वसंत के फूलों से एलर्जी का खतरा

मेरठ

 01-03-2019 11:16 AM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

कुछ लोग वसंत के मौसम में खुबसूरत फूलों के खिलने की उम्मीद करते हैं। जबकि दूसरों के लिए यह समय पराग एलर्जी के कारण अत्यधिक असुविधा वाला होता है। पराग एलर्जी से लोगों की नाक में खुजली होती है, आँख से पानी गिरता है और छींके आती हैं। पराग से होने वाली इस मौसमी एलर्जी को हे फीवर (Hay fever) या परागज ज्वर भी कहते है। यदि आपको बाहर जाने से या पराग के संपर्क में आने से लगातार छींकें, आँख और नाक से पानी बहना, नाक बंद होना आदि लक्षणों का सामना करना पड़ता है तो आपको परागज ज्वर की शिकायत हो सकती है।

कारण:
असल में पराग एक बारीक पाउडर के समान पदार्थ होता है जो आम तौर पर पीले रंग का होता है। ये पराग एक फूल के नर भाग से या एक नर शंकु से मुक्त होते है। इसके प्रत्येक कण में एक नर युग्मक होता है जो मादा के बीजांड को निषेचित कर सकता है। ये पराग कण हवा, कीड़े या अन्य जानवरों के माध्यम से नर पुष्प से मादा पुष्प तक पहुंचते है और जिन लोगों को इनसे एलर्जी होती है वे इसके संपर्क में आते ही छींकने लगते हैं। 2.5 करोड़ से अधिक अमेरिकियों को पराग से एलर्जी है। दुनिया में कई लोगों को पराग से एलर्जी होती है, जो वसंत के समय में हवा में अधिक मात्रा फैले होते हैं।

ये एलर्जी सिर्फ पेड़ पौधों के पराग से ही नहीं होती है बल्कि कई लोगों को घास के पराग से भी एलर्जी होती है। वसंत और शुरुआती गर्मियों में घास के पराग हवा में मौजूद रहते है। आपका शरीर इनकी कम मात्रा से भी प्रतिक्रिया कर सकता है।

लक्षण:
यदि आप पराग एलर्जी से ग्रसित है और बाहर जाने से आप इन पराण कणों के संपर्क में आते है तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली इससे वापस लड़ने के लिए विशिष्ट एंटीबॉडी (जिन्हें इम्युनोग्लोबुलिन कहा जाता है) बनाती है, जो आपकी आंखों, नाक, फेफड़े और त्वचा की कोशिकाओं में मौजूद होती हैं। इससे रक्त में हिस्टामाइन (Histamine) नामक रसायन निकलता है और जब ऐसा होता है, तो निम्न लक्षण दिखते है:
• गले में खरास
• आँखों से पानी निकलना, लाल होना, खुजली होना
• लगातार नाक बहना और छींक आना
• घरघराहट या खांसी
• नाक में दर्द या जुखाम
• सरदर्द
• बुखार आना

यदि आपको घास के पराग से एलर्जी है तो कुछ फलों और सब्जियों (जिनमें वो प्रोटीन होता है जो पराग में भी होता है, जैसे: ताजा अजवाइन, खरबूजे, संतरे, और टमाटर आदि) से भी उपरोक्त लक्षणों का एहसास या कोई अन्य एलर्जी जैसे त्वचा पर लाल चकत्ते पड़ना, जलन का एहसास या एनाफिलेक्सिस (enaflexis) भी हो सकता है। परागज ज्वर अस्थमा के संकेत और लक्षणों को बढ़ा सकता है। हालांकि ये परागज ज्वर किसी को भी हो सकता है परंतु बच्चों और बुजुर्गों को इससे अधिक खतरा होता है।

उपचार:
उन पदार्थों के संपर्क में कम से कम आएं जिनसे आपको परागज ज्वर हो सकता है। यदि आपका परागज ज्वर बहुत गंभीर नहीं है, तो ओवर दी काउंटर (Over The Counter) दवाएं लक्षणों को दूर करने के लिए पर्याप्त हो सकती हैं। कुछ एंटीहिस्टामाइन दवाएं आपके शरीर द्वारा बनाये जाने वाले हिस्टामाइन को रोकते हैं। यदि ओवर दी काउंटर दवाएं काम न करे तो आपको डॉक्टर की दवाओं की आवश्यकता हो सकती है। डॉक्टर द्वारा लिखी दवाएं हिस्टामिन के अलावा उन रसायनों को भी रोकती हैं जो एलर्जी को उत्पन्न कर सकते हैं। ये दवाएं कुछ अन्य प्रकार के खरपतवार या घास पराग के कारण उत्पन्न लक्षणों का भी उपचार कर सकती हैं। दवाइयों के अलावा एलर्जी शॉट्स (Allergy shots) भी एक विकल्प है जो आपकी मदद कर सकते हैं। इम्यूनोथेरेपी (immunotherapy) से भी आपको घास की एलर्जी से राहत मिल सकती है।

