Machine Translator

विलुप्त होने की स्थिति में है दुर्लभ समुद्री रेशम

मेरठ

 09-12-2019 12:55 PM
स्पर्शः रचना व कपड़े

सदियों से लोगों के दिलों पर राज करने वाला रेशम पहनने वाले के व्यक्तित्व में चार चांद लगा देता है। ऐसे ही रेशम कई प्रकार के होते हैं, जिनमें से एक है समुद्री रेशम जो अत्यंत महीन, दुर्लभ और मूल्यवान कपड़ा है और लंबे रेशमी रेशा या सूत्रगुच्छ से बना होता है जिसे पेन शेल (pen shell) द्वारा अपने पैर में एक ग्रंथि द्वारा स्रावित किया जाता है। समुद्री रेशम का उत्पादन 20 वीं शताब्दी की शुरुआत तक बड़े समुद्री द्विकपाटी सीप (पिना नोबिलिस (Pinna nobilis)) से भूमध्यसागरीय क्षेत्र में हुआ था।

सीप कभी-कभी लगभग एक मीटर लंबा होता है, जो बहुत मजबूत पतले रेशे के गुच्छे के साथ चट्टानों से चिपक जाता है। इन रेशे या सूत्रगुच्छ (जो 6 सेमी तक लंबे हो सकते हैं) को काटा जाता है और नींबू के रस के साथ इसे सुनहरे रंग में बदल दिया जाता है, जो कभी फीका नहीं पड़ता है। इन रेशों से उत्पन्न होने वाला कपड़ा, रेशम के कपड़े की तुलना में अधिक महीन बुना जाता है और वह अत्यंत हल्का और गर्म होता है। यह कहा जाता था कि इन रेशों से एक महिला के लिए बनाए गए एक जोड़ी दस्ताने और मोजे अखरोट के आधे खोल और एक छोटे से डिब्बे में रखे जा सकते थे।

समुद्री रेशम के इतिहास की बात की जाएं तो पूर्वी हान राजवंश की शुरुआत में, चीनी इतिहास दस्तावेज में समुद्री रेशम के आयात का जिक्र पाया गया है। जेसन और अर्गोनॉट द्वारा मंगई गई स्वर्ण ऊन की प्रकृति की व्याख्या के रूप में समुद्री रेशम का सुझाव दिया गया था, लेकिन विद्वानों ने इस परिकल्पना को अस्वीकार कर दिया गया था। वहीं अंग्रेजी नाम “सी सिल्क (sea silk)” का शुरुआती उपयोग अनिश्चित बना हुआ है, लेकिन ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी ने समुद्र-रेशमकीट को "जीनस पिन्ना के एक द्विकपाटी सीप" के रूप में परिभाषित किया है।

वहीं वर्तमान समय में पिन्ना नोबिलिस के विलुप्त होने का खतरा काफी ज्यादा बन गया है, आंशिक रूप से पिन्न नोबिलिस को अत्यादिक रूप से पकड़ने, समुद्री घास के मैदानों में गिरावट, और प्रदूषण के कारण से। जैसा कि इनकी आबादी में एकदम से गिरावट आई है, इससे आखिरी समुद्री रेशम का उद्योग भी लगभग बंद हो गया है, और कला अब केवल सार्डिनिया के पास सेंट एंथिओको द्वीप पर मौजूद एक महिला (चियारा विगो) के पास ही संरक्षित रह गई है।
चियारा विगो अपने परिवार की 24 पीढ़ियों के बाद अब इस रहस्यों की रखवाली करती आ रही है। वर्तमान समय में, वह पृथ्वी पर एकमात्र व्यक्ति है जो समुद्र-रेशम की कटाई, सुखाने और कशीदाकारी के बारे में जानती है। वीगो के परिवार कि महिलाओं द्वारा यह परंपरा 1000 से अधिक वर्षों से जीवित रखी गई है। वहीं विगो का मानना है कि उनकी स्केलपेल (scalpel) विधि, जिसमें वे क्लैम (clams) के बाल को काटती हैं, जिससे क्लैम को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है।

संदर्भ :-
1.
https://bit.ly/2sa3zLE
2. https://bit.ly/35Hyr4T
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Sea_silk



RECENT POST

  • भारत के अलावा इंडोनेशिया में भी मनाया जाता है, सरस्वती पूजनोत्सव
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     29-01-2020 12:30 PM


  • क्या 21वीं सदी का शहरीकरण है नियंत्रण से बाहर?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     28-01-2020 12:00 AM


  • आयुर्वेद में भी मिलता है गम्हड़ के गुणों का वर्णन
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     27-01-2020 10:00 AM


  • कहाँ से आया है, रिपब्लिक (Republic, गणतंत्र) शब्द और क्या है इसका अर्थ?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     26-01-2020 10:00 AM


  • जीवन के हर पहलू से जुड़ा है पाई
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     25-01-2020 10:00 AM


  • मानव जीवन में एर्गोनॉमिक्स (Ergonomics) का महत्व
    घर- आन्तरिक साज सज्जा, कुर्सियाँ तथा दरियाँ

     24-01-2020 10:00 AM


  • कैसा है, समुद्र की गहराइयों में रहने वाले जीवों का जीवन?
    निवास स्थान

     23-01-2020 10:00 AM


  • वर्णक के रूप में उपयोग किया जाता है गेरू
    खनिज

     22-01-2020 10:00 AM


  • आलमगीरपुर गाँव से मिले सिंधु सभ्यता से जुड़े साक्ष्य
    सभ्यताः 10000 ईसापूर्व से 2000 ईसापूर्व

     21-01-2020 10:00 AM


  • हमारे देश के मौन रक्षकों के लिए खुला है, मेरठ में पुनर्वास केंद्र
    स्तनधारी

     20-01-2020 10:00 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.