क्या होती है ये क्लाउड कंप्यूटिंग?

मेरठ

 16-01-2019 02:32 PM
संचार एवं संचार यन्त्र

वर्तमान में आपने क्लाउड कम्यूटिंग (Cloud Computing) का नाम ज्यादातर सुना ही होगा परंतु ये क्लाउड कम्यूटिंग है क्या और ये कैसे काम करती हैं? दरअसल सरल शब्दों में कहा जाए तो क्लाउड कंप्यूटिंग, कंप्‍यूटर की सेवाओं- सर्वर (Server), स्‍टोरेज (Storage), डेटाबेस (Database), नेटवर्किंग (Networking), सॉफ्टवेयर (Software) आदि को इन्टरनेट से जोड़ता है ताकि तेज़ नवाचार, लचीले संसाधनों और बेहतर अर्थव्यवस्थाओं का निर्माण किया जा सके। क्लाउड कंप्यूटिंग में, क्लाउड शब्द को इंटरनेट के लिए बादल के रूप में इस्‍तेमाल किया जाता है। अगर आप क्लाउड सेवाओं के लिए भुगतान करते हैं तो इसमें, आप केवल उन सेवाओं के लिए भुगतान करते हैं, जिनकी आपको ज़रूरत है। क्लाउड तकनीक लगातार आईटी लागत को कम करके और प्रतीक्षा समय को समाप्त करके कम्यूटिंग जगत में क्रांति लाई है।

क्लाउड कंप्यूटिंग कैसे काम करती है
जहाँ सभी क्लाउड कंप्यूटिंग सेवाऐं अलग-अलग तरह से काम करती हैं, वहीं अधिकतर क्लाउड कंप्यूटिंग सेवाएँ एक सरल ब्राउज़र-आधारित डैशबोर्ड (Browser-based Dashboard) प्रदान करती हैं, जो आईटी पेशेवरों और डेवलपर्स (Developers) के लिए संसाधनों को ऑर्डर (Order) करना और उनके खातों का प्रबंधन करना आसान बनाता है। कुछ क्लाउड कंप्यूटिंग सेवाओं को REST API और कमांड-लाइन इंटरफ़ेस (Command line interface) के साथ काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिससे डेवलपर्स को कई विकल्प मिलते हैं। क्‍लाउड सुविधाओं को आम तौर पर तीन प्रकार में विभाजित किया गया हैं: एक सेवा के रूप में बुनियादी सुविधाएँ (IaaS), प्लेटफोर्म एक सेवा के रूप में (PaaS), सॉफ्टवेयर एक सेवा के रूप में (SaaS)।

उपभोक्ता क्लाउड कंप्यूटिंग का उपयोग कैसे करते हैं
सरल शब्दों में, क्लाउड कंप्यूटिंग इंटरनेट पर संगणना सेवाओं की डिलीवरी है। हर दिन आपके द्वारा की जाने वाली कई गतिविधियां क्लाउड के माध्यम से संभव हो जाती हैं - जैसे ईमेल (Email), ऑनलाइन बैंकिंग (Online Banking), फ़ाइल भंडारण और बैकअप (Backup), सोशल मीडिया (Social Media) और यहां तक कि ऑनलाइन शॉपिंग (Online Shopping) भी। वर्तमान में क्लाउड काफी लोकप्रिय हो गया है क्योंकि यह कम लागत, आसान पहुंच और उच्च विश्वसनीयता सहित उपभोक्ताओं और व्यवसायों को लाभ प्रदान करता है।

क्लाउड कंप्यूटिंग कंपनियों के प्रौद्योगिकी खर्च में कमी लाता है, क्योंकि इसे एक सदस्यता शुल्क चुका कर इन्टरनेट के ज़रिये किराए पर लिया जा सकता है। क्लाउड कंप्यूटिंग कई व्यावसायिक प्रक्रियाओं को अधिक विश्वसनीय भी बनाता है।

क्लाउड कंप्यूटिंग तकनीक समय की बचत, इन्फ्रास्ट्रक्चर (Infrastructure) लागत में कमी, डाटा भंडारण में सुगमता, बैकअप और रिकवरी (Recovery), ऐप्लीकेशन प्रबंधन खर्च आदि में अहम भूमिका निभाती है। साथ ही साथ इससे आप मैसेजिंग (Messaging) और वॉइस और वीडियो कॉलिंग ऐप (Voice & Video Calling Apps) जैसे स्काइप (Skype) का भी लाभ उठा सकते हैं।

प्रमुख विशेषताएँ और लाभ

1. कम लागत - क्लाउड कंप्यूटिंग हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर खरीदने के खर्च को समाप्त कर देता है तथा इसमें उपभोग के अनुसार भुगतान की सुविधा उपलब्ध है। क्लाउड कंप्यूटिंग अक्सर सस्ती होती है। सॉफ्टवेयर पहले से ही ऑनलाइन इनस्‍टॉल (Install) किया गया है, तो आपको इसे अपने अपने कंप्यूटर पर फिर से इनस्‍टॉल करने की ज़रूरत नहीं होगी।

2. तेज़ गति - क्लाउड कंप्यूटिंग, उपभोक्ता की ज़रूरत होने पर आपको कुछ भी सेवा कुछ ही समय में प्रदान कर सकती है। आप दुनिया भर में कहीं भी रहें, इसका उपयोग कर सकते हैं। क्लाउड कम्प्यूटिंग, गतिशीलता बढ़ाता है।

