इंडो पार्थियन युग के जीवन को दर्शाते हैं राजा गोंडोफेरस के सिक्के

मेरठ

 03-06-2020 03:10 PM
धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

सिकंदर के अफगानिस्तान और पाकिस्तान में प्रवेश करने से पहले ही यूनान (ग्रीस- Greece) और भारत में बहुत अधिक आदान-प्रदान हुआ करता था। जबकि पौराणिक कथाएं, आदान-प्रदान और भाषाई ऋण-शब्दों के साथ फैली हुई है, और यहां तक कि भाषाओं में व्याकरणीय समानताएं भी हैं (4 वीं ईसा पूर्व के संस्कृत व्याकरण पर पाणिनि की पुस्तक सिकंदर पूर्व (Pre-Alexander) यूनानी भाषा को संदर्भित करता है), लेकिन इस तरह के आदान-प्रदान के पुरातत्व प्रमाणों को खोजना मुश्किल है। यहां तक कि इतिहास में न्यासा नामक एक शहर(राज्य) का संदर्भ भी है, जिसकी खोज पर सिकंदर को आश्चर्य हुआ, जहां यूनानी भाषी समुदाय, शराब पीने वाले और डायोनिसियस (Dionysius) के अनुयायी रहते थे। यह सिकंदर के बाद का इतिहास है, जहां भारत और यूनान की परस्पर सम्बंधता ने भारत में विशाल पदचिन्ह छोडे – जैसे शहरी नियोजन, सिक्का डिजाइन (Designs), कपड़ा और आभूषण डिजाइन और अन्य कला, विशेष रूप से गांधार (कंधार, कई यूनानी शहरों में से एक है, जिसका नाम सिकंदर के नाम पर रखा गया) और तक्षशिला में मूर्तिकला। 323 ईसा पूर्व में अलेक्जेंडर की मृत्यु के तुरंत बाद, उसके सेनाप्रमुख सेल्यूकस निकेटर (Seleucus Nicator) और उनकी फारसी रानी को उसका साम्राज्य विरासत में मिला।

मौर्य साम्राज्य, जिसे सैंड्राकोटस (Sandracotus)/चंद्रगुप्त मौर्य (सेल्यूकस निकेटर की बेटी से विवाहित) द्वारा स्थापित किया गया था, ने अपनी पहचान बनाने के लिए फारसी और यूनानी डिजाइन और शिल्प-कौशल का एक संयोजन बनाया लेकिन उसका साम्राज्य 322 ईसा पूर्व से 185 ईसा पूर्व तक ही चला। इस मौर्य चरण के दौरान ही यूनान और भारत के बीच कूटनीति का एक नया रूप शुरू हुआ और दोनों देशों के राजदूत संबंधित अदालतों में मौजूद रहने लगे। प्रसिद्ध रूप से, मेगस्थनीज-सेल्यूकस निकेटर (सीरिया और अफगानिस्तान) के लिए, डिमाकस (Deimachus) - एंटिओकस (Antiochus) प्रथम (मैसेडोनिया-Macedonia, ग्रीस और थ्रेसिया-Thracia) के लिए, और डायोनिसियस (Dionysius) - टॉलेमी फिलाडेल्फ़ियस (Ptolemy Philadelphius-मिस्र) के लिए, सभी चंद्रगुप्त मौर्य के दरबार में रहते थे और काम करते थे। विदेश मिशन में राजनायिकों/ राजदूतों के आधार का ऐसा रूप आज भले ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक आदर्श बन गया है लेकिन वास्तव में इसकी शुरूआत सिकंदर के बाद यूनान और भारत के साथ शुरू हुई। 185 ईसा पूर्व में मौर्य साम्राज्य को पाकिस्तान/उत्तरी-भारत क्षेत्र में एक इंडो-ग्रीक (भारतीय-यूनानी) साम्राज्य द्वारा प्रतिस्थापित किए जाने के बाद भी, इस नवाचार (Protocol) को जारी रखा गया जोकि मौर्य साम्राज्य के विभाजित होने से उभरे जनपदों या राज्यों में फैल गया। इंडो-ग्रीक राज्यों (बैक्ट्रिया - Bactria / अफगानिस्तान के डेमेट्रियस- Demetrius द्वारा शुरू किया गया) ने सियालकोट (पंजाब, पाकिस्तान) में अपनी राजधानी स्थापित की जोकि 185 ईसा पूर्व से लगभग 10 ईस्वीं तक रही। इंडो-ग्रीक राजाओं में सबसे प्रसिद्ध, मेनाण्डर (Menander) बौद्ध बन गए। यह भारतीय इतिहास का एक आकर्षक और महत्वपूर्ण हिस्सा है।

