फर्जी विदेशी नौकरियों का प्रस्ताव दे कर वीज़ा शुल्क के नाम पर ठगी

मेरठ

 29-09-2018 04:22 PM
नगरीकरण- शहर व शक्ति

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, वैसे ही देशान्तरण या माइग्रेशन (Migration) एक तरफ तो गरीबी, युद्ध, अपराध, राजनीतिक अस्थिरता और फसल की विफलता जैसे मुद्दों को प्राभावित करता है, वहीं दूसरी ओर बेहतर रोजगार के अवसर, राजनीतिक सुरक्षा, बेहतर सेवाओं के अवसर प्रदान करता है। आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (ओ.ई.सी.डी) द्वारा जारी किए गए नए आंकड़ों से पता चलता है कि ओ.ई.सी.डी से संबंधित समृद्ध देशों (अमीर देशों) में प्रवास करने वाले भारतीयों की संख्या सदी के अंत के बाद से दोगुनी हो गई है।

हाल ही में समृद्ध राष्ट्रों के समूह ओ.ई.सी.डी द्वारा प्रकाशित इंटरनेशनल माइग्रेशन आउटलुक (International Migration Outlook) 2018 से पता चलता है कि 2016 में ओ.ई.सी.डी. देशों में आने वाले लोगों के बीच भारतीय नागरिक विश्व स्तर पर चौथे स्थान पर रहे। चीन ने 5 लाख से अधिक प्रवासियों के साथ सूची में शीर्ष स्थान पाया है, इसके बाद रोमानिया और सीरिया हैं। 2016 में ओ.ई.सी.डी देशों में 2,71,503 प्रवासियों के साथ भारत चौथे स्थान पर रहा, जबकि 2000 में यह संख्या 1,13,082 थी।

प्रवासियों का एक हिस्सा है जो कमाई के मकसद से देश छोड़ता है। इसमें ज़्यादातर अकुशल मजदूर तथा कुशल इंजिनियर होते हैं जो सऊदी अरब या संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के शहरों तथा ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, न्यूजीलैंड, लंडन और अमेरिका का रुख करते हैं। वहीं एक दूसरा बड़ा हिस्सा छात्रों का है जो शिक्षा के मकसद से अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, जापान, कोरिया और न्यूजीलैंड जैसे देशों में जाते हैं। प्रवासन नमूने के विश्लेषण से पता चलता है कि भारतीय पहले की तुलना में कहीं अधिक देशों में प्रवास करने लगे हैं। 2000 के दशक की शुरुआत में भारतीय अमेरिका और ब्रिटेन में अधिक प्रवास करते थे परंतु 2016 तक आते-आते यह प्रतिशत घट गया है, तथा ऑस्ट्रेलिया और जर्मनी जैसे देशों में भारत से प्रवास बढ़ गया है जिसे आप नीचे दिये गये आंकड़ो में देख सकते हैं।

भारतीयों के ओ.ई.सी.डी देशों में प्रवास के आंकड़े


जैसा कि हम आपको पहले भी बता चुके हैं कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, भारत में माइग्रेशन के साथ-साथ वीज़ा (VISA) घोटालों या वीज़ा फ्रॉड करने वालों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। फर्जी वीज़ा के माध्यम से कई लोग विदेशों में नौकरी या विदेशी वीज़ा दिलाने के नाम पर मासूम लोगों को लूट रहे हैं। हाल ही में H-1B वीज़ा धोखाधड़ी मामले में अमेरिका में 'डाइवेंसी' और 'एज़ीइमेट्री' नामक दो कंपनियों के भारतीय मालिक को वीज़ा धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। वह फर्जी दस्तावेजों की मदद से 200 विदेशी नागरिकों को H-1B वीज़ा दिलाने के आरोपी हैं। उन्हें नौकरी दिलाये बगैर वीज़ा के बदले विदेशी कर्मचारियों से लगभग 5,000 डॉलर वसूलने के लिए आरोपी ठहराया गया है।

इसी प्रकार न्यूजीलैंड में फर्जी नौकरी का प्रस्ताव दे कर वीज़ा शुल्क के लिए धन का अनुरोध करने वाले भी कई मामले सामने आए हैं। हाल ही में ऑस्ट्रेलियाई उच्चायोग ने सोमवार 20 अगस्त को दिल्ली में वीज़ा घोटालों के मामलों में भारतीयों को चेतावनी दी थी, क्योंकि 50 से ज़्यादा लोगों को ऑस्ट्रेलियाई वीज़ा के नाम पर लाखों रुपये से ठगा गया था। वहीं कुछ पीड़ितों ने बाताया कि अनाधिकृत क्लिनिक में चिकित्सा जांच के लिए उन्होंने 50,000 रुपये का भुगतान भी किया है।

दुनिया भर में कैनेडियन प्रवासन अधिकारियों को प्रवासन घोटालों का सबसे ज़्यादा सामना करना पड़ता है। वीज़ा पाने के लिये कई लोग विवाहित होने का दावा करते हैं जो कि झूठ होता है। कई लोग तो नकली पासपोर्ट और जाली नौकरी के प्रस्तावों, या पत्रकार होने का नाटक करके वीज़ा पाने की कोशिश तक करते हैं।

आज ऐसे बहुत से मामले सामने आ रहे हैं जहां विदेशों में फर्जी नौकरी दिलाने के नाम पर वीज़ा शुल्क के रूप में लोगों से लाखों रुपये की ठगी की जा रही है और कई लोग तो जाली दस्तावेजों के माध्यम से वीज़ा पाने की कोशिश तक कर रहे हैं। इसलिये यदि आपको ऐसे प्रस्ताव आते हैं तो सतर्क रहिये, किसी भी चीज़ का भुकतान करने से पहले जिस कंपनी के लिए ऑफर है, पहले उसके बारे में कुछ शोध कर लें तथा प्रवासन वीज़ा आधिकारियों से जानकारी व परामर्श लें। जानकारी के लिये हमेशा आधिकारिक वेबसाइट का ही उपयोग करें।

संदर्भ:
1.https://www.livemint.com/Politics/0b0oYL9rqcYYGwJPd96a1N/Indians-migrating-to-lesstravelled-shores-OECD.html
2.https://www.firstpost.com/long-reads/visualising-migration-which-countries-do-indians-migrate-to-and-who-migrates-to-india-3451884.html
3.https://www.thequint.com/news/india/australian-high-commission-warns-of-visa-scam-in-delhi
4.https://www.immigration.govt.nz/about-us/media-centre/news-notifications/job-offer-scams-common-in-india-and-south-asia
5.https://qz.com/india/1377844/h-1b-visa-fraud-indian-ceo-accused-of-duping-us-immigration/
6.https://economictimes.indiatimes.com/nri/visa-and-immigration/uk-launches-review-of-immigration-scandal-indians-may-be-hit/articleshow/64004223.cms



RECENT POST

  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM