आखिर क्या है इन ऊँटों के कूबड़ में?

मेरठ

 23-08-2018 01:38 PM
शारीरिक

रेगिस्तान में पाए जाने वाले ऊंट लंबे समय से बिना पानी के सप्ताह गुजारने की क्षमता के लिए जाना जाता है, उसकी इस क्षमता से वह शुष्क वातावरण में यात्रा करने वाले लोगों के लिए विशेष रूप से उपयोगी जानवर सिद्ध हुआ है, इसीलिए उनको "रेगिस्तान के जहाजों" का उपनाम प्राप्तहुआ है।हम सभी जानते हैं कि ऊंट के ऊपर के कुबड़ पानी के संग्रह के लिए होते हैं, इनकी मदद से ही वे बिना पानी के सप्ताह गुजार देते हैं। आपको बताते हैं कि हमारी ये धारणा बिल्कुल गलत है, असल में वे इस कुबड़ मे वसा(Fat) का संग्रह करते हैं।

सोचने वाली बात यह है कि वे ओर जानवरों की तरह वसा(Fat) को पुरे शरीर में समान रूप से फैलाने की बजाए कुबड़ में क्यों संग्रह करके रखते हैं? रेगिस्तान में खाद्य स्रोतों का उपलब्ध होना कई बार मुश्किल होता है, इसलिए उस वक्त भोजन तक पहुंचने में ऊंट असमर्थ हो जाता है, तभी उसका शरीर कुबड़ में जमा वसा(Fat) को पोषण में बदल कर शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है। यदि ऊंट भोजन के बिना अधिक समय गुजारता है तो उनके कुबड़ घटने और कम होने लगते हैं, लेकिन ऊंट के भोजन खाने के बाद वे फ़िर से सिधे हो जाते हैं।एक दिलचस्प बात यह है कि एक ऊंट अपनी पीठ के कुबड़ में 80पाउंड(37 किलो) वसा तक संग्रह कर सकता है।

यद्यपि कुबड़ पानी को स्टोर नहीं करते हैं,लेकिन ऊंट फ़िर भी प्रतिदिन बिना पानी के आश्‍चर्यजनक रूप से ऊर्जावान रहते हैं। वास्तव में पानी इनकीरक्त कोशिकाओं के अद्वितीय आकार में संग्रहीत होता है, जो कि अंडाकार की होती हैं। यह ऊंटो को एक बड़ी मात्रा में लगभग 30 गैलन (113 लीटर) केवल 13 मिनटों में पानी पीने के योग्‍य बनाती हैं।क्योंकि कोशिकाएं ज्यादा लोचदार होती हैं और आसानी से आकार को बदल सकती हैं। रेगिस्‍तान में पानी का दुर्लभ होना आम बात है, इस स्थिती में कोशिकाओं का यह आकार रक्त के प्रवाह में मदद करता है।

ऊंट के कुबड़ रेगिस्तान में उनके अस्तित्व के लिए अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण हैं। बिना कुबड़ के उनको अधिक गरमी व पसीने से झुलसना पड़ेगा। ऊंट समय बितने के साथ संकट में है, राजस्थान मेंऊंट कीआबादी 1990 के मध्य तक लगभग 10 लाख (1,000,000) थी। वहीं इनकी आबादी में गिरावट देखी जा सकती है,2001 में यह बात सामने आई की पुष्कर मेले में बेचे गए ऊंटो को मार कर उनकी सीमा पार तस्क़री की जा रही है।

संदर्भ :-

1. https://www.quora.com/How-can-camels-survive-so-long-without-water
2. https://animals.howstuffworks.com/mammals/camel-go-without-water1.htm
3. http://www.camelsofrajasthan.com/crisis



RECENT POST

  • विज्ञान का एक अद्वितीय स्‍वरूप जैव प्रौद्योगिकी
    डीएनए

     11-12-2018 01:09 PM


  • पौधों के नहीं बल्कि मानव के ज़्यादा करीब हैं मशरूम
    फंफूद, कुकुरमुत्ता

     10-12-2018 01:18 PM


  • रेडियो का आविष्कार और समय के साथ उसका सफ़र
    संचार एवं संचार यन्त्र

     09-12-2018 10:00 PM


  • सर्दियों में प्रकृति को महकाती रहस्‍यमयी एक सुगंध
    व्यवहारिक

     08-12-2018 01:18 PM


  • क्या कभी सूंघने की क्षमता भी खो सकती है?
    गंध- ख़ुशबू व इत्र

     07-12-2018 12:03 PM


  • क्या है गुटखा और क्यों हैं इसके कई प्रकार भारत में बैन?
    व्यवहारिक

     06-12-2018 12:27 PM


  • मेरठ की लोकप्रिय हलीम बिरयानी का सफर
    स्वाद- खाद्य का इतिहास

     05-12-2018 11:58 AM


  • इतिहास को समेटे हुए है मेरठ का सेंट जॉन चर्च
    उपनिवेश व विश्वयुद्ध 1780 ईस्वी से 1947 ईस्वी तक

     04-12-2018 11:23 AM


  • प्राचीन समय में होता था नक्षत्रों के माध्यम से खगोलीय घटनाओं का पूर्वानुमान
    जलवायु व ऋतु

     03-12-2018 05:15 PM


  • अफ्रीका की जंगली भैंसे
    स्तनधारी

     02-12-2018 11:50 AM