गंध और शहरीकरण के बीच संबंध

मेरठ

 20-09-2019 12:14 PM
गंध- ख़ुशबू व इत्र

जब कभी आप किसी दूसरी जगह से अपने घर वापस आते हैं तो कार (Car), बस (Bus), या रेल से बाहर कदम रखते ही आपको अपने घर की खुशबू महसूस होने लगती है। लेकिन ऐसा क्यों होता होगा? क्या कभी सोचा है कि किसी अन्य को आप इस गंध के बारे में कैसे बता पाएंगे जिन्हें इसका कभी कोई अनुभव ही नहीं हुआ है। केट मैकलीन (अंग्रेज़ी कलाकार) पिछले सात वर्षों से अपनी संवेदनात्मक मानचित्र परियोजना के साथ इन और अन्य सवालों के जवाब देने की कोशिश कर रही हैं। 2010 में, उन्होंने संवेदनात्मक इनपुट (Input) के आधार पर परिदृश्य का नक्शा खीचने के तरीकों की तलाश शुरू की। इनमें से पहला मानचित्र गंध से संबंधित था।

स्मेलमैप्स (Smellmaps) उन शहरों की खोज करने के नए तरीकों में रुचि रखने वाले लोगों के लिए बनाया गया है जिसके वे मूल निवासी हैं और जिसमें वे आते-जाते रहते हैं। एक स्मेलमैप रंगीन धब्बों और गाढ़ी रेखाओं से बना होता है, जो आकाशगंगाओं की तरह दिखाई देते हैं। वहीं स्मेलस्केप्स (Smellscapes) घ्राण परिदृश्य की समग्रता, दोनों प्रासंगिक (सामने वाले या सीमित समय) और अनैच्छिक गंध को समायोजित करता है।

विक्टोरिया हेन्शॉ का शहरी स्मेलस्केप्स पर तर्क है कि गंध और समाज के बीच संबंध बदल गया है। अतीत में, शहरों और परिदृश्यों को मुख्य रूप से आधुनिक दृष्टि से समझा और आकार दिया जाता था। जहाँ ऑडियो-विज़न (Audio-vision) की प्रधानता शहरी डिज़ाइन (Design) और नियोजन में वास्तुकारों की प्रथाओं को निर्धारित करती है। वहीं आधुनिक समय में, गंध की भावना अधिक प्रासंगिक हो जाती है। इसलिए भावना के अनुसार शहरों को डिज़ाइन करने के लिए गंध को केंद्रित किया जा सकता है।

वहीं हेन्शॉ बताती हैं कि महिलाएं गंध का पता लगाने, पहचानने और याद करने में अधिक सक्षम होती हैं; तथा इसमें कमी आना उनकी उम्र के अनुसार और शारीरिक अवस्था और आदतों (जैसे, धूम्रपान) आदि पर निर्भर करता है। हेन्शॉ ने यूके के संदर्भ में बाज़ारों, अंतर्राष्ट्रीय जिलों, वायु संचार और फास्ट फूड (Fast Food) के घटकों के माध्यम से भोजन, गंध और सामाजिक-स्थानिक संरचनाओं के निर्माण के बीच संबंधों की व्याख्या की है। उनका शोध विशेष खाद्य या पेय (ब्रेड/Bread और कॉफी/Coffee) की पसंदीदा महक और कम पसंदीदा (मांस और फास्ट-फूड की वसा) महक की पदानुक्रम को उजागर करता है।

गंध सबसे शक्तिशाली और महत्वपूर्ण इंद्रियों में से एक है। जब हम पैदा होते हैं तो यह सबसे पहले सक्रिय होता है और यह सूक्ष्म और गहन तरीके से हर दिन हमारी चेतना में निस्पंदन करता है जो निर्णय, इच्छाओं और सपनों को प्रभावित करता है।

संदर्भ:
1.
https://theconversation.com/scents-sensibility-and-the-smell-of-a-city-71271
2. https://www.tandfonline.com/doi/full/10.1080/2325548X.2014.919152
3. https://www.atlasobscura.com/articles/art-mapping-smell-smellscapes-kate-mclean

RECENT POST

  • राखी या स्‍नेह के धागे से  स्‍वेच्‍छा से अटूट बंधन में जुड़े वास्तविक व काल्‍पनिक रिश्‍तेदार
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     11-08-2022 10:17 AM


  • भारतीय और विश्व साहित्य का अत्यधिक विकसित रूप है, कन्नड़ साहित्य
    ध्वनि 2- भाषायें

     10-08-2022 10:06 AM


  • हुसैनी ब्राह्मण: वे हिंदू जिनका इमाम हुसैन, कर्बला और मुहर्रम के साथ है स्थायी संबंध
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • कपड़ों पर बढ़ते हुए जीएसटी के साथ भारतीय पारंपरिक हथकरघा उद्योग के लिए अन्य चुनातियाँ
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:51 AM


  • अमेज़ॅन वर्षा वन में हुए भारी परिवर्तन को दिखाती है, अंतरिक्ष से ली गई तस्वीरें
    जंगल

     07-08-2022 12:12 PM


  • भारतीय गणितीय पांडुलिपियां जो आधुनिक समस्याओं के निराकरण में भी हैं सहायक
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:23 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस विशेष: एकीकृत यातायात प्रबंधन प्रणाली से मेरठ में ट्रैफिक समस्‍या होगी दूर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:21 AM


  • सरधना के अफगान नवाब एवं वंशज,जिन्होंने अंग्रेज़ों का साथ दिया और बाद में सूफीवाद अपनाया
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:23 PM


  • भारतीय पौराणिक कथाओं और इतिहास में विशेष महत्व रखता है विंध्यपर्वत
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:09 PM


  • गुरुकुलों की पेड़ों की छांव से लेकर स्कूलों के बंद कमरों तक भारतीय शिक्षा प्रणाली का सफर
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     02-08-2022 09:01 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id