रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण

मेरठ

 13-04-2019 07:30 AM
विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

प्रभु श्रीराम के प्रभावशाली चरित्र पर कई भाषाओं में ग्रंथ लिखे गए हैं। लेकिन मुख्यतः दो ग्रंथ ही प्रमुख माने जाते हैं। जिनमें पहला ग्रंथ महर्षि वाल्मीकि द्वारा संस्कृत में लिखी गई 'रामायण' है, और दूसरा ग्रंथ गोस्वामी तुलसीदास द्वारा आम आदमी के लिए अवधी में अनुवादित श्री रामचरित मानस है। वाल्मीकि जी की रामायण श्‍लोक बद्ध है जबकि तुलसी जी की रामचरितमानस दोहों में लिखी गयी है, वास्‍तव में श्‍लोक शब्‍द की उत्‍पत्ति ‘शोक’ शब्‍द से हुयी है। वह शोक जो क्रोञ्च पक्षी के वध के समय वाल्मीकि जी के हृदय से निकला था जिसे इन्‍होंने श्‍लोक में अभिव्‍यक्‍त किया:

मा निषाद प्रतिष्ठां त्वमगमः शाश्वतीः समाः ।
यत्क्रौंचमिथुनादेकमवधी काममोहितम् ।।

संपूर्ण रामायण या रामचरितमानस को सात अध्‍यायों या सात काण्‍डों में वर्गीकृत किया गया है। जिनमें श्री राम जी के संपूर्ण जीवनकाल को क्रमबद्ध रूप में वर्णित किया गया है।
बालकांड – श्रीराम का बचपन
अयोध्या कांड - वनवास से पूर्व अयोध्या में श्रीराम जी का जीवन।
अरण्य कांड - वन में श्रीराम जी का जीवनकाल और रावण द्वारा सीता माता का अपहरण।
किष्किंधा कांड – श्री राम जी का अपने मित्र सुग्रीव की राजधानी किष्किंधा में निवास।
युद्ध कांड या लंका कांड - रावण के साथ राम का युद्ध, सीता की प्राप्ति और अयोध्या में उनकी वापसी।
उत्तर कांड - अयोध्या में राजा के रूप में राम का जीवन, उनके दो बेटों का जन्म, सीता माँ की निर्दोषिता की परीक्षा और राम का निधन। यह कांड रामायण की कहानी को पूरा करता है।

रामायण के अनुसार राजा दशरथ ने पुत्र प्राप्ति के लिए पुत्रकामेष्टी यज्ञ करवाया था। इस यज्ञ के अंत में दशरथ को खीर का एक कटोरा दिया गया था, जिसे उनकी पत्नियों के मध्‍य बांटा गया। परिणामस्‍वरूप श्री राम और उनके भाईयों का जन्म हुआ। राम भगवान विष्णु के दशावतारों में से सातवें अवतार थे। सीता माता को देवी लक्ष्मी का अवतार माना जाता है। वहीं लक्ष्मण शेषनाग या आदि शेष के अवतार माने जाते हैं। बचपन में, राम और लक्ष्मण ने विश्वामित्र की मारीच और सुबाहु का वध करने में मदद की थी। ऐसा कहा जाता है कि वनवास के दौरान लक्ष्‍मण जी सोए नहीं थे। इसलिए इन्‍हें गुडाकेश के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है, नींद को हराने वाला। लक्ष्‍मण जी ने रावण के तीन पुत्र (प्रहस्‍थ,अतिकाय और मेघनाद) का वध किया था।

रामायण और रामचरितमानस के मध्य तुलना
• तुलसीदास द्वारा रचित श्री रामचरितमानस के अनुसार, सीता के स्वयंवर में भगवान राम ने भगवान शिव का धनुष उठाया था। जबकि वाल्मीकि जी की रामायण में सीता माता के स्वयंवर का कोई उल्लेख नहीं है।
• श्री रामचरितमानस के अनुसार, सीता के स्वयंवर के दौरान, भगवान परशुराम वहां आए थे, लेकिन वाल्मीकि जी के अनुसार, जब भगवान राम सीता माता से विवाह करने के बाद अयोध्या लौट रहे थे, तब परशुराम का आगमन हुआ था।
• हिंदू धर्म में तैंतीस करोड़ देवी-देवताओं का उल्लेख किया जाता है, जबकि रामायण में केवल तैंतीस देवताओं का उल्लेख है।
• सीताहरण के दौरान, जटायु नामक एक गिद्ध ने रावण द्वारा सीता के अपहरण को रोकने का बहुत प्रयास किया था। जबकि वाल्मीकि की रामायण के अनुसार, वह जटायु के पिता अरुण थे जिन्होंने सीता के अपहरण को रोकने की कोशिश की थी।
• वाल्मीकि जी ने लक्ष्मणरेखा वाली घटना का उल्लेख नहीं किया है। जबकि रामचरित मानस में लंकाकांड के दौरान मंदोदरी द्वारा इसका उल्‍लेख किया गया है।

संदर्भ:
1. http://ritsin.com/51-facts-the-ramayana-indian-mythology.html/
2. https://bit.ly/2GhRRU2
3. http://ritsin.com/51-facts-the-ramayana-indian-mythology.html/
4. https://bit.ly/2X6xmix



RECENT POST

  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM


  • शहीद-ए-आज़म उद्धम सिंह का बदला
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:00 AM


  • टेप का संक्षिप्‍त इतिहास
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     11-04-2019 07:05 AM


  • क्या तारेक्ष और ग्लोब एक समान हैं?
    पंछीयाँ

     10-04-2019 07:00 AM


  • क्या भारत में भी राजनेताओ के कार्य सत्र सीमित होना चाहिए ?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-04-2019 07:00 AM