इंडो-ग्रीक साम्राज्य में अंततः विदेशियों का एक नया समूह - मध्य एशियाई जनजाति (स्कीथियन-Scythians/शक) विकसित हुआ। इंडो-सीथियन राजाओं ने अपना आधार सिंध, पाकिस्तान में स्थापित किया तथा उसके बाद इंडो-यूनानियों से तक्षशिला के उत्तरी क्षेत्रों पर कब्जा करने से पूर्व कच्छ, सौराष्ट्र/गुजरात और उसके बाद फिर उज्जैन/ मध्य प्रदेश, हासिल करने के लिए दक्षिण-पूर्व में आगे बढ़े। हालांकि चौथी ईसा पूर्व तक इंडो- सीथियन राज्य किसी न किसी रूप में विभाजित हुआ या उसने अन्य राज्यों की सदस्यता ली, लेकिन उसका सबसे बड़ा विस्तार राजा मोअस (20 ईसा पूर्व से 22 ईसा पूर्व) और उनके उत्तराधिकारी राजा अज़स प्रथम के अधीन हुआ। इन इंडो-ग्रीक और इंडो-सीथियन राजाओं के सिक्कों की एक अद्भुत सरणी आज पूरे भारत में बिखरी हुई है। इनमें एक तरफ यूनानी भगवान और दूसरी तरफ भारतीय भगवान की आकृति देखने को मिलती है। ऐसे सिक्के भारतीय त्रिदेवों (ब्रह्मा, विष्णु और शिव) की सभी प्रतिमाओं के साथ हैं तथा कई भाषाओं (मुख्य रूप से दो भाषाएं) में अंकित किए गए हैं। इंडो-सीथियन और पार्थियन (Parthian) मूल शासन के बाद, विदेशी शासकों का एक और समूह – ‘कुषाण’ उभरा। मूल रूप से युझी (Yuezhi) या चीन के घास के मैदानों से, कुषाणों (विमा कडफिसे-Kadphise, कनिष्क आदि) ने 30 ईसा पूर्व से 350 ईसा पूर्व तक शासन किया और मथुरा, उत्तर प्रदेश में एक नया आधार बनाया। विदेशी आक्रमणकारियों का अगला समूह जो भारत में आया और बसा वह आंतरिक एशिया/पूर्वी यूरोप से श्वेत हूण (White Huns) या हेप्थेलाईट (Hepthalite) का था। तोरमाणा और मिहिरकुला, बहुत आशंकित श्वेत हूण थे जिन्होंने कश्मीर से ग्वालियर तक 502 ईसा पूर्व से 530 ईसा पूर्व के बीच शासन किया। इस समय राजाओं द्वारा कई सिक्के निर्मित किये गये। कुषाण युग के कुछ सिक्के अक्सर मेरठ के पास भी पाए जाते हैं।

