Machine Translator

प्रसिद्ध उर्दू लेखक सआदत हसन मंटो के कथा साहित्य में मेरठ का वर्णन

मेरठ

 30-04-2019 07:10 AM
ध्वनि 2- भाषायें

सआदत हसन मंटो की गिनती ऐसे साहित्यकारों में की जाती है जिनकी कलम ने कुछ ऐसी रचनाएँ लिख डालीं जिनकी गहराई को समझने की कोशिश आज भी ये दुनिया कर रही है। मंटो की कहानियों की जितनी चर्चा की जाये वो कम ही होगी। वे उर्दू और हिन्दी भाषा के साहित्यकार थे तथा अपनी लघु कहानियों से वे काफी चर्चित हुए। ब्रिटिश भारत में अविभाजित पंजाब प्रांत के लुधियाना जिले के समराला कस्बे के निकट पपरोड़ी गांव में 11 मई, 1912 को विख्यात कथाकार सआदत हसन मंटो का जन्म हुआ था। वह नैसर्गिक प्रतिभा के धनी, लेकिन स्वतंत्र विचारों वाले लेखक थे। नंदिता दास द्वारा बनाई गई और नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी अभिनीत, एक बॉलीवुड फिल्म है मंटो (2018 फ़िल्म), जो मंटो के जीवन पर आधारित है।

इनके एक उपन्यास ‘मेरठ की कैंची’ में मेरठ का एक जीवंत रूप दिखाई देता है। यह उपन्यास मंटो की 10 कहानियों का संग्रह है, जिसमें मेरठ शहर धड़कता दिखाई देता है। इस उपन्यास में मेरठ की परंपराओं, मान्यताओं और रीति रिवाज का जिक्र भी देखने को मिलता है।

मंटो फिल्मी शख्सियतों पर बड़ी ही निर्भीकता से लेख लिख देते थे, उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ी कई महिलाओं पर भी संस्मरण लिखे थे, जिसमें से कुछ के बारे में हम आज भी अंजान हैं। ऐसी ही एक महिला थी ‘पारो देवी’ जो कि इनकी प्रमुख कहानी ‘मेरठ की कैंची’ की नायिका भी थीं। पारो देवी हीरोइन (Heroine) बनने की चाह लेकर मेरठ से आईं एक रईस तवायफ थीं। बम्बई आने के बाद जो पहली फिल्म इन्हें मिली उसके लेखक मंटो थे। वह अभिनय में एकदम कच्ची थी परंतु कई लोग उनसे मोहित थे। मंटो पारो के बारे में बताते हुए लिखते है कि वह बहुत हंसमुख और मीठी आवाज वाली तवायफ थी। मेरठ उसका वतन था, जहां वे शहर के करीब-करीब हर रंगीन मिजाज रईस की प्रिय थी और उसको ये लोग मेरठ की कैंची कहते थे। पारो आम तवायफों जैसी नहीं थी। वो महफिलों में बैठकर बड़े सलीके से बातें कर सकती थी। इसकी वजह यही हो सकती है कि मेरठ में उसके यहां आने-जाने वाले लोग समाज के उच्च तबके से सम्बन्ध रखते थे।

ऊपर दिए गये चित्र के पार्श्व में मेरठ का घंटाघर और केंद्र में सआदत हसन मंटो की कृतियाँ दिखाई गयी हैं।

सआदत हसन मंटो के अलावा हिंदी के प्रमुख साहित्यकार अमृतलाल नागर के उपन्यास 'सात घूंघट वाला मुखड़ा' में, कालजयी उपन्यासकार आचार्य चतुरसेन शास्त्री के उपन्यास 'सोना और खून' के दूसरे भाग में, डॉ. सुधाकर आशावादी के उपन्यास 'काला चांद' में तथा गिरिराज किशोर के उपन्यास 'लोग' और 'जुगलबंदी' में भी मेरठ का वर्णन देखने को मिलता है।

संदर्भ:
1. http://ashokvichar.blogspot.com/2010/02/blog-post.html
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Saadat_Hasan_Manto
3. https://satyagrah.scroll.in/article/116124/work-of-manto-as-a-film-journalist



RECENT POST

  • गंध और शहरीकरण के बीच संबंध
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     20-09-2019 12:14 PM


  • भारतीय खेल पच्चीसी और चौपड़ का इतिहास एवं नियम
    हथियार व खिलौने

     19-09-2019 11:59 AM


  • भारतीय स्वास्थ्य सेवा द्वारा एंटीबायोटिक प्रतिरोध से लड़ने की पहल
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     18-09-2019 11:08 AM


  • क्या सम्बन्ध है आगरा की शान, पेठा और ताजमहल में
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     17-09-2019 11:09 AM


  • क्या हैं अनुवांशिक बीमारियां और उनके कारण?
    डीएनए

     16-09-2019 01:35 PM


  • आखिर कौन हैं भारत के मेट्रोमेन (Metroman)
    आधुनिक राज्य: 1947 से अब तक

     15-09-2019 02:27 PM


  • यमुना नहर से है आई.आई.टी. रुड़की का गहरा संबंध
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-09-2019 10:30 AM


  • मेरठ शहर और इसमें फव्वारों का इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     13-09-2019 01:42 PM


  • क्या हैं मछलियों की आबादी में आ रही गिरावट के प्रमुख कारण
    मछलियाँ व उभयचर

     12-09-2019 10:30 AM


  • कैसे ली वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में मौजूद ब्लैक होल की फोटो?
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     11-09-2019 12:11 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.