Machine Translator

ब्रिटिश संग्रहालय (British Museum) में मौजूद है अशोक स्तंभ का एक टुकड़ा

मेरठ

 20-02-2020 12:40 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

लंदन में स्थित ब्रिटिश संग्रहालय (British Museum) मानव इतिहास, कला और संस्कृति को समर्पित एक सार्वजनिक संस्थान है। इस संग्रहालय में कुछ आठ मिलियन सबसे बड़े और सबसे व्यापक स्थायी संग्रह मौजूद हैं। यह संग्रहालय मानव संस्कृति के इतिहास से लेकर वर्तमान तक की कहानी को बताता है और यह दुनिया का पहला सार्वजनिक राष्ट्रीय संग्रहालय था। इस संग्रहालय की स्थापना 1753 में हुई थी, जो काफी हद तक आयरिश चिकित्सक और वैज्ञानिक सर हैंस स्लोएन (Sir Hans Sloane) के संग्रह पर आधारित थी। इसे पहली बार 1759 में सार्वजनिक किया गया था।

हम में से अधिकांश लोग यह तो जानते ही हैं कि मेरठ के अशोक स्तंभ को तुगलक द्वारा दिल्ली ले जाया गया था, लेकिन बहुत कम लोगों को इस बात का ज्ञान है कि अशोक स्तंभ का एक महत्वपूर्ण हिस्सा (ब्राह्मी शिलालेख) वर्तमान समय में ब्रिटिश संग्रहालय में प्रदर्शित है। ब्राह्मी शिलालेख ब्राह्मी पात्रों में अंकित एक छोटा सा बलुआ पत्थर का टुकड़ा है, जो कभी अशोक स्तंभ का हिस्सा हुआ करता था, इसे मूल रूप से मेरठ के पास तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में मौर्य सम्राट अशोक द्वारा बनाया गया था। अशोक स्तंभ के खंडित शिलालेखों की छह प्रतियाँ ज्ञात हैं, जिन्हें मेजर पिलर एडिट VI (Major pillar edit VI) कहा जाता है। ब्रिटिश संग्रहालय में संरक्षित हिस्सा अंतिम दो पंक्तियों का हिस्सा है, जिसका पूरा अनुवाद निम्नानुसार है: “सभी संप्रदायों को मेरे द्वारा कई तरह से सम्मानित किया जाता है, लेकिन मेरा मानना है कि मेरा प्रमुख कर्तव्य लोगों से व्यक्तिगत रूप से मिलना है। यह धर्म अध्यादेश जब मैं छब्बीस साल का अभिषिक्त था, तब उत्कीर्ण किया गया था।”

लेकिन 2000 वर्ष बाद, दिल्ली सल्तनत, मुगल साम्राज्य और ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के तहत, इस स्तंभ को क्रमिक रूप से स्थानांतरित किया गया और इसकी मरम्मत कारवाई गई। परंतु स्तंभ के जीवनकाल के दौरान इस शिलालेख को लंदन में इंडिया म्यूजियम (India Museum) में ले जाया गया और वर्तमान समय में आज यह ब्रिटिश म्यूजियम में मौजूद है। मेरठ के इस अशोक स्तंभ के शिलालेख की यात्रा फ़िरुज शाह तुगलक (1309-88) से शुरू हुई थी और मूल रूप से कोलकाता के भारतीय संग्रहालय में स्थापित हुई और अंततः ब्रिटिश संग्रहालय में मौजूद है। 1351 में, फ़िरोज़ शाह ने अपने चचेरे भाई मुहम्मद बिन तुगलक को दिल्ली सल्तनत में सफलता दिलाई और 1388 तक शासन किया। फ़िरोज़ शाह के शासन के बारे में जानकारी विभिन्न स्रोतों से पाई जाती है, जिसमें इतिहासकार शम्स-ए-सिराज अफ़ीफ़ द्वारा ‘तहरीक-ए-फ़िरोज़ शाही’ और ‘फ़िरोज़ शाह की आत्मकथा सिरात-ए फ़िरोज़ शाही’ में शामिल है। इन दोनों स्रोतों में अशोक स्तंभों की आवाजाही और फिर से स्थापना के साथ उनकी भागीदारी पर चर्चा की गई है।

संदर्भ :-
1.
https://bit.ly/2vRKcJu
2. https://depts.washington.edu/silkroad/museums/bm/bmsasiareliefs.html
3. https://bit.ly/38L0HVY
4. https://en.wikipedia.org/wiki/British_Museum



RECENT POST

  • मेरठ शहर और 120 साल पुराने शिकारी खेल में है, अनोखा सम्बन्ध
    हथियार व खिलौने

     04-06-2020 02:30 PM


  • इंडो पार्थियन युग के जीवन को दर्शाते हैं राजा गोंडोफेरस के सिक्के
    धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

     03-06-2020 03:10 PM


  • क्या है, हमारे जीवन में कीटों का महत्व ?
    तितलियाँ व कीड़े

     02-06-2020 10:50 AM


  • विभिन्न उद्यमों ने किया है सरकार से मजबूत राहत पैकेज का अनुरोध
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     01-06-2020 11:25 AM


  • बाम्बिनो नामक लड़के की प्यारी सी कहानी है, ला लूना
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     31-05-2020 11:50 AM


  • एक मार्मिक चित्र जिसने 1857 की क्रांति के दमन को दर्शाया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     30-05-2020 09:25 AM


  • आज भी आवश्यकता है एक प्राचीन रोजगार “नालबंद” की
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     29-05-2020 10:20 AM


  • भारत के पश्तून/पठानों का इतिहास
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     28-05-2020 09:40 AM


  • ब्रह्मांड की उत्पत्ति, इसके विकास और अंतिम परिणाम की व्याख्या करता है धार्मिक ब्रह्मांड विज्ञान
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-05-2020 01:00 PM


  • भारतीय और एंग्लो इंडियन पाक कला
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     26-05-2020 09:45 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.