मनुष्य द्वारा प्रकृति पर किये अत्याचार को दर्शाती यह शोर्ट फिल्म

मेरठ

 07-10-2018 10:00 AM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

कितनी खूबसूरत चीज़ है ना प्रकृति। हमें इतना कुछ दे जाती है और बदले में कुछ मांगती भी नहीं। आज हम मानवों ने जितनी भी प्रगति की है, उसमें शायद सबसे बड़ा योगदान प्रकृति का ही होगा। परन्तु हमने इसे बदले में क्या दिया, सिर्फ कूड़ा-कचरा और शोषण?

आज हम आपके सामने एक वीडियो प्रस्तुत करने जा रहे हैं जो इसी मुद्दे को छूता है। वीडियो की शुरुआत होती है आज से 5 लाख वर्ष पहले के समय से। मानव एक-एक करके प्रकृति के सभी पहलुओं का इस्तेमाल अपने फ़ायदे ही नहीं, बल्कि अपने शौकों के लिए करने लगता है। फिर चाहे वह वनस्पति हो या फिर जीव-जंतु। वीडियो में सिर्फ एक ही मनुष्य को दिखाया गया है जो हमारी पूरी मानव जाती को दर्शाता है।

वीडियो के मध्य तक ही आपको इसमें दिखाए गए मनुष्य से नफरत होने लगेगी। परन्तु यह सिर्फ एक वीडियो है, असल में यह मनुष्य और कोई नहीं बल्कि हम और हमारे आस-पास के लोग ही हैं। ज़रूर प्रकृति काफी निःस्वार्थ है, परन्तु प्रकृति का ही नियम है कि हर चीज़ संतुलित होनी चाहिए और कुछ भी हो जाये, प्रकृति के इस नियम का उल्लंघन नहीं हो सकता। इस प्रकार प्रकृति का शोषण बिना किसी बुरे परिणाम को झेले संभव नहीं है।

वीडियो के अंत में एक रोचक मोड़ आता है जब इस मनुष्य द्वारा प्रकृति पर किये गए अत्याचार का हर्जाना उसे एक अप्रत्याशित तरीके से चुकाना पड़ता है। वीडियो को देखकर आप में प्रकृति के प्रति एक ज़िम्मेदारी की भावना ज़रूर उजागर होगी, तो तुरंत क्लिक कीजिये ऊपर दिए गए वीडियो पर और बनायें अपने रविवार को उपयोगी।

संदर्भ:
1.https://www.youtube.com/watch?v=WfGMYdalClU



RECENT POST

  • लिडियन नाधास्वरम (Lydian Nadhaswaram) के हुनर को सलाम
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     21-04-2019 07:00 AM


  • अपरिचित है मेरठ की भोला बियर की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM


  • शहीद-ए-आज़म उद्धम सिंह का बदला
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:00 AM