क्या आप जानते हैं धृतराष्ट्र और पाण्डु की दादी, सत्यवती की कहानी?

मेरठ

 06-09-2018 03:53 PM
द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

19वीं शताब्दी के सबसे सफल कलाकारों में से एक थे राजा रवि वर्मा, जिन्होंने बिना किसी शिक्षा के अपने प्रयासों के माध्यम से यूरोपीय शैली में चित्रकारी करना सीखा था। वहीं आधुनिक भारतीय चित्रकला को जन्म देने का श्रेय भी राजा रवि वर्मा को ही जाता है, जिनके द्वारा बनाए गए मनुष्य और भगवान, दोनों के चित्र बिलकुल सजीव प्रतीत होते हैं। जल्द ही उनकी सारी प्रतियां पूरे भारतवर्ष के घरों में पहुँच गईं। इन्हीं में से एक है शांतनु और सत्यवती की प्रसिद्ध चित्रकारियां। वैसे तो शांतनु और सत्यवती की कहानी भी महाभारत का एक हिस्सा है लेकिन यह नल दमयंती की तरह प्रसिद्ध नहीं हुई, तो आइये आज आपको बताते हैं इस कहानी के बारे में –

शांतनु हस्तिनापुर के महाराज प्रतीप के पुत्र थे, जिनका विवाह गंगा से हुआ था। गंगा ने विवाह से पहले शांतनु से वचन लिया था कि शांतनु उनके किसी भी कार्य में हस्तक्षेप नहीं करेंगे। गंगा के गर्भ से महाराज शान्तनु के आठ पुत्र हुये जिनमें से सात को गंगा ने गंगा नदी में ले जा कर बहा दिया। परंतु जब वह आठवे पुत्र को नदी में बहाने के लिये ले जा रही थी तो राजा शान्तनु ने उन्हें रोक लिया और अपने पुत्र को न बहाने के लिये प्रार्थना की, यह सुन कर गंगा ने कहा, "आपने अपनी प्रतिज्ञा भंग कर दी है इसलिये अब मैं आपके पास नहीं रह सकती।" इतना कह कर गंगा अपने पुत्र के साथ अन्तर्ध्यान हो गईं। कुछ वर्षों बाद शांतनु ने गंगा के किनारे जा कर गंगा से अपने पुत्र से मिलने की विनती की, गंगा उस बालक के साथ प्रकट हो गईं और बोलीं, "राजन्! यह आपका पुत्र है तथा इसका नाम देवव्रत है”, जिन्हें आज हम महाभारत के प्रमुख पात्र भीष्म के नाम से भी जानते हैं।

तत्पश्चात् एक दिन जब शांतनु जंगल में टहलने निकले तो वहाँ वे सत्यवती की सुगंध की ओर आकर्षित हो गये। सत्यवती मछुआरों के सरदार की बेटी थी, जिसका जन्म मछली के पेट से हुआ। शांतनु द्वारा सत्यवती से शादी के प्रस्ताव रखने पर सत्यवती के पिता उनसे शादी के लिये इस शर्त में सहमत हुए कि उनकी बेटी का पहला पुत्र हस्तिनापुर के सिंहासन का उत्तराधिकारी होगा। लेकिन राजा शांतनु अपने वचन को स्वीकार करने में असमर्थ रहे क्योंकि उनके सबसे बड़े पुत्र देवव्रत सिंहासन के उत्तराधिकारी थे। हालांकि, जब देवव्रत को इसके बारे में पता चला तो अपने पिता के लिए उन्होंने मछुआरे के सरदार को यह वचन दे दिया और सिंहासन त्याग दिया और आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन करने का भी वचन दे दिया ताकि सत्यवती से पैदा होने वाली भविष्य की पीढ़ियों को भी उनके वंश द्वारा चुनौती नहीं दी जाए, उस दिन से अपनी प्रतिज्ञा के कारण वे भीष्म कहलाये और उनकी ये प्रतिज्ञा भीष्म प्रतिज्ञा के नाम से सदैव के लिये प्रख्यात हो गई।

सत्यवती और शांतनु की दो संतान हुईं जिनका नाम था चित्रसेन और विचित्रवीर्य। चित्रसेन की मृत्यु एक गन्धर्व द्वारा हुई तथा विचित्रवीर्य बीमारी के कारणवश बिना किसी संतान को अपने पीछे छोड़कर मारे गए। इसके बाद सत्यवती को ऋषि पराशर से हुए अपने पुत्र व्यास के बारे में याद आया और उन्हें याद करते ही वे उनकी आँखों के सामने प्रकट हो गए। इसके बाद सत्यवती ने व्यास से अपनी पुत्र-वधुओं को अपनाने का आग्रह किया और वे मान गए। इससे धृतराष्ट्र और पाण्डु का जन्म हुआ। इस प्रकार यदि देखा जाये तो सत्यवती धृतराष्ट्र और पाण्डु की दादी हुई।

राजा रवि वर्मा ने महाभारत के इन पात्रों की कहानी को बखूबी दर्शाया है, उन्हें देखकर ये कहा नहीं जा सकता कि ये महज़ एक कल्पना पर आधारित कलाकृतियां हैं। इन चित्रों में कहानी के पात्रों की भावनाओं को बहुत ही खूबसूरती से दर्शाया गया है।

संदर्भ :-

1. https://en.wikipedia.org/wiki/Satyavati
2. https://en.wikipedia.org/wiki/Shantanu
3. http://www.apamnapat.com/entities/Satyavati.html
4. https://nabayanroy.wordpress.com/2012/09/26/the-story-of-matsyagandha-and-rishi-parashar-and-the-birth-of-krsna-dwaipayana/



RECENT POST

  • वृक्षों का एक लघु स्वरूप 'बोन्साई '
    शारीरिक

     13-12-2018 04:00 PM


  • निरर्थक नहीं वरन् पर्यावरण का अभिन्‍न अंग है काई
    कीटाणु,एक कोशीय जीव,क्रोमिस्टा, व शैवाल

     12-12-2018 01:24 PM


  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM