कैसे खड़ी हो एक महिला कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न के खिलाफ़

मेरठ

 11-11-2018 10:00 AM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

महिलायें वर्षों से यौन उत्पीड़न और प्रताड़ना की शिकार होती आयी हैं। घर हो या कार्यस्थल महिलाओं को कभी घरेलू हिंसा तो कभी कार्यस्थल पर यौन अपराध की मार झेलनी पड़ती है। इन सब अपराधों से महिलाओं को बचाने के लिये ही कई कानून बनाये गए हैं लेकिन महिलाओं को इनकी जानकारी न होने के कारण वो अपने साथ होने वाले अपराधों के खिलाफ अपनी आवज़ प्रकट नहीं कर पाती है, आईये जानते हैं कार्यस्थल यौन शोषण कानून के बारे में, इसकी शुरुआत 1992 में राजस्थान की राजधानी जयपुर के गॉव भटेरी से हुई। जहाँ बाल विवाह के विरोध में अभियान चला रही भवरी देवी नाम की महिला के साथ बलात्कार किया गया। भवरी देवी को इन्साफ और अन्य महिलाओं के बचाव में क़ानून बनाने के लिये विशाखा और अन्य संगठनों ने कोर्ट में जनहित याचिका दायर की। जनहित याचिका में कोर्ट से कामकाजी महिलाओं के लिए संविधान की धारा 14,19 और 21 के तहत अधिकारों को सुनिश्चित करने की मांग की गयी। कोर्ट ने कामकाजी महिलाओं को यौन उत्पीड़न, हिंसा और प्रताड़ना से बचने के लिये विशाखा के दिशा, निर्देशों को जानने को कहा जिससे महिलायें अपना बचाव कर सकती थी। 1997 में कोर्ट ने कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न की परिभाषा दी।

किन स्थियों में कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न की शिकायत की जा सकती है:

1. यदि कार्यस्थल पर कोई सहकर्मी, सीनियर (Senior) और जूनियर (Junior) शारारिक सम्पर्क के लिये दबाव बनाता है या अन्य तरीकों से ऐसा करने के लिये दबाव बनाता है।
2. यदि कार्यस्थल पर कोई सहकर्मी और सीनियर यौन सम्बन्ध बनाने का अनुरोध या दबाव बनाता है।
3. यदि ऑफिस में कोई पुरूष महिला पर या उनके कपड़ों पर गंदा या अभद्र टिप्पणियां करता है।
4. यदि कार्यस्थल पर कोई मौखिक या अमौखिक तरीके से अभद्र टिप्पणियां करता है।

क्या कहता है कार्यस्थल यौन उत्पीड़न एक्ट 2013

कार्यस्थल यौन उत्पीड़न एक्ट 2013 के अनुसार दफ्तरों को आंतरिक शिकायत समिति यानि आईसीसी का बनाना जरुरी है। इस कमेटी में महिलाओं की संख्या आधी से ज्यादा होनी चाहियें साथ ही इस कमेटी की मुख्या भी एक महिला ही होगी। इस कमेटी में एक बाहरी सदस्य का होना भी जरुरी है। यदि कोई महिला शिकायत ले कर कमेटी के पास जाती है तो कमेटी को उसका निवारण 90 दिनों के भीतर करना होगा। यदि कमेटी 90 दिनों में शिकायत का समाधान नहीं कर पाती है तो समय बढ़ाया जा सकता है। एक्ट की धारा 26 (1) के अनुसार यदि कोई इम्प्लॉयर नियमों का पालन नहीं करता है, तो उस पर 50 हज़ार रुपयें का जुर्माना और कंपनी का लाइसेंस रद्द किया जा सकता है।

सन्दर्भ:

1. https://indianexpress.com/article/explained/sexual-harassment-at-workplace-vishaka-guidelines-metoo-5394486/
2. https://www.onlymyhealth.com/health-slideshow/how-to-handle-sexual-and-mental-harassment-at-work-in-hindi-1453119320.html
3. https://hindi.oneindia.com/news/features/law-against-sexual-harassment-at-the-workplace-in-india-380141.html



RECENT POST

  • मेरठवासियों के लिए सिर्फ 170 किमी दूर हिल स्टेशन
    पर्वत, चोटी व पठार

     18-12-2018 11:58 AM


  • लुप्त होने के मार्ग पर है बुनाई और क्रोशिया की कला
    स्पर्शः रचना व कपड़े

     17-12-2018 01:59 PM


  • दुनिया का सबसे ठंडा निवास क्षेत्र, ओयम्याकोन
    जलवायु व ऋतु

     16-12-2018 10:00 AM


  • 1857 की क्रांति में मेरठ व बागपत के आम नागरिकों का योगदान
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     15-12-2018 02:10 PM


  • मिठास की रानी चीनी का इतिहास
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     14-12-2018 12:12 PM


  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM