Machine Translator

क्या मानव बुद्धि सीमित है?

मेरठ

 26-06-2020 09:45 AM
व्यवहारिक

पिछली सदी में विज्ञान में काफी तेजी से प्रगति होने के बावजूद, प्रकृति के विषय में हमारी समझ अभी भी पूर्ण होने से काफी दूर है। वैज्ञानिक न केवल भौतिकी के पवित्र ग्रिल (क्वांटम यांत्रिकी के साथ सामान्य सापेक्षता को एकीकृत करने में) ब्रह्मांड का विशाल बहुमत किस चीज से बना है को समझने में भी सक्षम नहीं रहे हैं। प्रत्येक वस्तु के सिद्धांत (Theory of Everything) ने हमें निरन्तर खोज में जारी रखा है। ऐसे ही कई अन्य उत्कृष्ट पहेलियां भी हैं, जैसे कि कैसे मात्र पदार्थ से चेतना उत्पन्न होती है। तो स्वाभाविक रूप से सवाल यह उठता है कि क्या विज्ञान कभी सारे उत्तर दे पाएगा? इंसानी मस्तिष्क विचारहीन और अनियंत्रित विकास का एक उपज है।

साथ ही मानव मस्तिष्क हमारे अस्तित्व और प्रजनन पर आने वाली व्यावहारिक समस्याओं को हल करने के लिए डिज़ाइन किए गए थे, न कि ब्रह्मांड की रचना को उकेरने के लिए। इस अहसास ने कुछ दार्शनिकों को निराशावाद के एक जिज्ञासु रूप को अपनाने के लिए प्रेरित किया, यह तर्क देते हुए कि ऐसी चीजें हैं जो हम कभी नहीं समझ पाएंगे। दार्शनिक कॉलिन मैकगिन ने पुस्तकों और लेखों की एक श्रृंखला में तर्क दिया है कि सभी दिमाग कुछ समस्याओं के संबंध में "संज्ञानात्मक संवरण" से पीड़ित हैं। जिस तरह कुत्ते या बिल्लियाँ कभी भी अभाज्य संख्या को नहीं समझ पाएँगे, मानव मस्तिष्क भी विश्व के कुछ अजूबों को समझने में असमर्थ है। यदि मैकगिन सही है कि हमारा मस्तिष्क कुछ समस्याओं को हल करने के लिए सुसज्जित नहीं हैं, तो उन चीजों को समझने की कोशिश करने का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि वे हमें विफल और परेशान करते रहेंगे। मैकगिन खुद आश्वस्त हैं कि वास्तव में, मस्तिष्क-शरीर की समस्या के लिए एक पूरी तरह से प्राकृतिक समाधान है, लेकिन यह मानव मस्तिष्क कभी नहीं समझ पाएगा।

20 वीं शताब्दी में विज्ञान से आगे बढ़ने वाले ज्ञान में बख़्तरबंद सीमाएं पाई गईं है। वर्नर हाइजेनबर्ग की खोज से पता चलता है कि एक वस्तु की स्थिति अनिवार्य रूप से अपनी गति की निश्चितता के स्तर को न्यून कर देती है। कर्ट गोडेल का कहना है कि किसी भी पर्याप्त उन्नत औपचारिक गणितीय प्रणाली से किसी भी प्रत्येक विवरण को सही साबित करना असंभव है। और एलन ट्यूरिंग ने प्रदर्शित किया कि कोई भी, सामान्य रूप से यह निर्धारित नहीं कर सकता है कि कंप्यूटर एल्गोरिथ्म रुकने वाला है या नहीं।

जैसे की हम जानते ही हैं कि हम अपने साथी मनुष्यों के लिए अपने विचार का विस्तार कर सकते हैं। हमारी प्रजाति को जो विशिष्ट बनाता है वह यह है कि हम विशेष रूप से संचयी सांस्कृतिक ज्ञान में संस्कृति के लिए सक्षम हैं। वहीं अलग रहने वाले व्यक्ति के मस्तिष्क की तुलना में एक से अधिक मानव मस्तिष्क काफी तेज होता है। भले ही पाषाण युग से मानवता एक लंबा सफर तय कर चुकी है, लेकिन अभी भी मानवता को काफी लंबा सफर तय करने की आवश्यकता है। बड़े स्तर की समस्याओं (जैसे कि अंतरिक्ष और ब्रह्मांड के रहस्यों को समझने के लिए) से लेकर सूक्ष्म स्तर (जैसे कि पदार्थ के मूलभूत कणों और उनके परस्पर क्रिया को निर्धारित करने के लिए) की समस्या को हल करने के लिए मानव मस्तिष्क की मदद और इसकी बहुत आवश्यकता होती है। इन सीमाओं को पार करने के लिए, कृत्रिम बुद्धिमत्ता एक व्यवहार्य तरीका प्रतीत होता है। पार्किंसंस रोग से पीड़ित रोगियों के उदाहरण से हम इस बात को समझ सकते हैं। पार्किंसंस रोग से पीड़ित रोगियों के शरीर में डोपामाइन (Dopamine) की कमी के कारण, वे अपने संचालक कौशल को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने में असमर्थ रहते हैं। वहीं चिकित्सा विज्ञान में उन्नति इस समस्या को हल करने में काफी मददगार साबित हुई है। स्वाभाविक रूप से डोपामाइन को उत्पन्न करने वाले व्यापक सेम के पौधे, जैसी सामग्री का उपयोग करके, रोग के प्रभावों का मुकाबला किया जा सकता है। यह प्रभावी भी हो सकता है, लेकिन दवा भी अपनी चुनौतियों और दुष्प्रभावों को भी उत्पन्न कर देती है। कृत्रिम बुद्धिमत्ता अब पहले से ही पूरी तरह से मनुष्यों के क्षेत्र में इस तरह की रचनात्मकता के रूप में कार्यों को करने में काफी सफल साबित हुआ है।

