धार्मिक पर्वों के लिए मुस्लिम हिजरी पंचांग का करते हैं उपयोग

मेरठ

 31-12-2018 11:06 AM
सिद्धान्त I-अवधारणा माप उपकरण (कागज/घड़ी)

मुस्लिम अपने तीज-त्यौहार हमारे कैलेंडर के अनुसार नहीं मनाते, बल्कि वे इस्लामी छुट्टियों और अनुष्ठानों के उचित दिनों को निर्धारित करने के लिए इस्लामिक कैलेंडर का इस्तेमाल करते हैं, जिसे हिजरी या इस्लामी पंचांग भी कहते हैं और इस कैलेंडर में चाँद दिखाई देने के अनुसार तिथि तय होती है। जिसमें वर्ष में बारह मास, एवं 354 या 355 दिवस होते हैं। हिजरी का उपयोग न सिर्फ मुस्लिम देशों में होता है बल्कि पूरे विश्व के मुस्लिम भी इस्लामिक धार्मिक पर्वों को मनाने का सही समय जानने के लिए इसका प्रयोग करते हैं।

मुहम्मद पैगंबर 622 ईस्वी में मक्के मदीना आए थे और पहले मुस्लिम समुदाय (उम्मा) की स्थापना की और इस कार्यक्रम को हिजरा के रूप में मनाया गया। तभी से हिजरी सन की शुरुआत हुई। वहीं वर्तमान इस्लामी वर्ष 1440 एएच (AH) है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार, 1440 एएच लगभग 11 सितंबर 2018 से 30 अगस्त 2019 तक का है। कुरान (10:5) में लिखा है कि नवचंद्रमा हर महीने के पहले दिन को चिह्नित करने के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए। चूंकि नवचंद्रमाओं के बीच औसत अंतराल 29 दिन, 12 घंटे, 44 मिनट और 3 सेकंड है, इसलिए चंद्र महीने 29 और 30 दिनों की अवधि के बीच वैकल्पिक होते हैं। किसी भी महीने की शुरुआत से पहले नवचंद्रमा को स्वयं से देखा जाना चाहिए, इसमें गणितीय गणना मान्य नहीं होती है।

इस तरह से हमेशा सटीक समय नहीं निकाला जा सकता, खासकर कि तब जब आसमान में बादल छाए हों। उस हिसाब से हर महीने की शुरुआत हर किसी के लिए अलग हो सकती है। वहीं अधिकांश लोग प्रत्येक माह शुरू होने की जानकारी के लिए मुस्लिम अधिकारियों द्वारा आधिकारिक घोषणा पर भरोसा करते हैं।

एक इस्लामिक कैलेंडर वर्ष (एएच) को ग्रेगोरियन समकक्ष (ए.डी/सी.इ) या इसके विपरीत में बदलने के लिए, निम्नलिखित समीकरणों में से किसी एक का उपयोग करें:

ए.डी = 622 + (32/33 एएच)
एएच = 33/32 x (ए.डी - 622)

इस्लामी सप्ताह, यहूदी सप्ताह के समान ही होता है। इसका प्रथम दिवस भी रविवार के दिन ही होता है। इस्लामी एवं यहूदी दिवस सूर्यास्त के समय आरंभ होते हैं, जबकि ईसाई एवं ग्रहीय दिवस अर्धरात्रि में आरम्भ होते हैं। मुस्लिम साप्ताहिक नमाज़ हेतु मस्जिदों में छठे दिवस की दोपहर को एकत्रित होते हैं, जो कि ईसाई एवं ग्रहीय शुक्रवार को होते हैं।

संदर्भ :-

1. https://en.wikipedia.org/wiki/Islamic_calendar
2. https://bit.ly/2BSJomT
3. https://bit.ly/2CFzZ3t
4. https://bit.ly/2jhiXhN



RECENT POST

  • शहरों और खासकर मेरठ में बढ़ती तेंदुओं की घुसपैठ
    स्तनधारी

     22-05-2019 10:30 AM


  • क्यों मिलते हैं वेस्टइंडीज़ क्रिकेटरों के नाम भारतीय नामों से?
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     21-05-2019 10:30 AM


  • अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) का इतिहास
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-05-2019 10:30 AM


  • वेस्टइंडीज का चटनी संगीत हैं भारतीय भजन संग्रह
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     19-05-2019 10:00 AM


  • उत्तर प्रदेश के महत्वपूर्ण औद्योगिक क्षेत्रों में से एक मेरठ का औद्योगिक विवरण
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-05-2019 10:00 AM


  • उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था में मेरठ की दूसरे नम्बर पर है हिस्सेदारी
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     17-05-2019 10:30 AM


  • प्रकाशन उद्योगों का शहर मेरठ
    ध्वनि 2- भाषायें

     16-05-2019 10:30 AM


  • विलुप्त होने की कगार पर है मेरठ का यह शर्मीला पक्षी
    पंछीयाँ

     15-05-2019 11:00 AM


  • दुनिया भर की डाक टिकटों पर महाभारत का चित्रण
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     14-05-2019 11:00 AM


  • एक ऐसी योजना जो कम करेगी मेरठ-दिल्ली के बीच के फासले को
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     13-05-2019 11:00 AM