क्या होते हैं वीगन (Vegan) समाज के आहार?

मेरठ

 15-02-2019 10:24 AM
स्वाद- खाद्य का इतिहास

बचपन से ही हमने सुना है कि दो प्रकार के लोग होते हैं, एक तो शाकाहारी और दूसरे मांसाहारी। लेकिन क्या आप जानते हैं हाल ही में लोकप्रिय हुआ वीगन (शुद्ध शाकाहारी) समाज जानवरों से संबंधित हर चीज का त्याग करते हैं। वे भोजन, कपड़ों या किसी अन्य उद्देश्य के लिए जानवरों के साथ होने वाले सभी प्रकार के शोषण और क्रूरता के खिलाफ हैं और जानवरों से निर्मित सभी चीजों को वर्जित मानते हैं।

वीगन समाज की स्थापना भले ही 70 साल पहले हुई हो लेकिन वीगनवाद की जड़े कई वर्षों पुर्व की हैं। जानवरों के उत्पादों का त्याग करने वाले लोगों के साक्ष्य 2,000 वर्ष पहले में भी पाए जाते हैं। 500 ईसा पूर्व में यूनानी दार्शनिक और गणितज्ञ पाइथागोरस ने सभी प्रजातियों के बीच परोपकार को बढ़ावा देने के लिए शाकाहारी भोजन का वर्णन किया था। लगभग उसी समय गौतम बुद्ध अपने अनुयायियों के साथ शाकाहारी आहार पर चर्चा कर रहे थे।

1806 ईस्वी में नैतिक आधार पर अंडे और दुग्ध उत्पाद पर डॉ विलियम लैम्बे और पर्सी बिशे शेली द्वारा सार्वजनिक रूप से मुद्दा उठाया गया और यहीं से वीगनवाद की शुरुआती अवधारणाओं ने आकार लेना शुरू किया। नवंबर 1944 में, डोनाल्ड वाटसन द्वारा पांच अदुग्ध शाकाहारी आहार और जीवन शैली पर चर्चा करने के लिए एल्सी श्रीगली सहित पांच अन्य अदुग्ध शाकाहारियों की एक बैठक बुलवाई थी। जिसमें इन्होंने अपने नाम पर विचार किया जो अदुग्ध शाकाहारियों की तुलना में अधिक संक्षिप्त हो, और काफी विचार करने के बाद उन्होंने डोनाल्ड वाटसन द्वारा प्रस्तावित किए शब्द "वीगन" का चुनाव किया। इस शब्द का सुझाव डोनाल्ड वाटसन को पुराने सदस्यों जॉर्ज ए. हेंडरसन और उनकी पत्नी फे के.हेंडरसन द्वारा दिया गया था। वीगन समाज को सर्वप्रथम अगस्त 1964 में एक चैरिटी के रूप में पंजीकृत किया गया था।

वीगन भोजन, वस्त्र आदि जैसी रोजमर्रा की जरूरतों के विकल्प निम्नलिखित हैं :-
आहार :- वीगन पौधों पर आधारित खाद्य पदार्थ, जैसे अनाज, बीन्स, सब्जियां, फल और मेवे का सेवन करते हैं। कई लोग सोचते हैं कि ये एकदम प्रतिबंधक आहार के रूप में है, लेकिन नहीं वीगन के पास कई अन्य विकल्प भी होते हैं, जैसे, इतालियन पास्ता (Italian Pasta), इंडियन करी (Indian Curries), चाइनीज स्टिर फ्राइज (Chinse Stir Fryes), टेक्स मेक्स बर्रिटोस (Tex Mex Barritos) और मीट लोफ (बनावटी सब्जियों और बीन्स से निर्मित)। वहीं कई प्रकार के मीट (मोक मीट) और दुग्ध आहार जानवरों के उत्पादों के बिना भी बाजारों में उपलब्‍ध हैं।
कपड़े :- वीगनवाद में कपड़ों के चुनाव में भी जानवरों से निर्मित कपड़ों के विकल्प का चुनाव किया जाता है, जैसे ऊन के स्वेटर के बजाय कपास या ऐक्रेलिक के स्वेटर का चयन; रेश्म के ब्लाउज के बजाय कपास के ब्लाउज का चयन; और असली चमड़े के स्नीकर्स के बजाय कैनवास या नकली चमड़े के स्नीकर्स का चयन किया जाता है। कई खुदरा विक्रेताओं और निर्माताओं द्वारा वीगन समाज के लिए कपड़ों में अन्य विकल्पों का उत्पादन और विज्ञापित करने की कोशिश की जा रही है।
घरेलू उत्पाद और प्रसाधन सामग्री :- कई लोगों द्वारा अपने घरेलू उत्पादों या सौंदर्य उत्पादों में जानवरों के उत्पाद होने की जानकारी नहीं होती है, लेकिन इन उत्पादों में ऊर्णवसा, मधुमोम, शहद या कैरामाइन जैसे तत्व होते हैं। वीगन समाज के लोग इन सब चीजों के उपयोग का त्याग करते हैं, यहाँ तक कि वे जानवरों पर परीक्षण किए जाने वाले उत्पादों को भी त्यागते हैं, भले ही उत्पादों में पशु तत्व न हों।