एआई ने वाणिज्यिक अनुप्रयोगों में इसका उपयोग खोजना शुरू कर दिया है। उदाहरण के लिए, चैटबॉट तेजी से ग्राहक देखभाल प्रतिनिधियों की जगह ले रहे हैं, जब वे वेबसाइट पर जाते हैं, तो ग्राहकों का समर्थन उधार देने के लिए। एक चैटबोट मानव व्यवहार की नकल कर सकता है, जो लागू संदर्भ में उपयोगकर्ता क्वेरी का अर्थ बताता है। इसी प्रकार, रोबोट अब असंख्य दुकानदार कर्तव्यों से परे असंख्य अनुप्रयोगों में उपयोग करते हैं। लेकिन, मनुष्य एआई के लिए बहुत बड़ी भूमिका की परिकल्पना करता है, जो हमारे आसपास के दुनिया के अनंत रहस्यों को सुलझाने में मदद करता है। कंप्यूटिंग में नवीनतम प्रगति को ध्यान में रखते हुए (उदाहरण के लिए, क्वांटम कम्प्यूटिंग), हम क्रांतिकारी एआई समाधानों को साकार करने के बहुत करीब हो सकते हैं।

एआई के प्रयोग से हम मानव बुद्धि की सीमाओं को पार कर सकते हैं। यह अपनी चुनौतियां पेश कर सकता है। हालांकि, लाभों को देखते हुए, यह इसके लायक हो सकता है।

चित्र संदर्भ:-
1. मुख्य चित्र में मनुष्य और ब्रह्मांड के मध्य के सम्बन्ध को प्रदर्शित किया गया है। (freegoodimages)
2. दूसरे चित्र में द थिंकर (The Thinker) नामक मूर्ति को दिखाया गया है, जो मानव सोच की पर्यायी है। (Wikimedia)
3. तीसरे चित्र में मानव विकास के विभिन्न चरणों में दिखाया गया है। (Istock)

संदर्भ :-
1. https://tmrwedition.com/2017/04/15/the-limits-of-human-intelligence-why-we-need-ai/
2. https://fashnerd.com/2017/06/artificial-intelligence-ai-human-intelligence/
3. https://www.scientificamerican.com/article/limits-on-human-comprehension/
4. https://www.forbes.com/sites/bernardmarr/2020/02/28/can-machines-and-artificial-intelligence-be-creative/#7e5656d84580
5. https://theconversation.com/human-intelligence-have-we-reached-the-limit-of-knowledge-124819



RECENT POST

  • रक्षाबंधन और कोविड-19, रक्षाबंधन के बदलते रूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     31-07-2020 04:14 PM


  • रोपकुंड कंकाल झील
    नदियाँ

     31-07-2020 05:31 PM


  • ध्यान की अवस्था को संदर्भित करता है कायोत्सर्ग
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     31-07-2020 06:06 PM


  • क्या रहा समयसीमा के अनुसार, अब तक प्रारंग और मेरठ का सफर
    शुरुआतः 4 अरब ईसापूर्व से 0.2 करोड ईसापूर्व तक

     31-07-2020 08:25 AM


  • क्यों दी जाती है बकरीद पर कुर्बानी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     31-07-2020 06:09 PM


  • एक सिक्के के दो पहलू: शहरीकरण बनाम स्वचालन
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     30-07-2020 03:50 AM


  • सौर ऊर्जा : अमृत ऊर्जा
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     29-07-2020 09:00 AM


  • कैसा होगा हज 2020?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     28-07-2020 06:13 PM


  • क्या रहा मेरठ की वनस्पतियों के अनुसार, अब तक प्रारंग का सफर
    शारीरिक

     27-07-2020 08:00 AM


  • बायोरेमेडिएशन के लिए एक प्रभावी उपकरण ‘कवक’
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     27-07-2020 07:43 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.