रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र

मेरठ

 09-12-2018 10:00 PM
संचार एवं संचार यन्त्र

आज जैसे टेलीविज़न और मोबाइल हमारे मनोरंजन का माध्यम बन गया है ठीक वैसे ही कुछ समय पूर्व जब टेलीविज़न का आविष्कार नहीं हुआ था तब रेडियो था जिसपे हम समाचार और संगीत सुन कर अपना मनोरंजन करते थें। रेडियो ही एक मात्र मनोरंजन और समाचार प्राप्त करने का साधन था पर आज टेलीविज़न के आने के बाद रेडियो का इस्तेमाल लोग कम करते हैं। वैसे आज भी गाँव घरों में बड़े बुज़ुर्ग रेडियो पर ही समाचार सुनना पसंद करते हैं और पहले के मुकाबले रेडियो का आकार और वजन में भी बदलाव आया है और रेडियो छोटे आकारों में भी मिलने लगे है। तो चलिए आज एक वीडियो के माध्यम से देखते हैं कि आखिर यह बीते समय की आधुनिक वास्तु अपने अस्तित्व में आई कैसे?

रेडियो के आविष्कार की शुरुआत एक ब्रिटिश वैज्ञानिक जेम्स क्लर्क मैक्सवेल नें 1864 में की थी परन्तु उनके निरंतर प्रयास के बावजूद भी किसी का भी ध्यान उनके आविष्कार पर नहीं गया और उनकी मृत्यु हो गई। उनके जाने के बाद एक और ब्रिटिश वैज्ञानिक ओलिवर हेविसाइड ने इस अधूरे खोज को शुरू किया पर वह भी इस खोज में कामयाब नहीं हो पाये और उसके बाद हेनरिक हर्ट्ज़ नामक एक वैज्ञानिक ने इस खोज को आगे बढ़ाया और चुम्बकीय रेडियो तरंगों पर काम किया, वह काफी सफल भी रहे। हर्ट्ज़ के खोज पर एक पुस्तक बनाया गया और उसे पढ़ के ही जगदीश चन्द्र बासु समेत कई वज्ञानिकों ने रेडियो पर फिर से खोज शुरू की और रेडियो तारंगों के इस खोज में कामयाब भी हुए। 1920 में फ्रैंक कोनार्ड को सरकार ने पहली बार रेडियो स्टेशन शुरू करने की इजाजत दी और उन्हें रेडियो ब्रोडकास्टिंग (Radio broadcasting) के जनक के नाम से भी लोग जानने लगे और उसके बाद कई सारे रेडियो स्टेशन की शुरुआत की जिनमें से लन्दन का बीबीसी रेडियो ब्रोडकास्टिंग अति विख्यात हुआ।

भारत में 1936 में ऑल इंडिया रेडियो की स्थापना की गयी और 1957 में आकाशवाणी के नाम से पुकारा जाने लगा। समय के साथ रेडियो का उपयोज काफी लोग करने लगे और घरों में लोग रेडियो रखने लगे पर आज रेडियो का इस्तमाल काफी कम हो गया है और लोग इसके जगह टी.वी देखना ज्यादा पसंद करते हैं।

तो क्लिक कीजिये ऊपर दी गयी वीडियो पर और चित्रों के साथ इस कहानी को और भी गहराई से जानकार बनाइये अपने रविवार को एक रोमांचक रविवार।

सन्दर्भ:

1. https://www.youtube.com/watch?v=U6p1Rsd2rq4


RECENT POST

  • मेरठ का ऐतिहासिक स्थल सूरज कुंड
    वास्तुकला 1 वाह्य भवन

     22-09-2020 11:14 AM


  • आभूषणों को सुंदर रूप प्रदान करता है कांच
    म्रिदभाण्ड से काँच व आभूषण

     21-09-2020 04:08 AM


  • अजंता और एलोरा
    खदान

     20-09-2020 09:26 AM


  • क्यों होते हैं आनुवंशिक रोग?
    डीएनए

     18-09-2020 07:48 PM


  • बैटरी - वर्षों से ऊर्जा का एक महत्वपूर्ण स्रोत
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     18-09-2020 04:49 AM


  • मानवता के लिए चुनौती हैं, लीथल ऑटोनॉमस वेपन्स सिस्टम (LAWS)
    हथियार व खिलौने

     17-09-2020 06:19 AM


  • मेरठ पीतल से निर्मित साज
    ध्वनि 1- स्पन्दन से ध्वनि

     16-09-2020 02:10 AM


  • हमारी आकाशगंगा का भाग्य
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     15-09-2020 02:04 AM


  • हस्तिनापुर में स्थित जैन मंदिर में पद्मासन मुद्रा में मौजूद है तीर्थंकर शांतिनाथ की प्रतिमा
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     14-09-2020 04:47 AM


  • निवासी और प्रवासी पक्षियों की कई विविध प्रजातियों का घर है, कच्छ रेगिस्तान वन्यजीव अभयारण्य
    मरुस्थल

     13-09-2020 04:26 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.

    login_user_id