भारत में मौजूद हैं विभिन्न प्रकार के पासपोर्ट

मेरठ

 17-12-2019 02:16 PM
सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

अंतर्राष्ट्रीय यात्रा करने का ख्वाब कई लोगों का होता है लेकिन अंतर्राष्ट्रीय देशों में जाने के लिए पासपोर्ट (Passport) की आवश्यकता होती है। जिसके उद्देश्य से भारतीय नागरिकों को भारतीय विदेश मंत्रालय द्वारा एक भारतीय पासपोर्ट जारी किया जाता है। यह वाहक को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर यात्रा करने में सक्षम बनाता है और पासपोर्ट अधिनियम (1967) के अनुसार भारतीय नागरिकता के प्रमाण के रूप में कार्य करता है।

विदेश मंत्रालय के वाणिज्यिदूतीय, पासपोर्ट और वीज़ा डिवीजन (Consular, Passport & Visa Division) की पासपोर्ट सेवा इकाई केंद्रीय पासपोर्ट संगठन के रूप में कार्य करती है, और सभी उपयुक्त भारतीय नागरिकों की मांग पर भारतीय पासपोर्ट जारी करने के लिए ज़िम्मेदार है। भारतीय पासपोर्ट पूरे भारत में स्थित 93 पासपोर्ट कार्यालयों और विदेशों में 162 भारतीय राजनयिक मिशनों में जारी किए जाते हैं। वहीं 2015 में, भारत ने लगभग 1.2 करोड़ पासपोर्ट जारी किए, जिससे आगे केवल चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका की संख्या थी। 2015 के अंत तक लगभग 82.8 करोड़ भारतीयों के पास वैध पासपोर्ट थे।

क्या आपने कभी भारत में जारी किए गए पासपोर्ट के प्रकारों के बारे में सोचा है? तो चलिए जानते हैं भारत में जारी किए गये कुछ पासपोर्ट के बारे में :-
1) नीला पासपोर्ट :-
भारत के आम आदमी को नीले रंग का पासपोर्ट जारी किया जाता है। यह विदेशों के प्रचलन, आव्रजन और अन्य अधिकारियों को भारत के आम आदमी और उच्च श्रेणी के सरकारी अधिकारियों के बीच अंतर करने में मदद करता है।
2) सफेद पासपोर्ट :- विभिन्न प्रकार के पासपोर्ट में से, सफेद पासपोर्ट सबसे शक्तिशाली है। इस पासपोर्ट को प्राप्त करने के लिए सरकारी अधिकारी उपयुक्त हैं। यह आधिकारिक काम के लिए विदेश यात्रा करने वाले व्यक्तियों को जारी किया जाता है। सफेद पासपोर्ट प्रचलन और आव्रजन अधिकारियों के लिए धारक को एक सरकारी अधिकारी के रूप में पहचानना और उचित उपचार देना आसान बनाता है।
3) महरून पासपोर्ट :- भारतीय राजनयिकों और वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों को एक महरून पासपोर्ट जारी किया जाता है। उच्च गुणवत्ता वाले पासपोर्ट के लिए, एक अलग आवेदन दायर करना होता है। ऐसे पासपोर्ट धारक विदेशी दौरों के दौरान कई लाभों के स्वामी भी बन जाते हैं। इसके अलावा, उन्हें विदेश में उड़ान भरने के लिए वीज़ा की ज़रूरत नहीं होती है और महरून पासपोर्ट धारक नियमित लोगों की तुलना में आव्रजन संबंधी औपचारिकताओं को बहुत तेज़ी से दूर करने में सक्षम रहते हैं।
4) नारंगी पासपोर्ट :- हाल ही में भारत सरकार ने बहुमत के एक वर्ग के लिए नारंगी पासपोर्ट पेश करने के अपने निर्णय की घोषणा की है। इसका मतलब ऐसे व्यक्ति की पहचान करना है जिसने कक्षा 10 से आगे की पढ़ाई नहीं की है। नियमित पासपोर्ट के विपरीत, नारंगी पासपोर्ट में अंतिम पृष्ठ नहीं होता है, जिसमें धारक के पिता का नाम, स्थायी पता और अन्य महत्वपूर्ण विवरणों का उल्लेख होता है। जो लोग शैक्षिक रूप से योग्य नहीं हैं वे ईसीआर (ECR - आव्रजन जांच आवश्यक) श्रेणी के अंतर्गत आते हैं। इसका मतलब यह है कि हर बार जब इस श्रेणी का कोई व्यक्ति विदेश जाना चाहता है, तो उसे आव्रजन अधिकारियों द्वारा निर्धारित मानदंडों को पूरा करने की आवश्यकता होगी।

वहीं हेनले पासपोर्ट सूचकांक (Henley Passport Index) के अनुसार, दूसरी बार, जापान ने 2019 में दुनिया के सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट के रूप में अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा। 190 देशों में पासपोर्ट के दस्तावेज़ की पहुंच के कारण जापान दुनिया का सबसे अधिक यात्रा-अनुकूल देश बन गया है। 2019 में, 27 देश सूचकांक में शीर्ष 10 के स्थान पर थे, जिनमें से 20 देश यूरोप में और तीन एशिया में स्थित थे।

साथ ही 2009 के बाद से दक्षिण कोरिया ने इस श्रेणी में 10 स्थानों की बढ़ोतरी की और अब दूसरे स्थान पर है। वहीं फ्रांस और जर्मनी के पासपोर्ट ने दुनिया भर के 188 देशों तक पहुंच के साथ श्रेणी में तीसरे अंक तक पहुँच हासिल की। भारत ने वर्ष 2018 में 81वें स्थान से दो स्थान आगे आकर 79वें स्थान पर पहुंच बनाई। देश ने आर्मेनिया, बेनिन और मंगोलिया के साथ इस पद को साझा किया। अफगानिस्तान, पाकिस्तान और नेपाल क्रमशः 104, 102 और 94वें स्थान पर रहे।

संदर्भ:
1.
https://en.wikipedia.org/wiki/Indian_passport
2. https://bit.ly/2S0T3l4
3. https://bit.ly/2Puydc7
4. https://archive.india.gov.in/overseas/passport/passport.php



RECENT POST

  • बडे धूम-धाम से मनाया जाता है पैगंबर मोहम्मद का जन्मदिन ‘ईद उल मिलाद’
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     27-10-2020 04:30 PM


  • कोरोना का नए शहरवाद पर प्रभाव
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     27-10-2020 01:10 AM


  • भारत में क्यों पूजे जाते हैं रावण?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     26-10-2020 10:30 AM


  • मंगोलिया के पारंपरिक राष्ट्रीय पेय के रूप में प्रसिद्ध है एयरैग
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     25-10-2020 05:56 AM


  • तांडव और लास्य से प्राप्त सभी शास्त्रीय नृत्य
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     24-10-2020 01:59 AM


  • हिंदू देवी-देवताओं की सापेक्षिक सर्वोच्चता के संदर्भ में है विविध दृष्टिकोण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     22-10-2020 08:11 PM


  • पश्चिमी हवाओं का उत्‍तर भारत में योगदान
    जलवायु व ऋतु

     22-10-2020 12:11 AM


  • प्राचीनकाल से जन-जन का आत्म कल्याण कर रहा है, मां मंशा देवी मंदिर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-10-2020 09:32 AM


  • भारतीय खानपान का अभिन्‍न अंग चीनी भोजन
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     20-10-2020 08:52 AM


  • नवरात्रि के विविध रूप
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-10-2020 08:54 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id