क्या प्रभाव होगा मनुष्य पर इस एकांतवास का?

मेरठ

 31-03-2020 03:35 PM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

सम्पूर्ण विश्व कोरोना वायरस (Corona Virus) की महामारी से गुज़र रहा है। लगभग हर देश की सरकार लोगों से अनुरोध कर रही है कि आप उच्च जोखिम में हैं, संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए सरकार की मदद करें, ख़ुद को समाज से अलग रखें, जितना हो सके उतना अपने घरों में ही रहें। अन्य देशों की तरह ही भारत सरकार ने भी 21 दिनो तक के लिए सम्पूर्ण देश को बंद करने का फ़ैसला लिया है, जिसके बाद आने वाले कुछ दिनों तक देश की जनता को अपने घरों में ही रहना है। यह एक प्रकार से सामाजिक अलगाव है, जिसका नकरात्मक प्रभाव मानव जीवन पर पड़ सकता है।

मानव एक सामाजिक प्राणी है, जिसके लिए समाज से अलग रहना बहुत मुश्किल काम है। विपत्तियों के समय ही मनुष्य अकेले रहने के लिए मजबूर होता है। समाज से अलग अकेले रहना अत्यंत मुश्किल काम है। एक या दो दिन तक तो अकेला रहा जा सकता है, उसके बाद इसे लगातार दोहराना मुश्किल होता जाता है। आँकड़ों और शोध की मानें तो अकेलेपन से उत्तपन्न तनाव मनुष्यों को प्रभावित करने वाली सबसे घातक बीमारियों में से एक है। यह तेज़ी से उम्र बढ़ाने के साथ कैंसर (Cancer) की भी संभावनाएं बढ़ाता है। अकेलेपन की सबसे बुरी बात यह है कि अगर आप इसमें गहराई तक गिर गए तो फिर आप ख़ुद से नियंत्रण खो देते हैं। अकेलापन बिना किसी प्रत्यक्ष कारण के बढ़ता रहता है, ख़ुद से भरोसा उठ जाता है, लोगों पर संदेह होने लगता है। मूल रूप से आप अधिक निराशावादी हो जाते हैं तथा नकारात्मक विचार आपको घेरने लगते हैं। और ये सब एक चक्र की तरह होता है जहाँ एक बार फंसने के बाद निकलना बहुत मुश्किल हो जाता है।

अपना और अपने परिवार का इस अलगाव में ध्यान रखने के और उसके नकारात्मक प्रभावों से बचने के लिए कुछ चीज़ों को ध्यान में रखना बहुत ज़रूरी है। सर्वप्रथम यह ख़याल रखें कि आप दिमाग़ी रूप से हमेशा पूर्ण स्वस्थ रहें। अगर आप घर पर हैं तो प्रत्येक दिन को एक नियमित या योजनापूर्ण तरीक़े से सम्पन्न करने की कोशिश करे, जितना हो सके ख़ुद को व्यस्त रखने की कोशिश करें। इसके लिए आप एक दैनिक डायरी (Diary) का उपयोग कर सकते हैं जिसमें दिन भर की गतिविधियों का संक्षिप्त वर्णन प्रस्तुत करने की कोशिश करें। घर पर ही शारीरिक व्यायम किया जा सकता है जैसे योगा, अपने घर की छत पर टहलना आदि। परंतु इन अलगाव के दिनों में एक बात का ख़याल रखें कि लोगों से बिना वजह के संपर्क से बचें। और फ़िलहाल यही एक तरीका है जिससे हम इस महामारी से लड़ सकते हैं।

संदर्भ:
1.
https://www.sciencealert.com/isolation-has-profound-effects-on-the-human-body-and-brain-here-s-what-happens
2.https://in.mashable.com/science/2621/the-feeling-of-loneliness-is-the-result-of-human-evolution
3.https://www.verywellmind.com/how-to-cope-with-loneliness-during-coronavirus-4799661
4.https://www.thetimes.co.uk/article/coronavirus-seeing-self-isolation-as-an-opportunity-zsfh6nq0d

RECENT POST

  • देखते ही देखते विलुप्त हो गए हैं, मेरठ शहर के जल निकाय
    नदियाँ

     25-05-2022 08:12 AM


  • कवक बुद्धि व जागरूकता के साक्ष्य, अल्पकालिक स्मृति, सीखने, निर्णय लेने में हैं सक्षम
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     24-05-2022 07:35 AM


  • मेरे देश की धरती है दुर्लभ पृथ्वी खनिजों का पांचवां सबसे बड़ा भंडार, फिर भी इनका आयात क्यों?
    खनिज

     23-05-2022 08:43 AM


  • जमीन पर सबसे तेजी से दौड़ने वाला जानवर है चीता
    व्यवहारिक

     22-05-2022 03:34 PM


  • महान गणितज्ञों के देश में, गणित में रूचि क्यों कम हो रही है?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     21-05-2022 11:18 AM


  • आध्यात्मिकता के आधार पर प्रकृति से संबंध बनाने की संभावना देती है, बायोडायनामिक कृषि
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     20-05-2022 10:02 AM


  • हरियाली की कमी और बढ़ते कांक्रीटीकरण से एकदम बढ़ जाता है, शहरों का तापमान
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     19-05-2022 09:45 AM


  • खेती से भी पुराना है, मिट्टी के बर्तनों का इतिहास, कलात्मक अभिव्यक्ति का भी रहा यह साधन
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     18-05-2022 08:46 AM


  • भगवान गौतम बुद्ध के जन्म से सम्बंधित जातक कथाएं सिखाती हैं बौद्ध साहित्य के सिद्धांत
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     17-05-2022 09:49 AM


  • हमारे बहुभाषी, बहुसांस्कृतिक देश में शैक्षिक जगत से विलुप्‍त होता भाषा अध्‍ययन के प्रति रूझान
    ध्वनि 2- भाषायें

     17-05-2022 02:06 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id