Machine Translator

विश्व के विभिन्न देशों की हैं विभिन्न शिक्षा प्रणाली

मेरठ

 07-08-2018 02:22 PM
विचार 2 दर्शनशास्त्र, गणित व दवा

किसी देश का विकास और उसका भविष्‍य वहां की शिक्षा प्रणाली पर निर्भर करता है, क्योंकि देश की उन्नति तथा अर्थव्यवस्था को सुचारू से चलाने के लिए प्रत्‍येक नागरिक ज़िम्मेदार होता है। सभी देशों की अपनी शिक्षा प्रणाली होती है किंतु यह कहना मुश्किल है कि कौन सी प्रणाली बेहतर है क्‍योंकि प्रत्‍येक के अपने फायदे और कमियां होती हैं। यदि किसी भी देश की शिक्षा प्रणाली की तुलना अन्‍य देश से करते हैं, तो वहां अवश्‍य ही कुछ समानताएं और कुछ भिन्‍ताएं देखने को मिलेंगी।

भारत की शिक्षा प्रणाली पाश्चात्य -- अर्थात औपनिवेशिक काल की शिक्षा प्रणाली से ली गयी है। आधुनिक युग की भारतीय शिक्षा में हाल में विभिन्न परिवर्तन देखे जा हैं, जैसे ई-लर्निंग (E-learning) व पाठ्यक्रम में परिवर्तन। भारत में शैक्षिक विभाजन व्यापक रूप से निम्नलिखित श्रेणियों में किया गया है: पूर्व प्राथमिक, प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च माध्यमिक, स्नातक, एवं स्नातकोत्तर है, तथा यहाँ 10+2+3 पैटर्न का अनुसरण होता है। इसमें और अन्य देशों में साधारणत: अंतर है।

अमरीका तीन स्तर पैटर्न का पालन करता है: प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च विद्यालय, और उसके बाद कॉलेज। जर्मनी में शैक्षिक विभाजन के मुख्य चरण प्री-स्कूल, प्राथमिक स्तर, और माध्यमिक स्तर की शिक्षा हैं, तथा युनाइटेड किंग्डम अथवा यू के (UK) में शैक्षिक विभाजन चार मुख्य भागों: प्राथमिक, माध्यमिक, भावी शिक्षा और उच्च शिक्षा में किया गया है।

भारत की शिक्षा प्रणाली इन देशों की शिक्षा प्रणाली से काफ़ी बिन्दुओं पर भिन्न है। भारतीय शिक्षा सिध्दांतो पर अधिक केंद्रित है, और यहाँ का शैक्षिक मानक ऊंचा है। इसके विपरीत, विदेशों में, वे व्यावहारिक कौशल पर अधिक ध्यान देते हैं। जर्मनी में खासकर, व्यापक शिक्षा एवं व्यक्तिगत कौशल योग्यता पर अधिक ध्यान दिया जाता है। अमरीका में सार्वजनिक या ‘पब्लिक’ सस्कूलों को बेहतर बुनियादी ढांचे के साथ अच्छी तरह से बनवाया जाता है, और आधारिक संरचना अच्छे से अनुरक्षित है, परन्तु भारत के अधिकांश सरकारी स्कूल की स्थिति खराब बनी हुई है। भारत में हर स्तर को पार करने के लिए बच्चों का इम्तेहान देना होता है, और अमरीका में छोटे क्लासों में परीक्षा नहीं होती; परन्तु इस हिसाब से, हर स्तर पर पूर्व क्लास से क्रमश: प्रगति है।

अतः विभिन्‍न शिक्षा प्राणालियों का विश्‍लेषण करके हम इस निश्‍कर्ष पर पहुंचते हैं कि हम उन शिक्षा प्रणालियों की विशेषताओं को एकत्रित कर अपनी शिक्षा प्रणाली में कुछ परिवर्तन लाने तथा आधुनिकता के साथ जोड़ने पर चर्चा कर सकते हैं।

संदर्भ:
1.चित्र: Designed by Freepik
2.http://www.hometuitionbangalore.com/blogs/difference-between-indian-and-us-education-system
3.http://pezzottaitejournals.net/pezzottaite/images/ISSUES/V4N3/IJASMPV4N304.pdf
4.http://www.studyin-uk.in/uk-study-info/uk-india-education-systems/
5.https://www.quora.com/What-is-the-difference-between-studying-in-India-and-studying-in-any-other-place-like-the-US-UK-Australia



RECENT POST

  • राजनीतिक रूप से अभिरेखन का है अधिक लंबा और विवादास्पद इतिहास
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     06-06-2020 10:40 AM


  • क्या चक्रवात अम्फान है, ऊष्मा लहरों का कारण
    जलवायु व ऋतु

     05-06-2020 10:35 AM


  • मेरठ शहर और 120 साल पुराने शिकारी खेल में है, अनोखा सम्बन्ध
    हथियार व खिलौने

     04-06-2020 02:30 PM


  • इंडो पार्थियन युग के जीवन को दर्शाते हैं राजा गोंडोफेरस के सिक्के
    धर्म का उदयः 600 ईसापूर्व से 300 ईस्वी तक

     03-06-2020 03:10 PM


  • क्या है, हमारे जीवन में कीटों का महत्व ?
    तितलियाँ व कीड़े

     02-06-2020 10:50 AM


  • विभिन्न उद्यमों ने किया है सरकार से मजबूत राहत पैकेज का अनुरोध
    नगरीकरण- शहर व शक्ति

     01-06-2020 11:25 AM


  • बाम्बिनो नामक लड़के की प्यारी सी कहानी है, ला लूना
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     31-05-2020 11:50 AM


  • एक मार्मिक चित्र जिसने 1857 की क्रांति के दमन को दर्शाया
    द्रिश्य 3 कला व सौन्दर्य

     30-05-2020 09:25 AM


  • आज भी आवश्यकता है एक प्राचीन रोजगार “नालबंद” की
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     29-05-2020 10:20 AM


  • भारत के पश्तून/पठानों का इतिहास
    सिद्धान्त 2 व्यक्ति की पहचान

     28-05-2020 09:40 AM






  • © - 2017 All content on this website, such as text, graphics, logos, button icons, software, images and its selection, arrangement, presentation & overall design, is the property of Indoeuropeans India Pvt. Ltd. and protected by international copyright laws.