Machine Translator

विलुप्त होने की कगार पर है मेरठ का यह शर्मीला पक्षी

मेरठ

 15-05-2019 11:00 AM
पंछीयाँ

खरमोर या साइफिओटाइड्स इंडिकस (Sypheotides indicus) एक बड़े आकार का लम्बी टाँगों वाला भारतीय पक्षी है। इसे 'लीख या लिख' भी कहते हैं। सौभाग्य से ये मेरठ जिले में भी दिखाई दे जाता है। वर्षा ऋतु में कई वर्षों से यह पक्षी यहाँ आता रहा हैं, पर कुछ वर्षों से इसके दर्शन दुर्लभ होते जा रहे हैं। धीरे-धीरे यह पक्षी विलुप्ती की कगार पर पहुंच गया है।

एविबेस (Avibase) वेबसाइट (Website) के अनुसार वर्तमान में मेरठ जिले में लगभग 383 पक्षियों की प्रजातियां पाई जाती हैं, जिसमें से 30 प्रजातियां विश्व स्तर पर संकटग्रस्त प्रजातियों की सूची में शामिल हैं। इनमें से कुछ के नाम निम्न हैं:

अंग्रेजी में खरमोर को लेस्सर फ्लोरेकिन (Lesser florican) के नाम से जाना जाता है, यह काफी शर्मीला सा पक्षी होता है। नर और मादा बहुत कुछ एक से ही होते हैं। इसके सिर, गर्दन और नीचे का भाग काला और ऊपरी हिस्सा हलका सफेद रहता है। इसके सिर पर मोर की तरह कलगी होती है तथा पीठ पर सफेद रंग में V आकार का निशान होता है। नर खरमोर का रंग काला और पंख सफेद होते हैं। मादा नर से थोड़ी बड़ी होती है। इसका रंग भूरा हेाता है और यह आसानी से दिखाई नहीं देती है। वर्षा ऋतु में यह 3-4 अंडे देती है। इनका प्रजनन का मौसम दक्षिण पश्चिमी मानसून की शुरुआत के साथ उत्तर भारत में सितंबर से अक्टूबर और दक्षिणी भारत के कुछ हिस्सों में अप्रैल से मई तक होता है। इसका मुख्य भोजन घासपात, जंगली फल, पौधों की जड़ें, कीड़े मकोड़े, छिपकली, मेंढक टिड्डे और चींटियां हैं। इस पक्षी को झाड़ियों से भरे मैदान बहुत पसंद हैं, कभी-कभी इन्हें खेतों में भी देखा जा सकता है।

अन्य क्षेत्रीय नाम:
हिन्दी : लीख या लिख, छोटा चरत
गुजराती : खर मोर
मध्य प्रदेश : खर तीतर, भटकुकड़ी, भटतीतर
महाराष्ट्र : तन्नेर
पश्चिम बंगाल : छोटा डाहर, लिख
तमिलनाडु : वारागु कोझि
आन्ध्र प्रदेश : नेला नेमाली
केरल : चट्टा कोझि
कर्नाटक : चट्टा कोझि , कन्नौल
सिन्ध : खरमूर

विलुप्ति का संकट
कुछ वर्षों पहले तक खरमोर पूरे भारत में हिमालय से लेकर दक्षिण तट तक फैले हुए थे, परंतु अब धीरे-धीरे इनकी संख्या कम होने लगी है। वन्यजीव संस्थान (डब्ल्यूआईआई- देहरादून) के द्वारा, बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी (Bombay Natural History Society -BHNS), कॉर्बेट फाउंडेशन (Corbett Foundation) और मध्य प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र तथा राजस्थान के वन विभागों के साथ मिलकर जुलाई-सितंबर 2017 के बीच लुप्तप्राय प्रजातियों के लिये किए गए सर्वेक्षण की रिपोर्ट प्रस्तुत की गई थी जिसके अनुसार वर्तमान में भारत में खरमोर लगभग 264 ही बचे हुए हैं जबकि 2000 में इनकी संख्या 3,500 से भी नीचे थी। जिसका अर्थ है कि 2000 के बाद से उनकी आबादी में 80% गिरावट आई है।

ऊपर दिए गये चित्र में भारतीय डाक चित्र दिखाई गयी हैं जिन पर खरमोर का चित्र जारी किया गया था ।

खरमोर भारत की चार बस्टर्ड (Bustard) प्रजातियों में से एक है, इन सभी को अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (IUCN) की संकटग्रस्त जातियों की लाल सूची में रखा गया है जो जैविक प्रजातियों के संरक्षण की स्थिति की दुनिया की सबसे बड़ी सूची है। भले ही सरकार ने वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट (Wildlife Protection Act), 1972 की अनुसूची-1 के तहत इसे सबसे अधिक सुरक्षा प्रदान की हो, लेकिन उनकी संख्या में लगातार गिरावट आ रही है। आज मेरठ क्षेत्र में खरमौर का अस्तित्व संकट में है। शिकार और प्राकृतिकआवास तथा खान-पान की अनुपलब्धता इसके लिए प्रमुख रूप से जिम्मेदार है। यदि इनका पर्यावरण संरक्षण नहीं हुआ तो ये भी गिद्ध की तरह जिले से विलुप्त हो जायेंगे।

संदर्भ:
1. https://avibase.bsc-eoc.org/checklist.jsp?region=INggupme&list=howardmoore
2. https://avibase.bsc-eoc.org/species.jsp?avibaseid=FEA2C3CDFCACEEF2
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Lesser_florican
4. https://bit.ly/2Vk3qyl
5. https://bit.ly/2YtVOLo



RECENT POST

  • फ्रॉक और मैक्सी पोशाक का इतिहास
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     19-06-2019 11:12 AM


  • कश्मीर की कशीदा कढ़ाई जिसने प्रभावित किया रामपुर सहित पूर्ण भारत की कढ़ाई को
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     18-06-2019 11:08 AM


  • क्या मछलियाँ भी सोती हैं?
    मछलियाँ व उभयचर

     17-06-2019 11:11 AM


  • सबका पहला आदर्श - पिता
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     16-06-2019 10:30 AM


  • सफलता के लिये अपनाएं ये सात आध्यात्मिक नियम
    व्यवहारिक

     15-06-2019 10:58 AM


  • भारतीय किसानों पर बढ़ता विदेशी आयातों का संकट समझाती है ये पुस्तक
    ध्वनि 2- भाषायें

     14-06-2019 11:01 AM


  • मेरठ में मौजूद हैं औपनिवेशिक भारत के कुछ पुराने क्लब
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     13-06-2019 10:42 AM


  • 20वीं सदी के कला आंदोलन का भारतीय स्‍वतंत्रता आंदोलन पर प्रभाव
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     12-06-2019 12:01 PM


  • मेरठ की जामा मस्जिद उत्तर भारत की सबसे पहली जामा मस्जिद
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     11-06-2019 11:08 AM


  • प्राकृतिक एयर कंडीशनर बन सकते हैं पेड़ और उनकी बेलें
    पेड़, झाड़ियाँ, बेल व लतायें

     10-06-2019 12:37 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.