कैसे बनाया जाता है, सबसे प्रसिद्ध खाद्य पदार्थों में से एक टमाटर कैचप ?

मेरठ

 14-06-2020 01:15 PM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

17 वीं शताब्दी में, चीनी मिश्रित मसालेदार मछली और मसाले (अमोय बोली में कोए-चीप या के-चीप) का अर्थ अचार वाली मछली या सीपदार मछली से था। 18 वीं शताब्दी की शुरुआत तक, मलय राज्यों (Malay States, वर्तमान में मलेशिया और सिंगापुर) में टेबल सॉस (Table Sauce) आ गया था, जहां अंग्रेजी उपनिवेशवादियों ने पहली बार इसका स्वाद चखा था। सॉस के लिए मलेशियाई-मलय शब्द कीकेप (kicap) या केकेप (Kecap) था। यही शब्द अंग्रेजी के शब्द "केचप (Ketchup)" में विकसित हुआ।

टमाटर केचप की परिचित सामग्री हैं - टमाटर पेस्ट (लाल पके टमाटर से संकेंद्रित), आस्वित सिरका (Distilled Vinegar), उच्च फ़्रुक्टोस मकई शरबत (high fructose corn syrup), नमक, मसाला, प्याज पाउडर, और प्राकृतिक स्वाद बनाने का मसाला (नेचुरल फ्लेवर) लेकिन यह वो प्रक्रिया है जो इन सरल सामग्रियों से गुजरती है और दुनिया के सबसे लोकप्रिय मसाले को जन्म देती है।

टमाटर की छँटाई, धोने और काटने,के बाद पकने से पहले संरक्षण के लिए बड़े स्टील के वटों (Vats) में रखा जाता है। जहां टमाटर के रस और गूदे को छानकर अलग किया जाता और उसकी जाँच (Screening) होती है। एक बार अलग होने के बाद, रस को आगे केचप में संसाधित किया जाता है। इसके बाद केचप प्रसंस्करण में अतिरिक्त सामग्री को शामिल किया जाता है, पकाया जाता है, अतिरिक्त स्क्रीनिंग और फ़िल्टरिंग, एयर-रिमूवल, पैकेजिंग और कूलिंग आदि चरण होते हैं। रस निस्पंदन के बाद वांछित स्वाद और स्थिरता को प्राप्त करने के लिए मिश्रण में अतिरिक्त तत्व मिलाए जाते हैं। पूरी प्रक्रिया के दौरान, यह सुनिश्चित करने के लिए तापमान को लगातार मॉनिटर किया जाना चाहिए कि सभी सामग्री ठीक से मिश्रित हैं। फिर ऑक्सीकरण को रोकने और उचित रंग बनाए रखने और किसी भी अवांछित बैक्टीरिया के विकास को रोकने के लिए के लिए हवा को हटा दिया जाता है। पैक किए जाने से पहले, संदूषण को रोकने के लिए केचप को लगभग 190 ° F (88 ° C) गर्म किया जाता है। पैकेजिंग के बाद, बोतलों को तुरंत सील कर दिया जाता है और ताजगी बनाए रखने और उत्पाद के स्व-जीवन में सुधार के लिए बोतलों को ठंडा किया जाता है।

सन्दर्भ:
1. https://www.youtube.com/watch?v=Ixp2CxdRVXo

RECENT POST

  • भगवान गौतम बुद्ध के जन्म से सम्बंधित जातक कथाएं सिखाती हैं बौद्ध साहित्य के सिद्धांत
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:49 AM


  • हमारे बहुभाषी, बहुसांस्कृतिक देश में शैक्षिक जगत से विलुप्‍त होता भाषा अध्‍ययन के प्रति रूझान
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:06 AM


  • अपघटन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, दीमक
    व्यवहारिक

     15-05-2022 03:31 PM


  • भोजन का स्थायी, प्रोटीन युक्त व् किफायती स्रोत हैं कीड़े, कम कार्बन पदचिह्न, भविष्य का है यह भोजन?
    तितलियाँ व कीड़े

     14-05-2022 10:11 AM


  • मेरठ में सबसे पुराने से लेकर आधुनिक स्विमिंग पूलों का सफर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     13-05-2022 09:38 AM


  • भारत में बढ़ रहा तापमान पानी की आपूर्ति को कर रहा है गंभीर रूप से प्रभावित
    जलवायु व ऋतु

     11-05-2022 09:07 PM


  • मेरठ की रानी बेगम समरू की साहसिक कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     11-05-2022 12:10 PM


  • घातक वायरस को समाप्‍त करने में सहायक अच्‍छे वायरस
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     10-05-2022 09:00 AM


  • विदेश की नई संस्कृति में पढ़ाई, छात्रों के लिए जीवन बदलने वाला अनुभव हो सकता है
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     09-05-2022 08:53 AM


  • रोम के रक्षक माने जाते हैं,जूनो के कलहंस
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     08-05-2022 07:33 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id