क्यों महत्त्वपूर्ण है नाम संकीर्तन योग

मेरठ

 31-07-2019 01:48 PM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

मनीं इश्वराचे चरण । सर्वभावें त्यास शरण ।
योजे ऐसे अंत:करण । योग म्हणावे त्याला ।।

‘मन में ईश्वर के चरण हों, सब प्रकार से चित्त उन्हीं के शरण हो, ऐसा अंत:करण हो, इसी का नाम योग है।‘ योगाभ्यास की जो आवश्यकता होती है, वह मनोनाश करके चित्त को ऐसा बना लेने के लिए होती है। जिस योग के अभ्यास से यह काम बनता है, उसे राजयोग कहते हैं। राजयोग जिस क्रम से प्राप्त होता है उसमें तीन ‘क्रम-भूमिकाएं हैं, जिन्हें हठ, लय और मंत्र योग कहते हैं। इस क्रम से चित्त चिन्मय तो हो जात है, पर इसमें केवल व्यतिरेक्ज्ञान रहता है अर्थात उससे जीवन्मुक्त अवस्था नहीं प्राप्त होती। जीवन्मुक्त होने के लिए अन्व्यज्ञान आवश्यक होता है।

शब्दज्ञाने पारंगत। जो ब्रह्मानन्दे सदा डूल्लत।
शिष्य प्रबोधनीं समर्थ। तो मूर्तिमंत स्वरुप माझें।।

अर्थात श्रीगुरु, जो शब्द ज्ञान में पारंगत है और ब्रह्मानंद में सदा झूमते रहते हैं और जो शिष्य को प्रबुद्ध करने में सक्षम होते हैं, वह भगवान के ही मूर्तिमान रूप हैं। ऐसे गुरु की शरण में जाकर ज्ञान प्राप्त करना होता है। ग्रिन्थों के अध्ययन से केवल रूचि होती है। यथार्थ ज्ञान श्रोत्रिय ब्रह्मनिष्ठ सद्गुरु से ही प्राप्त होता है। यौग्धर्म के अनुशार कलयुग में ‘नाम संकीर्तन ही मख्य साधन है। हरी कीर्तन से ब्रहमा, विष्णु और रूद्र तीनों ही ग्रंथियों का भेदन होकर आत्मस्वरूप बोध होता है। महर्षि वेदव्यास ने महाभारत, वेदाब्त-सूत्र और अष्ठाद्श पुराण रचे, पर उन्हें उनसे शांति नही प्राप्त हुई। भाग्वान्नाम्कीर्तन वीणाधारी श्री नारद से उन्होंने शांति का मार्ग पुछा। तब देवरिषि नारद ने भक्ति के सूत्र बताये और ऐसा ग्रन्थ रचने को कहा जिसमे श्रीहरी का कीर्तन हो। तब वेदव्यास ने श्रीमद्भागवत लिखा।

कीर्तन से काया ब्रह्म्भूत होती है और महाभाग्य का उदय होता है। इसीलिए संकीर्तन योग अन्य सभी योगों से विलक्षण है।

सन्दर्भ:-
1. जालन, घनश्यामदास 1882 कल्याण योगांक गोरखपुर,यु.पी.,भारत गीता प्रेस



RECENT POST

  • सदियों से फैशन के बदलते रूप को प्रदर्शित करती हैं, फ़यूम मम्मी पोर्ट्रेट्स
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     28-11-2020 07:10 PM


  • वृक्ष लगाने की एक अद्भुत जापानी कला बोन्साई (Bonsai)
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     28-11-2020 09:03 AM


  • गंध महसूस करने की शक्ति में शहरीकरण का प्रभाव
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     27-11-2020 08:34 AM


  • विशिष्ट विषयों और प्रतीकों पर आधारित है, जैन कला
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     26-11-2020 09:05 AM


  • सेना में बैंड की शुरूआत और इसका विस्‍तार
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     25-11-2020 10:26 AM


  • अंतिम ‘वस्तुओं’ के अध्ययन से सम्बंधित है, ईसाई एस्केटोलॉजी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     24-11-2020 08:13 AM


  • क्वांटम कंप्यूटिंग को रेखांकित करते हैं, क्वांटम यांत्रिकी के सिद्धांत
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     22-11-2020 10:22 AM


  • धार्मिक महत्व के साथ-साथ ऐतिहासिक महत्व से भी जुड़ा है, श्री औघड़नाथ शिव मन्दिर
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-11-2020 08:16 PM


  • हिन्‍दू-मुस्लिम की एकता का प्रतीक हज़रत शाहपीर की दरगाह
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     21-11-2020 06:25 AM


  • व्यवसायों और उद्यमशीलता को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करते हैं, प्रवासी नागरिक
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     20-11-2020 09:33 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id