आइए आज हम इंडो-पार्थियन राजा, गोंडोफेरस के सिक्कों को देखते हैं और यह पता लगाने कि कोशिश करते हैं कि 2000 साल पहले के जीवन के बारे में वे क्या बताते हैं। इंडो-पार्थियन साम्राज्य, जिसे सुरेन (Suren) साम्राज्य के नाम से भी जाना जाता है, एक पार्थियन राज्य था, जिसे सुरेन हाउस (House) की गोंडोफ़रिड (Gondopharid) शाखा द्वारा स्थापित किया गया था। इस राजवंश ने पहली शताब्दी ईस्वी के दौरान अफगानिस्तान, पाकिस्तान और उत्तरी भारत पर शासन किया। उनके क्षेत्र में उन्होंने पूर्वी ईरान के कुछ हिस्सों, अफगानिस्तान के विभिन्न हिस्सों और भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्रों (आधुनिक पाकिस्तान और उत्तर-पश्चिमी भारत के कुछ हिस्सों) पर शासन किया। पार्थियन कुछ ईरानी जनजातियाँ थीं और इस जनजाति में राजाओं ने गोंडोफेरस की उपाधि धारण की। राज्य की स्थापना 19 ईसा पूर्व शताब्दी में हुई थी, जब ड्रैनजिआना (Drangiana-सकस्तान) के गोंडोफेरस ने पार्थियन साम्राज्य से स्वतंत्रता की घोषणा की। बाद में उसने इंडो-सीथियन और इंडो-यूनानियों से क्षेत्र को जीतते हुए पश्चिम की ओर अपना अभियान बढाया और अपने राज्य को साम्राज्य में बदला। पहली शताब्दी की दूसरी छमाही में कुषाणों के आक्रमण के बाद इंडो-पार्थियन के क्षेत्र बहुत कम हो गए थे। इंडो-पार्थियन को बौद्ध मठ तख्त-ए-बहि (यूनेस्को विश्व विरासत स्थल) के निर्माण के लिए विशेष रूप से जाना जाता है। गोंडोफेरस प्रथम, इंडो-पार्थियन साम्राज्य का संस्थापक था तथा उसने 19 ईसा पूर्व से 46 ईसा पूर्व तक शासन किया। सुरेन हाउस के सदस्य के रूप में वह स्थानीय राजकुमारों में से एक था जिसने ड्रेजिआना के पार्थियन प्रांत पर शासन किया। उनके शासनकाल के दौरान, उनका राज्य पार्थियन प्राधिकरण से स्वतंत्र हो गया और एक साम्राज्य में तब्दील हो गया, जिसमें ड्रेजिआना, आर्कोशिया (Arachosia) और गांधार शामिल थे। वह आमतौर पर थॉमस के संदिग्ध कार्य (dubious Acts of Thomas), तख्त-ए-बहि अभिलेख, और चांदी और तांबे में सिक्का-टकसाल के लिए जाना जाता है।

उनके बाद ड्रेजिआना और आर्कोशिया में उत्तराधिकार ऑर्थेगेंस (Orthagnes) तथा गांधार में उनके भतीजे अब्दागेसेस को प्राप्त हुआ। गोंडोफेरस प्रथम ने काबुल घाटी और पंजाब और सिंध क्षेत्र को सिथियन राजा अज़ेस से प्राप्त किया। उनका साम्राज्य विशाल था, लेकिन साम्राज्य का ढाँचा ढीला था, जो उनकी मृत्यु के तुरंत बाद खंडित हो गया। गोंडोफेरस प्रथम की मृत्यु के बाद उत्तराधिकारिता क्रमशः गोंडोफेरस द्वितीय -सर्पेडोंस (Sarpedones), गोंडोफेरस तृतीय- ऑर्थेगेंस, गोंडोफेरस चतुर्थ - सेसेस (Sase), यूबोजेंस (Ubouzanes) थे। अन्य राजा सनाबेरस (Sanabares), अब्दागेसेस आदि को प्राप्त हुई। इस समय निर्मित सिक्कों में कई राजाओं के भी चित्र हैं। सर्पेडोंस ने सिंध, पूर्वी पंजाब और अर्कोशिया में एक खंडित सिक्का जारी किया। यद्यपि इंडो-पार्थियन सिक्के आमतौर पर ग्रीक संख्यावाद का अनुसरण करते हैं, लेकिन उन्होंने कभी भी बौद्ध त्रिरत्न प्रतीक (बाद के मामलों के अलावा) को प्रदर्शित नहीं किया, और न ही वे कभी हाथी या बैल के चित्रण का उपयोग किया। उन्होंने संभवत: धार्मिक प्रतीकों का उपयोग किया जो उनके पूर्ववर्तियों द्वारा अत्यधिक उपयोग किये जाते रहे होंगे। हिंदू देवता शिव के सिक्के भी गोंडोफेरस प्रथम के शासनकाल में जारी किए गए। उनके सिक्कों पर और गांधार की कला में, इंडो-पार्थियन को छोटे क्रॉसओवर जैकेट (crossover jackets) और बड़े बैगी ट्राउजर (baggy trouser) के साथ चित्रित किया गया है। इंडो-पार्थियन राजवंश के संस्थापक गोंडोफेरस का एक सिक्का यूनान की देवी नाइक (Nike) के साथ है तथा इस पर ग्रीक और खरोष्ठी (Kharoshthi) दोनों लिपियां हैं। यूनानी और खरोष्ठी लिपियों के साथ एक और सिक्का है। एक ग्रीक-खरोष्ठी टेट्रोड्रेचम (Tetrodrachm) सिक्के में गोंडोफेरस शिव का सम्मान करते हैं। एक अन्य ग्रीक-खरोष्ठी टेट्रोड्रेचम में, गोंडोफेरस ज़ीअस (Zeus) का सम्मान करता है। इसी प्रकार से एक सिक्का गोंडोफेरस के उत्तराधिकारी, अब्दागेसेस प्रथम के द्वारा एक ग्रीक-खरोष्ठी टेट्रोड्रेचम का है। एक सिक्के में इंडो-पार्थियन राज्य के संस्थापक, गोंडोफ़ेरस ने हेडबैंड (Headband), झुमके, एक हार और एक क्रॉस-ओवर (Crossover) जैकेट पहने हुए हैं। एक सिक्के में गोंडोफेरस को घोड़े पर बिठाया हुआ दिखाया गया है।