बचाव के लिये कुछ उपयोगी टिप्स:
• मौसम की जानकारी रखे: हर दिन हवा में समान मात्रा में पराग नहीं होता है। हमेशा स्थानीय मौसम रिपोर्ट की जानकारी लेते रहे। जब मौसम ठंडा, बरसाती, और नम होता है तो पराग की मात्रा वातावरण में कम होती है, परंतु जब यह गर्म, शुष्क और हवादार होता है तो पराग की मात्रा वातावरण में अधिक होती है। इसलिये बाहर जाने से पहले स्थानीय मौसम रिपोर्ट की जानकारी जरूर ले।
• पराग को घर से बाहर रखे: प्रयास करें कि इन दिनों आपकी कार या घर में खिड़कियां बंद रहे। पराग से बचने के लिये अपने एयर कंडीशनर को HEPA फिल्टर के साथ चलाएं। यदि आप बाहर से आ रहे है तो बिस्तर पर जाने से पहले अपने कपड़े धो लें और शॉवर ले साथ ही अपने बालों को धोना न भूले।
• अपने आप को सुरक्षित रखें: बाहर जाते समय आंखों की रक्षा के लिए धूप का चश्मा पहनें और अपने बालों को पराग से बचाने के लिए एक टोपी पहनें। फेस मास्क लगा कर ही बाहर जाये और वातावरण में पराग अधिकता होने पर एलर्जी के लक्षणों को नोटिस करने से पहले उन्हें रोकने के लिए अपनी एंटी-एलर्जिक (Anti allergic) दवा लें।

संदर्भ:
1. https://www.webmd.com/allergies/pollen_allergies_overview#1
2. https://www.webmd.com/allergies/grass-pollen-allergy#1
3. https://bit.ly/2TbbzJm
4. https://bit.ly/2EmH6xB

RECENT POST

  • जगन्नाथ रथ यात्रा विशेष: दुनिया के सबसे बड़े रथ उत्सव से जुडी शानदार किवदंतियाँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     01-07-2022 10:22 AM


  • भारत के सबसे बड़े आदिवासी समूहों में से एक, गोंड जनजाति की संस्कृति व् परम्परा, उनके सरल व् गूढ़ रहस्य
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     30-06-2022 08:35 AM


  • सिंथेटिक कोशिकाओं में छिपी हैं, क्रांतिकारी संभावनाएं
    कोशिका के आधार पर

     29-06-2022 09:19 AM


  • मेरठ का 300 साल पुराना शानदार अबू का मकबरा आज बकरियों का तबेला बनकर रह गया है
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     28-06-2022 08:15 AM


  • ब्लास्ट फिशिंग से होता न सिर्फ मछुआरे की जान को जोखिम, बल्कि जल जीवों को भी भारी नुकसान
    मछलियाँ व उभयचर

     27-06-2022 09:25 AM


  • एक पौराणिक जानवर के रूप में प्रसिद्ध थे जिराफ
    शारीरिक

     26-06-2022 10:08 AM


  • अन्य शिकारी जानवरों पर भारी पड़ रही हैं, बाघ केंद्रित संरक्षण नीतियां
    निवास स्थान

     25-06-2022 09:49 AM


  • हम में से कई लोगों को कड़वे व्यंजन पसंद आते हैं, जबकि उनकी कड़वाहट कई लोगों के लिए सहन नहीं होती
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     24-06-2022 09:49 AM


  • भारत में पश्चिमी शास्त्रीय संगीत धीरे-धीरे से ही सही, लेकिन लोकप्रिय हो रहा है
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     23-06-2022 09:30 AM


  • योग शरीर को लचीला ही नहीं बल्कि ताकतवर भी बनाता है
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     22-06-2022 10:23 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id