यह बॉक्स जो कि लंदन में है हमारे मेरठ में उत्पन्न हुआ था

मेरठ

 14-07-2020 04:47 PM
वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

भारतीय समाज में उपहार देने की परम्परा अत्यंत ही प्राचीन है और वर्तमान समय में ऐसे कई उपहार हैं, जो कि दुनिया भर के संग्रहालयों में रखे गए हैं। 1880-90 के दशक में उपहारों की इसी फेहरिश्त में दो ऐसे नाम जुड़े जो कि मेरठ शहर की ऐतिहासिकता को ताजा करते हैं। मेरठ शहर वैसे तो अत्यंत ही प्राचीन है परन्तु इसे औपनिवेशिक काल में एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण दर्जा प्राप्त हुआ। इसका कारण यहाँ पर बनी छावनी और उद्योग हैं। यहाँ से दो सादली बक्से इंग्लैंड (England) की महारानी विक्टोरिया (Queen Victoria) को भेंट स्वरुप दिए गए थे। आज वर्तमान समय में ये बक्से विंडसर महल (Windsor Palace) में रानी विक्टोरिया के संग्रहालय में मौजूद हैं। सादली बक्से देने की परम्परा आज भी भारत में मौजूद है, अभी हाल ही में देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बेटी इवांका ट्रम्प (Ivanka Trump) को भेंट स्वरुप दी, जब वे भारत के दौरे पर आई थी। पहला बक्सा जो रानी विक्टोरिया को भेंट स्वरुप दिया गया था, वह हाथी के दांत, चन्दन की लकड़ी तथा धातु के मिश्रण से बना हुआ था। यह 1897 में मेरठ एसोसिएशन (Meerut Association) के सदस्यों द्वारा उनकी डायमंड जुबली (Diamond Jublee) के उपलक्ष्य में दिया गया था।

यह बक्सा अत्यंत ही बेहतर तरीके से सजाया गया था तथा इसपर जानवरों आदि की आकृति को भी उकेरा गया था। दूसरा बक्सा 1887-97 के मध्य मुस्लिम एसोसिएशन (Muslim Association) के सदस्यों द्वारा 1897 के जुबली वर्ष के उपलक्ष्य में दिया गया था। यह बक्सा लकड़ी और चांदी की नक्कासी के साथ बनाया गया था, जिसे गिल्ट (Gilt), चांदी और तामचीनी के साथ सजाया गया था। इसके अन्दर हरे रंग का मखमल लगाया गया था तथा बक्से में कई छोटे डिब्बों को भी बनाया गया था, जिसका ढक्कन कई सामूहिक चित्रों से सजाया गया था। सादली बक्से मध्यकालीन भारत में अत्यंत ही प्रसिद्द हो चुके थे, जिसके कारण इनका बड़े पैमाने पर निर्यात बम्बई के डॉक (Bombay Dock) से किया जाता था और इसी कारण से इन्हें बाम्बे बॉक्स (Bombay Box) के नाम से भी जाना जाता था। सादली एक सजावटी तकनीकी है, जो की ज्यामितीय आधारों के साथ साथ सूक्ष्म मोजेक कला (Mosaic Art) का भी एक प्रकार है। इस बक्से का भारत में बेहद पुराना इतिहास है तथा इसका शुरूआती चरण हमें 16वीं शताब्दी में दिखाई देता है। यह कला एक अत्यंत ही उच्च कोटि की कला है तथा 19वीं शताब्दी में इंग्लैंड में अत्यंत ही लोकप्रिय हुई थी और यही कारण है की इसका व्यापार भारत से अत्यंत ही बड़े पैमाने पर फलने फूलने लगा था।

सादली तकनीकी देखने में अत्यंत ही जटिल प्रतीत होती है परन्तु यह वास्तव में काफी सरल होती है। इस प्रकार के कलाकृति को बनाने के लिए हाथी दांत, लकड़ी या अन्य सामग्री को एक पतली पट्टी के आकार का काट लिया जाता है, जिसे पुनः छोटे-छोटे त्रिकोणीय टुकड़ों में काट लिया जाता है फिर इसे विभिन्न ज्यामितीय आकारों के अनुसार बनाया जाता है। इसको चिपकाने के लिए जानवरों से निकले गोंद का प्रयोग किया जाता था। इसे चिपकाने के बाद बक्से की उंचाई के अनुसार समतल कर लिया जाता था। इन बक्सों को शुरूआती समय में भारत में लेखन बक्सों के रूप में भी देखा जाता था।

चित्र सन्दर्भ:
मुख्य चित्र में मेरठ एसोसिएशन द्वारा महारानी विक्टोरिया को उपहार में दिए गए सद्ली बक्शे को दिखाया गया है। (Royal Trust, England)
द्वितीय चित्र में मुस्लिम एसोसिएशन द्वारा महारानी विक्टोरिया को उपहार में दिए गए सद्ली बक्शे को दिखाया गया है। (Royal Trust, England)
तीसरे चित्र के पार्श्व में इवांका ट्रम्प (Ivanka Trump), अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (US President Donald Trump) और भारत के प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी को दिखाया गया है और अग्र में मोदी जी द्वारा इवांका को उपहार स्वरुप दिया गया सद्ली बक्शा दिखाया गया है। (Prarang)
अंतिम चित्र में बम्बईया सद्ली बक्शा दिखाया गया है। (Publicdomainpictures)
सन्दर्भ
https://www.rct.uk/collection/42222
https://www.rct.uk/collection/42233
http://theantiquesalmanac.com/thegeometricbeautyofsadelimosaic.htm
https://www.woodworkersinstitute.com/furniture-cabinetmaking/features/the-art-of/the-art-of-sadeli/
https://www.indiatoday.in/fyi/story/what-is-sadeli-craft-1096411-2017-11-29

RECENT POST

  • विश्व कपड़ा व्यापार पर चीन की ढीली पकड़ ने भारत के लिए एक दरवाजा खोल दिया है
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     28-05-2022 09:14 AM


  • भारत में हमें इलेक्ट्रिक ट्रक कब दिखाई देंगे?
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     27-05-2022 09:23 AM


  • हिन्द महासागर के हरे-भरे मॉरीशस द्वीप में हुआ भारतीय व्यंजनों का महत्वपूर्ण प्रभाव
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2022 08:28 AM


  • देखते ही देखते विलुप्त हो गए हैं, मेरठ शहर के जल निकाय
    नदियाँ

     25-05-2022 08:12 AM


  • कवक बुद्धि व जागरूकता के साक्ष्य, अल्पकालिक स्मृति, सीखने, निर्णय लेने में हैं सक्षम
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:35 AM


  • मेरे देश की धरती है दुर्लभ पृथ्वी खनिजों का पांचवां सबसे बड़ा भंडार, फिर भी इनका आयात क्यों?
    खनिज

     23-05-2022 08:43 AM


  • जमीन पर सबसे तेजी से दौड़ने वाला जानवर है चीता
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:34 PM


  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM


  • हरियाली की कमी और बढ़ते कांक्रीटीकरण से एकदम बढ़ जाता है, शहरों का तापमान
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:45 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id