वीगनों के लिए विभिन्न पोषक तत्वों के स्रोत निम्नलिखित हैं :-
प्रोटीन :- एक वीगन वयस्क पुरुष को लगभग 63 ग्राम और वयस्क महिला को लगभग 52 ग्राम प्रति दिन प्रोटीन की आवश्यकता है। इसलिए यदि आप निम्न आहारों का सेवन करते हैं तो आपको प्रोटीन में कमी नहीं होगी:
• दलहन: मटर, बीन्स (अडज़ुकी बीन्स (adzuki beans), ब्लैक आइड बीन्स (black eyed beans), छोले (छोले का आटा), किडनी बीन्स (kidney beans)), दाल, सोया खाद्य पदार्थ (टोफू (tofu), टेम्पे (tempeh), सोया मिन्स (soya mince), सोया मिल्क (soya milk))।
• कुछ मेवे: काजू, बादाम, मूंगफली, पिस्ता (कुछ 'मेवे' जैसे चेस्टनट और मैकडामिया प्रोटीन के खराब स्रोत हैं और अन्य जैसे ब्राजील मेवे , अखरोट, पाइन मेवे , पेकन मेवे और हेज़ेल मेवे प्रोटीन के औसत दर्जे के स्रोत हैं)।
• बीज: कद्दू, सूरजमुखी, तिल।
• अनाज: गेहूं, जई, कूटू, बाजरा, चौलाई, पास्ता, ब्रेड, सीतान (जिसमें प्रति 75ग्राम में 100 ग्राम प्रोटीन होता है)। ध्यान दें कि चावल प्रोटीन का एक अपेक्षाकृत खराब स्रोत है।
कैल्शियम :- यह मानव आहार का एक अनिवार्य हिस्सा है, और हड्डियों स्वस्थ को बनाए रखने के लिए हमें इसकी आवश्यकता होती है। एक संतुलित वीगन आहार के लिए वयस्कों के लिए 700 मिलीग्राम और किशोरों के लिए 800-1000 मिलीग्राम कैल्शियम की प्रति दिन आवश्यकता होती है। कुछ खाद्य पदार्थ, जैसे पालक, में कैल्शियम की उच्च मात्रा होती है, लेकिन दुर्भाग्य से इसमें कैल्शियम, ऑक्सालेट नामक एक पदार्थ से बंधा होता है, जिससे कैल्शियम के अवशोषण में बाधा आ जाती है। इसलिए पालक को लो-ऑक्सालेट सब्जियों जैसे पत्ते वाली सब्जियां, गोभी और केले के साथ बदलना महत्वपूर्ण रहेगा।
आयरन :- आयरन भी हमारे आहार का एक महत्वपुर्ण हिस्सा है, क्योंकि पर्याप्त मात्रा में स्वस्थ ऑक्सीजन को ले जाने वाली लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने के लिए इसकी आवश्यकता होती है। हालांकि, अनुसंधान से पता चला है कि वीगन में आयरन की औसत खपत होती है, जो सामान्य लोग (नों-वीगन) के समान या बढ़ी हुई होती है। आयरन के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं:
• सूखे मेवे
• साबुत अनाज
• बीज और दालें
• अन्य आहार जिनमें आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है, किंतु इनका सेवन कम मात्रा में किया जाना चाहिए, जिनमें सोया, कुछ आटे, अजमोद, जलकुंभी, काले गुड़ और खाद्य समुद्री शैवाल शामिल हैं।

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि आपको अपने भोजन में आयरन को अवशोषित करने में मदद करने के लिए विटामिन सी की भी बहुत आवश्यकता होती है। विटामिन सी के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं: संतरे, आलू, गोभी, हरे पत्ते वाली सब्जियां ब्रोकली, आम, कीवी, आदि।

संदर्भ :-
1.https://www.vegansociety.com/about-us/history
2.https://www.thoughtco.com/what-is-veganism-127598
3.https://www.veganfoodandliving.com/what-is-veganism/



RECENT POST

  • वेस्टइंडीज का चटनी संगीत हैं भारतीय भजन संग्रह
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     19-05-2019 10:00 AM


  • उत्तर प्रदेश के महत्वपूर्ण औद्योगिक क्षेत्रों में से एक मेरठ का औद्योगिक विवरण
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-05-2019 10:00 AM


  • उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था में मेरठ की दूसरे नम्बर पर है हिस्सेदारी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-05-2019 10:30 AM


  • प्रकाशन उद्योगों का शहर मेरठ
    ध्वनि 2- भाषायें

     16-05-2019 10:30 AM


  • विलुप्त होने की कगार पर है मेरठ का यह शर्मीला पक्षी
    पंछीयाँ

     15-05-2019 11:00 AM


  • दुनिया भर की डाक टिकटों पर महाभारत का चित्रण
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-05-2019 11:00 AM


  • एक ऐसी योजना जो कम करेगी मेरठ-दिल्ली के बीच के फासले को
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     13-05-2019 11:00 AM


  • माँ की ममता की झलक
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     12-05-2019 12:07 PM


  • महाभारत का चित्रयुक्त फारसी अनुवाद ‘रज़्मनामा’
    ध्वनि 2- भाषायें

     11-05-2019 10:30 AM


  • कैसे हुई हमारे उपनामों की उत्पत्ति?
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     10-05-2019 12:00 PM