस्ट (Eucharist) की बलिदान की व्याख्या विभिन्न ईसाई परंपराओं के भीतर बहुत भिन्न है क्योंकि आंशिक रूप से बलि की शब्दावली जिसमें यूचरिस्ट को मूल रूप से वर्णित किया गया था, ईसाई विचारकों के लिए बाहरी बन गई थी। चीन में, धर्म के अन्य पहलुओं की तरह, बलिदान विभिन्न स्तरों पर मौजूद हैं। प्राचीन चीन में शाही पूजा की अनिवार्य विशेषता सम्राट द्वारा स्वयं स्वर्ग और पृथ्वी को दी जाने वाली विभिन्न बालियाँ थीं। वहीं आम लोगों को शाही बलिदान में भागीदारी से बाहर रखा गया था। बौद्ध धर्म और डाओवाद जैसे स्थापित धर्मों के साथ इन तत्वों के सम्मिश्रण ने चीन में बलि संस्कारों के महान विविधीकरण को प्रभावित किया है। जबकि प्राचीन जापान में, बलि ने धर्म में एक विशेष रूप से महत्वपूर्ण स्थान पर कब्जा कर लिया गया था क्योंकि लोगों का उनके देवताओं के साथ संबंध अक्सर ऐसा लगता है कि उनके पास आराधना के बजाय सौदेबाजी का चरित्र था। प्राकृतिक देवताओं और अंत्येष्टि के लिए मानव बलिदान काफी आम था, लेकिन ये प्रथा आमतौर पर प्रारंभिक मध्य युग में छोड़ दी गई थी। वर्तमान में मानव बलि के अलावा, जापानियों द्वारा देवताओं को उन सभी चीजों का भेंट किया जाता है, जो मनुष्य जीवन के लिए आवश्यक हैं, जैसे, भोजन, कपड़े, आश्रय और अन्य उपयोगी और मनभावन वस्तुएं जैसे- परिवहन के साधन, हथियार, मनोरंजन की वस्तुएं आदि।

संदर्भ :-
https://www.britannica.com/topic/sacrifice-religion/Sacrifice-in-the-religions-of-the-world
https://en.wikipedia.org/wiki/Eid_al-Adha
https://en.wikipedia.org/wiki/Animal_sacrifice
https://en.wikipedia.org/wiki/Korban
https://en.wikipedia.org/wiki/Animal_sacrifice_in_Hinduism

चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में इब्राहिम द्वारा इस्माइल की कुर्बानी की कहानी का अंकन किया गया है। (Publlicdomainpictures)
दूसरे चित्र में मिस्र की पॉटरी कला पर पशु कुर्बानी का चित्रांकन किया गया है। (Wikimedia)
तीसरे चित्र में मिस्र में सूअर की कुर्बानी का चित्रांकन है। (Wikimedia)
चौथे चित्र में यूचरिस्ट धर्म में पशु बलि को दिखाया गया है। (Pikist)
अंतिम चित्र में केरल में हिन्दू धर्म के एक प्रतिष्ठान के दौरान पशु बलि का चित्र संदर्भित करता है। (Pikiano)



RECENT POST

  • मेरठ में 1899 की चर्चिल तस्वीर
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     24-09-2020 03:51 AM


  • पश्तून (पठान) - मुस्लिम धर्म की एक प्रमुख जनजाति का इतिहास
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     23-09-2020 03:27 AM


  • मेरठ का ऐतिहासिक स्थल सूरज कुंड
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-09-2020 11:14 AM


  • आभूषणों को सुंदर रूप प्रदान करता है कांच
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     21-09-2020 04:08 AM


  • अजंता और एलोरा
    खदान

     20-09-2020 09:26 AM


  • क्यों होते हैं आनुवंशिक रोग?
    डीएनए

     18-09-2020 07:48 PM


  • बैटरी - वर्षों से ऊर्जा का एक महत्वपूर्ण स्रोत
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-09-2020 04:49 AM


  • मानवता के लिए चुनौती हैं, लीथल ऑटोनॉमस वेपन्स सिस्टम (LAWS)
    हथियार व खिलौने

     17-09-2020 06:19 AM


  • मेरठ पीतल से निर्मित साज
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     16-09-2020 02:10 AM


  • हमारी आकाशगंगा का भाग्य
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     15-09-2020 02:04 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id