चित्र सन्दर्भ:
1. मुख्य चित्र के पार्श्व में गोंडोफेर्स सेंट थॉमस का पत्र प्राप्त करते हुए चित्रित है, जबकि आगरा चित्र में इंडो-पार्थियन राजवंश के संस्थापक गोंडोफेर्स का सिक्का; ग्रीक देवी नाइकी के साथ, और ग्रीक और खरोष्ठी दोनों लिपियों में किंवदंतियां। (Prarang)
2. यूनानी और खरोष्ठी शिलालेख के साथ, गोंडोफेर्स का एक और सिक्का। (wikimedia)
3. इस ग्रीक-खरोष्ठी सिक्के में गोंडोफेर्स ने भगवान शिव का सम्मान किया है। (vcoins)
4. एक अन्य ग्रीक-खरोष्ठी में, गोंडोफेर्स ने ज़ीउस का सम्मान किया है। (vcoins)
5. गोंडोफेर्स के उत्तराधिकारी, अब्दैगैसस प्रथम द्वारा एक ग्रीक-खरोष्ठी सिक्का। (publlicdomainpictures)
संदर्भ:
1. https://en.wikipedia.org/wiki/Indo-Parthian_Kingdom
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Gondophares
3. http://www.columbia.edu/itc/mealac/pritchett/00routesdata/0001_0099/gondopharescoins/gondopharescoins.html



RECENT POST

  • प्रकृति की गोद में पाया जाने वाला एक अत्यंत गुणकारी खनिज - डायटोमेसियस
    खनिज

     01-10-2020 02:06 AM


  • प्रथम विश्व युद्ध में 7 वीं (मेरठ) डिवीजन का महत्वपूर्ण योगदान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     30-09-2020 03:41 AM


  • विश्व भर में प्रसिद्ध खेल क्रिकेट का इतिहास
    हथियार व खिलौने

     29-09-2020 03:23 AM


  • क्यों अलग है नाभिकीय ऊर्जा और हथियार?
    हथियार व खिलौने

     28-09-2020 08:47 AM


  • गुरुवायुर (Guruvayur) शहर में एक हाथी स्पा (Spa)
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     27-09-2020 06:46 AM


  • गेम थ्योरी या खेल सिद्धांत क्या है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     26-09-2020 04:37 AM


  • बियर की अनसुनी कहानियां
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-09-2020 03:25 AM


  • मेरठ में 1899 की चर्चिल तस्वीर
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     24-09-2020 03:51 AM


  • पश्तून (पठान) - मुस्लिम धर्म की एक प्रमुख जनजाति का इतिहास
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     23-09-2020 03:27 AM


  • मेरठ का ऐतिहासिक स्थल सूरज कुंड
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-09-2020 11:14 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id