3. वैश्विक स्तर - क्लाउड कंप्यूटिंग सेवाओं के लाभों में व्यापक पैमाने की क्षमता शामिल है। साथ ही साथ अब आप दुनिया के किसी भी हिस्से में किसी भी डिवाइस (Device) से अपने दस्तावेज़ों को हासिल कर सकते हैं।

4. उत्पादकता - क्लाउड आधारित सिस्टम में हार्डवेयर व्यवस्था, सॉफ्टवेयर पैचिंग (Software Patching) आदि जैसे अन्य समय लेने वाली आईटी प्रबंधन कार्य की आवश्यकता नहीं होती है, इसलिए आईटी दल अपना अधिक समय महत्वपूर्ण व्यावसायिक लक्ष्यों को प्राप्त करने में लगा सकते हैं। उद्योग के लिए यह तो और भी फायदेमंद हैं, आप बिना दस्तावेज़ों को अपने साथ ले जाए, अपने घर पर या यात्रा पर भी अपना काम कर सकते हैं। यह उत्पादकता बढ़ाता है।

5. बहेतरीन प्रदर्शन - क्लाउड कंप्यूटिंग सेवाएं सुरक्षित डेटा केंद्र के विश्वव्यापी नेटवर्क पर चलती हैं, जो नियमित रूप से नवीनतम तरह के तीव्र और कुशल कम्यूटिंग हार्डवेयर से बेहतर किए जाते हैं।

6. सुरक्षा - कई क्लाउड प्रदाता आपको नीतियों, प्रौद्योगिकियों और नियंत्रणों का एक व्यापक संग्रह प्रदान करते हैं जो आपके डेटा को सुरक्षित रखने में मदद करता है।

अब बात करते हैं क्लाउड कंप्यूटिंग के प्रकार की। वर्तमान में क्लाउड कंप्यूटिंग तीन प्रकार की है-

1. पब्लिक क्लाउड कंप्यूटिंग (Public Cloud Computing)
पब्लिक क्लाउड का स्वामित्व और संचालन तृतीय-पक्ष क्लाउड सेवा प्रदाताओं द्वारा किया जाता है, जो अपने कंप्यूटिंग संसाधनों जैसे सर्वर और भंडारण को इंटरनेट पर प्रदान करते हैं।

2. प्राइवेट क्लाउड कंप्यूटिंग (Private Cloud Computing)
एक प्राइवेट क्‍लाउड, उन क्‍लाउड कंप्यूटिंग संसाधनों को संदर्भित करता है जो विशेष रूप से एकल व्यवसाय या संगठन द्वारा उपयोग किया जाता है। इसमें निजी नेटवर्क पर सेवाओं और इन्फ्रास्ट्रक्चर को सुरक्षित रखा जाता है।

3. हाइब्रिड क्लाउड कंप्यूटिंग (Hybrid Cloud Computing)
हाइब्रिड क्लाउड में पब्लिक क्लाउड और प्राइवेट क्लाउड दोनों का इस्‍तेमाल किया जाता है। डेटा और ऐप्लीकेशन को पब्लिक और प्राइवेट क्लाउड के बीच स्थानांतरित करने की अनुमति देकर, एक हाइब्रिड क्लाउड आपके व्यवसाय को अधिक लचीला बनाता है और आपके मौजूदा इन्फ्रास्ट्रक्चर तथा सुरक्षा को सुधारने में मदद करता है।

संदर्भ:
1. https://bit.ly/2QQJ3Xd
2. https://bit.ly/2uLraBo
3. https://bit.ly/2Mb5aa0

RECENT POST

  • भारतीय और विश्व साहित्य का अत्यधिक विकसित रूप है, कन्नड़ साहित्य
    ध्वनि 2- भाषायें

     10-08-2022 10:06 AM


  • हुसैनी ब्राह्मण: वे हिंदू जिनका इमाम हुसैन, कर्बला और मुहर्रम के साथ है स्थायी संबंध
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     09-08-2022 10:25 AM


  • कपड़ों पर बढ़ते हुए जीएसटी के साथ भारतीय पारंपरिक हथकरघा उद्योग के लिए अन्य चुनातियाँ
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     08-08-2022 08:51 AM


  • अमेज़ॅन वर्षा वन में हुए भारी परिवर्तन को दिखाती है, अंतरिक्ष से ली गई तस्वीरें
    जंगल

     07-08-2022 12:12 PM


  • भारतीय गणितीय पांडुलिपियां जो आधुनिक समस्याओं के निराकरण में भी हैं सहायक
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     06-08-2022 10:23 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय ट्रैफिक लाइट दिवस विशेष: एकीकृत यातायात प्रबंधन प्रणाली से मेरठ में ट्रैफिक समस्‍या होगी दूर
    य़ातायात और व्यायाम व व्यायामशाला

     05-08-2022 11:21 AM


  • सरधना के अफगान नवाब एवं वंशज,जिन्होंने अंग्रेज़ों का साथ दिया और बाद में सूफीवाद अपनाया
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-08-2022 06:23 PM


  • भारतीय पौराणिक कथाओं और इतिहास में विशेष महत्व रखता है विंध्यपर्वत
    पर्वत, चोटी व पठार

     03-08-2022 06:09 PM


  • गुरुकुलों की पेड़ों की छांव से लेकर स्कूलों के बंद कमरों तक भारतीय शिक्षा प्रणाली का सफर
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     02-08-2022 09:01 AM


  • बढ़ती बिजली की मांग को देखते, भारत में शुरू, काले सोने अर्थात कोयले का वाणिज्यिक खनन
    खदान

     01-08-2022 12:10 PM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id