सारस पंछी के नृत्य के पीछे है एक विशेष वजह

मेरठ

 25-11-2018 06:30 AM
पंछीयाँ

भारत में सारस पंछी का एक धार्मिक दृष्टि से ख़ास महत्त्व है। कहा जाता है कि वाल्मिकी ने एक शिकारी को एक सारस का शिकार करने के लिए श्राप दिया था तथा उसके बाद ही उन्हें रामायण लिखने की प्रेरणा आई। साथ ही इन्हें प्रेम और वैवाहिक निष्ठा का प्रतीक भी माना जाता है क्योंकि ये जीवन भर सिर्फ एक साथी का साथ निभाते हैं तथा एक की मृत्यु होने पर दूसरा ग़म में अपना दम तोड़ बैठता है।

सारस पंछी इस समय अपने प्रवास के लिए उड़ चुके हैं और अभी से मेरठ में गंगा के नज़दीक इन्हें देखा जा सकता है। तो आइये अब देखें एक वीडियो सारस पंछी की प्रवास यात्रा का। यह वीडियो इनकी यात्रा को बड़े ही सरल तरीके से प्रस्तुत करता है। साथ ही यह इन पक्षियों के प्रजनन में होने वाली एक ख़ास प्रक्रिया पर भी रौशनी डालता है:


वीडियो में आप देखेंगे कि जैसे ही सभी पंछी पृथ्वी की सतह पर उतर आते हैं, कुछ भोजन की खोज करने लगते हैं और बाकी कुछ प्रजनन के लिए अपना जीवन साथी खोजने लगते हैं। इस प्रक्रिया में नर पक्षी मादा पक्षी को प्रसन्न करने के लिए नृत्य करना शुरू करता है। जी हाँ, कला की कद्र सिर्फ हम मनुष्य ही नहीं करते। हर नर किसी न किसी मादा को प्रसन्न करने के लिए नृत्य करता है। जैसे ही किसी मादा को किसी नर का नृत्य पसंद आता है, वह भी उसके साथ नृत्य करती दिखाई देती है। ऊपर दिए गए वीडियो के अंत में आप एक सारस के जोड़े को बड़ी खूबसूरती के साथ नृत्य करते देखेंगे।

संदर्भ:
1.https://en.wikipedia.org/wiki/Sarus_crane#In_culture



RECENT POST

  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM