Machine Translator

आलमगीरपुर गाँव से मिले सिंधु सभ्यता से जुड़े साक्ष्य

मेरठ

 21-01-2020 10:00 AM
सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में आलमगीरपुर गाँव में स्थित पुरातात्विक महत्त्व का स्थल सिंधु घाटी सभ्यता के पूर्व दिशा में सबसे अंतिम स्थलों में से एक है। इस स्थल को “परसराम का खेड़ा” भी कहा जाता था। इस स्थल की खोज 1974 में पंजाब विश्वविद्यालय ने की थी। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के द्वारा इसका उत्खनन 1958-59 में हुआ। यहां प्राप्त ईंटों का आकार, लम्बाई में 11.25 इंच से 11.75 इंच, चौड़ाई में 5.25 इंच से 6.25 इंच और मोटाई में 2.5 इंच से 2.75 इंच है।

वहीं खुदाई में यहाँ विशिष्ट हड़प्पा की मिट्टी के बर्तनों को पाया गया था और जिस जगह इन्हें पाया गया वह स्थान स्वयं एक मिट्टी के बर्तन बनाने की कार्यशाला जैसी प्रतीत हुई। साथ ही सिरेमिक (Ceramic) वस्तुओं में छत की टाइल (Tile), बर्तन, कप, फूलदान, घनाकार पासा, मोती, टेराकोटा केक (Terracotta Cakes), गाड़ियां और एक कूबड़ वाले बैल और सांप की मूर्तियां शामिल थीं। धातु का यहाँ कम सबूत था परन्तु, इसमें एक तांबे से बना टूटा हुआ ब्लेड (Blade) पाया गया था। प्रारंभिक व्यवसाय में मिट्टी की ईंट, लकड़ी आदि से बने घरों का निर्माण पाया गया था। ये घर एक विशिष्ट हड़प्पा सामग्री संस्कृति से जुड़े थे, जिसमें सिंधु लिपि, जानवरों, स्टीटाइट (Steatite) मोतियों आदि से सुशोभित बर्तन शामिल थे।

आलमगीरपुर में हड़प्पा संस्कृति की खोज ने भारत में पूर्वी दिशा में सिंधु घाटी सभ्यता के क्षितिज को काफी बढ़ा दिया। आलमगीरपुर के चार काल क्रमशः (I) हड़प्पा, (II) चित्रित ग्रे वेयर (Painted Grey Ware) (III) प्रारंभिक ऐतिहासिक और (IV) गत मध्यकालीन काल के थे। वहीं अवधि I और अवधि II के बीच के अंतराल को उनके संबंधित सांस्कृतिक संयोजन के अलावा परतों की बनावट संरचना द्वारा दर्शाया गया था। अवधि I से संबंधित चीज़ें ठोस और भूरी थीं। दूसरी ओर अवधि II की चीज़ें राख में लिपटी हुई तथा ढीली और ग्रे (Grey) थीं। यद्यपि भट्ठे में बनीं ईंटें साक्ष्य में मौजूद थीं, लेकिन शायद उत्खनन की सीमित प्रकृति के कारण हड़प्पा काल की कोई संरचना इनमें नहीं मिली थी।

संदर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Alamgirpur
2.https://www.wikiwand.com/en/Alamgirpur
3.https://www.worldhistory.biz/ancient-history/60837-6-alamgirpur.html



RECENT POST

  • शहरीकरण का ही एक रूप है, संक्रामक रोग
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     07-04-2020 05:00 PM


  • क्यों इतना भयावह हो गया है, कोरोना का प्रभाव ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-04-2020 03:40 PM


  • कैसे होता है, कोरोना का मानव शरीर पर प्रभाव
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     05-04-2020 03:45 PM


  • आयुर्वेद में भी मिलता है कनक चम्पा के औषधीय गुण का वर्णन
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     04-04-2020 01:10 PM


  • दिल्ली की इस मस्जिद का नाम सुनके उड़ जाएंगे होश
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     03-04-2020 02:40 PM


  • माँ दुर्गा के सबसे अधिक पूजित रूपों में से एक है कात्यायनी स्वरूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     02-04-2020 04:15 PM


  • तीक्ष्णता, शक्ति और स्थायित्व के लिए प्रसिद्ध है मेरठ की कैंची
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     01-04-2020 04:55 PM


  • क्या प्रभाव होगा मनुष्य पर इस एकांतवास का?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     31-03-2020 03:35 PM


  • काफी जटिल है संभोग नरभक्षण को समझना
    व्यवहारिक

     30-03-2020 02:40 PM


  • एक रोमांचक सिनेमाई सफर की कहानी है, लघु चलचित्र साइलेंट (Silent)
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     29-03-2020 04:10 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.