मेरठवासियों के लिए सिर्फ 170 किमी दूर हिल स्टेशन

मेरठ

 18-12-2018 11:58 AM
पर्वत, चोटी व पठार

आजकल हर कोई शहर की भीड़-भाड़ से दूर एक ऐसी जगह पर जाना चाहता है जहाँ वह जिंदगी के दो पल अपने परिवार के साथ हँसी-खुशी बिता सके। खासकर इस व्यस्त भरी जिंदगी में अगर कोई ऐसी जगह मिल जाए जहाँ आपको पल भर के लिए सुकून मिले तो वो जगह किसी स्वर्ग से कम नही कहलाएगी। मेरठवासियों के लिए ऐसी एक जगह जो मेरठ से सिर्फ 170 किमी दूर है, काफी शांती और सुकून प्रदान करेगी। उत्तराखण्ड के पौड़ी गढ़वाल जिले में स्थित लैंसडाउन एक सुन्दर हिल स्टेशन है।

लैंसडाउन एक शांत और अनूठा हिल स्टेशन (hill station) है और ब्रिटिश शासन से ही यह एक लोकप्रिय गंतव्य रहा है, जो गर्मियों और सर्दी दोनों में शहर की भीड़ भार से दूर एक शांतिपूर्ण और कम लागत वाली यात्रा प्रदान करता है। यह अन्य हिल स्टेशनों से भिन्न है, क्योंकि यह सड़को से जुड़ी हुई है। बलूत और नीले देवदार के जंगलों से घिरा यह हिल स्टेशन समुद्री तट से 1700 मीटर की ऊँचाई पर स्थित, सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

इस शहर का नाम उस समय के भारत के वाइसराय लॉर्ड लैंसडाउन के नाम पर रखा गया था, इन्होंने 1887 में इस हिल स्टेशन की खोज की थी। आज यहाँ भारतीय सेना का गढ़वाल राइफल्स कमांड आफिस स्थित है। इस शहर में स्वतंत्रता से पूर्व के दो चर्च हैं, हालांकी वर्तमान में केवल सेंट जेम्स कार्यात्मक है। साथ ही शहर में एक बड़ा हिंदू मंदिर भी है।

लैंसडाउन की कुछ विशेषताएं :-

• शांत, कम भीड़, ज्यादा विकसित नहीं और अज्ञात हिल स्टेशन है।
• गढ़वाल राइफल्स के छावनी क्षेत्र में होने की वजह से काफी साफ और अच्छी तरह से संरक्षित रखा हुआ क्षेत्र है।
• ब्रिटिश औपनिवेशिक वास्तुकला और सैन्य इतिहास की कई पुरानी इमारतें भी यहां देखने के लिए मिलती हैं।
• दिल्ली एनसीआर क्षेत्र के सबसे नज़दीकी हिल स्टेशनों में से एक और एक सुंदर सप्ताहांत पर्यटक स्थल है।

लैंसडाउन में होने वाली गतिविधियां :-

• एडवेंचर गतिविधियां :- लैंसडाउन में आप काफी सुंदर पक्षियों को देख सकते हैं, ट्रेकिंग, रॉक क्लाइंबिंग आदि कुछ एडवेंचर गतिविधियां कर सकते हैं।

• प्रकृति के दृश्य :- लांसडाउन में स्वास्थ्यप्रद और शांत वातावरण वाली पहाड़ी में आप एक लंबी पैदल यात्रा कर सकते हैं।

• नौकायन :- आप भुल्ला ताल (यहाँ की बहुत प्रसिद्ध छोटी-सी झील है) में नौकायन, पैडलिंग (paddling) का आनंद ले सकते हैं। कोटद्वार-लांसडाउन रोड पर स्थित दुर्गा देवी मंदिर के पास खो नदी में भी आप पानी से संबंधित गतिविधियों का भी आनंद ले सकते हैं।

• हिमपात :- सर्दियों में आप यहां बर्फ का भी आनंद ले सकते हैं। बर्फ के दृश्य के लिए आप एक साफ दिन में चौखंबा जैसे महान हिमालयी चोटियों को देख सकते हैं।

लैंसडाउन पहुचने के तरीके:

आप लैंसडाउन गाड़ी से या ट्रेन से भी जा सकते है। गाड़ी से आप मेरठ-पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्ग से 4 से 5 घंटे में 170 किमी की यह दूरी तय कर सकते हैं। अगर आप ट्रेन से लैंसडाउन जाते है तो मेरठ से बस 2-3 घंटे में कोटद्वार पहुच सकते है। कोटद्वार स्टेशन लैंसडाउन का सबसे करीबी रेलवे स्टेशन है और वहां से आप किसी भी स्थानीय परिवहन के मदद से लैंसडाउन तक जा सकते हैं।

सन्दर्भ :-

1. https://www.euttaranchal.com/tourism/lansdowne.php
2. https://en.wikivoyage.org/wiki/Lansdowne_(India)
3. https://en.wikipedia.org/wiki/Lansdowne,_India



RECENT POST

  • शहीद भगत सिंह जी के विचार
    विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

     23-03-2019 07:00 AM


  • मेरठ के नाम की उत्पत्ति का इतिहास
    मघ्यकाल के पहले : 1000 ईस्वी से 1450 ईस्वी तक

     22-03-2019 09:01 AM


  • रंग जमाती होली आयी
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     21-03-2019 01:35 PM


  • होली से संबंधित पौराणिक कथाएँ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     20-03-2019 12:53 PM


  • बौद्धों धर्म के लोगों को चमड़े के जूते पहनने से प्रतिबंधित क्यों किया गया?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-03-2019 07:04 AM


  • महाभारत से संबंधित एक ऐतिहासिक शहर कर्णवास
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-03-2019 07:40 AM


  • फूल कैसे खिलते हैं?
    बागवानी के पौधे (बागान)

     17-03-2019 09:00 AM


  • भारत में तांबे के भंडार और खनन
    खदान

     16-03-2019 09:00 AM


  • क्या है पौधो के डीएनए की संरचना?
    डीएनए

     15-03-2019 09:00 AM


  • अकबर के शासन काल में मेरठ में थी तांबे के सिक्कों की टकसाल
    मध्यकाल 1450 ईस्वी से 1780 ईस्वी तक

     14-03-2019 09:00 AM