कैसे मनुष्य की जरूरतें बनती जा रही है समाज के लिए खतरा

मेरठ

 10-03-2019 11:50 AM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

मनुष्य जिस तरह से जी रहा है और अपनी ज़रूरतें पूरी कर रहा है, वह प्रकृति के प्रति जबरदस्त विनाशकारी साबित हो रहाहै। जिस तरह से हम अपना भोजन पाते हैं, जिस तरह से हम अपने कपड़े बनाते हैं, जिस तरह से हम अपने उपकरणों को बनाते हैं और उनका उपयोग करते हैं - लगभग सब कुछ जो हम कर रहे हैं वह पृथ्वी नामक जीव के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। हम भूमि, समुद्र, हवा, जानवरों, पेड़ों और हर उस चीज को नष्ट कर रहे हैं जिसमें वास्तव में जीवन है। हम सचमुच प्रकृति को विषाक्त कर रहे हैं। आइए इस वीडियो के माध्यम से समझते है कि मनुष्य कैसे इस खूबसूरत संसार को नुक्सान पहुंचा रहा है।

संदर्भ:

1. https://www.youtube.com/watch?v=WfGMYdalClU
2. वीडियो के निर्माता - स्टीव कट्स (Steve Cutts)


RECENT POST

  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM


  • शहीद-ए-आज़म उद्धम सिंह का बदला
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:00 AM


  • टेप का संक्षिप्‍त इतिहास
    वास्तुकला 2 कार्यालय व कार्यप्रणाली

     11-04-2019 07:05 AM


  • क्या तारेक्ष और ग्लोब एक समान हैं?
    पंछीयाँ

     10-04-2019 07:00 AM


  • क्या भारत में भी राजनेताओ के कार्य सत्र सीमित होना चाहिए ?
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     09-04-2019 07:00 AM