आखिर क्या है इन ऊँटों के कूबड़ में?

मेरठ

 23-08-2018 01:38 PM
शारीरिक

रेगिस्तान में पाए जाने वाले ऊंट लंबे समय से बिना पानी के सप्ताह गुजारने की क्षमता के लिए जाना जाता है, उसकी इस क्षमता से वह शुष्क वातावरण में यात्रा करने वाले लोगों के लिए विशेष रूप से उपयोगी जानवर सिद्ध हुआ है, इसीलिए उनको "रेगिस्तान के जहाजों" का उपनाम प्राप्तहुआ है।हम सभी जानते हैं कि ऊंट के ऊपर के कुबड़ पानी के संग्रह के लिए होते हैं, इनकी मदद से ही वे बिना पानी के सप्ताह गुजार देते हैं। आपको बताते हैं कि हमारी ये धारणा बिल्कुल गलत है, असल में वे इस कुबड़ मे वसा(Fat) का संग्रह करते हैं।

सोचने वाली बात यह है कि वे ओर जानवरों की तरह वसा(Fat) को पुरे शरीर में समान रूप से फैलाने की बजाए कुबड़ में क्यों संग्रह करके रखते हैं? रेगिस्तान में खाद्य स्रोतों का उपलब्ध होना कई बार मुश्किल होता है, इसलिए उस वक्त भोजन तक पहुंचने में ऊंट असमर्थ हो जाता है, तभी उसका शरीर कुबड़ में जमा वसा(Fat) को पोषण में बदल कर शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है। यदि ऊंट भोजन के बिना अधिक समय गुजारता है तो उनके कुबड़ घटने और कम होने लगते हैं, लेकिन ऊंट के भोजन खाने के बाद वे फ़िर से सिधे हो जाते हैं।एक दिलचस्प बात यह है कि एक ऊंट अपनी पीठ के कुबड़ में 80पाउंड(37 किलो) वसा तक संग्रह कर सकता है।

यद्यपि कुबड़ पानी को स्टोर नहीं करते हैं,लेकिन ऊंट फ़िर भी प्रतिदिन बिना पानी के आश्‍चर्यजनक रूप से ऊर्जावान रहते हैं। वास्तव में पानी इनकीरक्त कोशिकाओं के अद्वितीय आकार में संग्रहीत होता है, जो कि अंडाकार की होती हैं। यह ऊंटो को एक बड़ी मात्रा में लगभग 30 गैलन (113 लीटर) केवल 13 मिनटों में पानी पीने के योग्‍य बनाती हैं।क्योंकि कोशिकाएं ज्यादा लोचदार होती हैं और आसानी से आकार को बदल सकती हैं। रेगिस्‍तान में पानी का दुर्लभ होना आम बात है, इस स्थिती में कोशिकाओं का यह आकार रक्त के प्रवाह में मदद करता है।

ऊंट के कुबड़ रेगिस्तान में उनके अस्तित्व के लिए अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण हैं। बिना कुबड़ के उनको अधिक गरमी व पसीने से झुलसना पड़ेगा। ऊंट समय बितने के साथ संकट में है, राजस्थान मेंऊंट कीआबादी 1990 के मध्य तक लगभग 10 लाख (1,000,000) थी। वहीं इनकी आबादी में गिरावट देखी जा सकती है,2001 में यह बात सामने आई की पुष्कर मेले में बेचे गए ऊंटो को मार कर उनकी सीमा पार तस्क़री की जा रही है।

संदर्भ :-

1. https://www.quora.com/How-can-camels-survive-so-long-without-water
2. https://animals.howstuffworks.com/mammals/camel-go-without-water1.htm
3. http://www.camelsofrajasthan.com/crisis



RECENT POST

  • लिडियन नाधास्वरम (Lydian Nadhaswaram) के हुनर को सलाम
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     21-04-2019 07:00 AM


  • अपरिचित है मेरठ की भोला बियर की कहानी
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     20-04-2019 09:00 AM


  • क्यों मनाते है ‘गुड फ्राइडे’ (Good Friday)?
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     19-04-2019 09:41 AM


  • तीन लोक का वास्तविक अर्थ
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     18-04-2019 12:24 PM


  • यिप्रेस (Ypres) के युद्ध में मेरठ सैन्य दल ने भी किया था सहयोग
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     17-04-2019 12:50 PM


  • मेरठ का खूबसूरत विवरण जॉन मरे के पुस्तक में
    भूमि प्रकार (खेतिहर व बंजर)

     16-04-2019 04:10 PM


  • पतन की ओर बढ़ता सर्कस
    द्रिश्य 2- अभिनय कला

     15-04-2019 02:37 PM


  • 'अतुल्य भारत' की एक मनोरम झलक
    द्रिश्य 1 लेंस/तस्वीर उतारना

     14-04-2019 07:20 AM


  • रामायण और रामचरितमानस का तुलनात्मक विवरण
    विचार I - धर्म (मिथक / अनुष्ठान)

     13-04-2019 07:30 AM


  • शहीद-ए-आज़म उद्धम सिंह का बदला
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     12-04-2019 07:00 AM